Home /News /business /

Budget 2022: बड़े स्टॉक मार्केट घोटाले से हुआ था बजट का जन्म, Newton से भी है खास रिश्ता, दिवालिया हो गए थे कई बैंक

Budget 2022: बड़े स्टॉक मार्केट घोटाले से हुआ था बजट का जन्म, Newton से भी है खास रिश्ता, दिवालिया हो गए थे कई बैंक

1750 के दशक तक ब्रिटिश संसद में सालाना बजट की नियमित प्रथा बन गई.

1750 के दशक तक ब्रिटिश संसद में सालाना बजट की नियमित प्रथा बन गई.

Budget Trivia Stock Market Scam : बजट का जन्म स्टॉक मार्केट के एक बड़े घोटाले से हुआ था. इस संकट को साउथ सी बबल भी कहा जाता है. कहानी इंग्लैंड से शुरू होती है.

Budget Trivia : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी, 2022 को बजट 2022 पेश करने वाली हैं. उद्योग जगत से लेकर आम लोगों तक को इस बजट से काफी उम्मीदे हैं. लेकिन, क्या आप जानते हैं कि बजट (Budget) शब्द कहां से आया? इसका इतिहास (History) क्या है? कैसे इसकी पैदाइश हुई? कैसे एक बड़े घोटाले (संकट) ने इसे जन्म दिया? इंग्लैंड के महान वैज्ञानिक Sir Isaac Newton से इस बड़े संकट और बजट का क्या खास रिश्ता है?

…तो आइए इन सबके बारे में जानने के लिए इतिहास के उन पन्नों को परत-दर-परत खोलते हैं, जिससे हम उस बड़े घोटाले (Scam) के साथ बजट शब्द की पैदाइश और Newton से खास रिश्ते की बारीकियों को जानेंगे। यह भी समझेंगे कि किस देश से इसकी कहानी शुरू हुई? कैसे एक मशहूर कार्टून (Cartoon) ने इस शब्द को जन्म दिया?

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार आपको देगी 10 हजार रुपये, फायदा उठाने के लिए घर बैठे करना होगा बस ये काम

…तो कुछ यूं शुरू होता है किस्सा
दरअसल, आज के बजट का जन्म स्टॉक मार्केट (Stock Market) के एक बड़े संकट (Crisis) या यूं कहिए कि घोटाले से हुआ था. इस संकट को साउथ सी बबल (South See Bubble) भी कहा जाता है. कहानी इंग्लैंड (England) से शुरू होती है. साल 1720 की बात है, जब इंग्लैंड का स्टॉक मार्केट उफान पर था. तमाम तरह के अटकलों से स्टॉक मार्केट सरपट दौड़ता ही जा रहा था.

इसकी जड़ में एक कंपनी थी, जिसका नाम साउथ सी (South See Company) था. 1711 में लैटिन अमेरिका (Latin America) में कारोबार शुरू करने के लिए इस कंपनी की नींव रखी गई थी. कंपनी का असली कारोबार था तो काफी सीमित, लेकिन रिटर्न (Return) की गारंटी, राजा यानी किंग जॉर्ज (King Geroge) की भागीदारी और कीमतों में झोलझाल के कारण इसके स्टॉक आसमान पर पहुंच गए.

साल 1720 के जनवरी महीने में साउथ सी के जिस स्टॉक की कीमत (South See Stock Price) 124 पौंड थी, वह अगस्त तक कुलांचे भरता हुआ 1000 पैंड पर पहुंच गया. हालांकि, तेजी का यह दौर लंबा नहीं चला. कुछ दिन के भीतर ही साउथ सी कंपनी का स्टॉक धड़ाम से गिरकर वापस 124 पैंड पर आ गया.

इसके गिरते ही कई लोग बर्बाद हो गए. तबाह हो गए. कई बैंक दिवालिया हो गए. मामला इंग्लैंड के लिए एक राष्ट्रीय संकट (National Crisis) बन गया. इसने Sir Isaac Newton को भी तबाह कर दिया क्योंकि उन्होंने साउथ सी के स्टॉक में 22000 पौंड लगाए थे. जब स्टॉक धाराशायी हुआ तो उन्हें 20000 पौंड का नुकसान हुआ. आज यह रकम 35 लाख पौंड से ज्यादा है. आर्थिक नुकसान से परेशान Sir Isaac Newton ने तभी कहा था… वे सितारों की गणना कर सकते हैं, लेकिन लोगों के पागलपन की नहीं।

ये भी पढ़ें- म्यूचुअल फंड और सोने से भी ज्यादा रिटर्न देगी चांदी, 36 महीने में हो सकते हैं मालामाल

…और The Budget Open
इंग्लैंड को इस संकट से निकालने का जिम्मा तत्कालीन प्रधानमंत्री रॉबर्ट वॉलपोल (Prime Minister Robert Walpole) ने उठाया. उन्हें वहां की संसद को बार-बार देश के कर्ज और कमाई आदि की जानकारी देनी पड़ी. मामला यहां तक पहुंच गया कि 1733 में उन्होंने शराब और तंबाकू पर टैक्स लगा दिया. लोग इससे बिफर पड़े. तभी एक मशहूर कार्टून आता है. इसमें प्रधानमंत्री वॉलपोल को दवा की एक थैली खोलते हुए दिखाया गया था. जिसका कैप्शन था…द बजट ओपन (The Budget Open).

ये भी पढ़ें- Traffic Challan New Rule : कार चलाते वक्त फोन पर बात कर रहे हैं तो नहीं कटेगा चालान, जानें क्या हैं ट्रैफिक रूल्‍स

बोगेट से निकला बज यानी चमड़े का केस
दरअसल, बज (Budge) शब्द का इस्तेमाल बैग (Bag) के लिए किया जाता है. इसकी पैदाइश फ्रेंच (French Word) शब्द बोगेट (Bouget) से हुई है, जिसका मतलब है चमड़े का केस. उस समय विपक्षी सांसद विलियम पुल्टेनी (William Poultaney) ने भी ‘द बजट ओपन’ नामक पैम्फलेट के जरिये इस नए टैक्स प्रपोजल का जोरदार विरोध किया. आखिरकार वॉलपोल को अपना प्रस्ताव वापस लेना पड़ा.

ये भी पढ़ें- Tax Saving : ELSS में करते हैं निवेश तो अधिकतम कितना बचा सकते हैं टैक्स? जानें पूरी कैलकुलेशन

तब से इस्तेमाल होने लगा बजट
विरोध के कारण यह टैक्स प्रपोजल भले ही टल गया, लेकिन बजट शब्द तब से नियमित रूप से इस्तेमाल होने लगा. हालांकि, यह साफ नहीं है कि इसके तुरंत बाद ही सरकारी खातों के सालाना विवरण के रूप में बजट की स्थापना की गई या नहीं. लेकिन, 1750 के दशक तक ब्रिटिश संसद में सालाना बजट की नियमित प्रथा बन गई. बस यही है आज के बजट के पैदाइश की कहानी. समय के साथ इसके आगे बढ़ने के किस्से और भी हैं.

Tags: Budget, Finance minister Nirmala Sitharaman, Stock Markets, Trivia

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर