5 आसान उपायों से बनाएं अपना बजट

अपनी ज़रूरत को समझना, बज़ट बनाने के लिए सबसे पहला और जरूरी कदम है.

अपनी ज़रूरत को समझना, बज़ट बनाने के लिए सबसे पहला और जरूरी कदम है.

आप जो भी बजट बनाते हों उनमें बचत की गुंजाइश होनी चाहिए. चाहे बचत छोटी ही क्यों न हो.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 6:59 PM IST
  • Share this:

क्या महीने के अंत तक आपके हाथ खाली हो जाते हैं? क्या आप बढ़ते कर्ज से परेशान हैं? अगर

ऐसा है तो जिन्दगी जीने के ढंग में बदलाव लाने का यह सही समय है. शुरुआत बजट बनाने से करें.

इससे आपको अपनी कमाई और खर्च को समझने में मदद मिलेगी और आप अपनी वित्तीय स्थिति

पर फिर से नियंत्रण रख पाएंगे.
इन पांच उपायों को अपनाकर आप अपने लिए व्यावहारिक और काम का बजट बना सकते हैं.

1. अपने लक्ष्यों को पहचानें और सही टूल का इस्तेमाल करें

अपनी ज़रूरत को समझना, बज़ट बनाने के लिए सबसे पहला और जरूरी कदम है. तय करें कि



आप बजट से क्या पाना चाहते हैं. इसके बाद, अपने लक्ष्यों को प्राथमिकता के हिसाब से तय करें.

आपकी प्राथमिकता क्रेडिट कार्ड का बिल चुकाना या निवेश के लिए पर्याप्त बचत करना हो सकता

है. समृद्धि पाने के लिए जानना जरूरी है कि आपके पास क्या है और आप क्या पाना चाहते हैं.

अपनी स्थिति को समझने के बाद, कमाई और खर्च पर नजर रखने के लिए, जरूरी टूल पर विचार

करें. यह शेयर करने लायक ऑनलाइन शीट हो सकती है, आपके बैंक का कोई ऐप्लिकेशन हो

सकता है या पुराने जमाने का बही-खाता भी हो सकता है.

2. शुरुआत कहां से करें?

जानें कि आपकी असल कमाई कितनी है? गणना करें कि टैक्स की कटौती के बाद खर्च करने के

लिए आपके पास कितनी रकम बचती है. यह पहला चरण है जहां अपनी आमदनी को जानना

आसान होगा. बजट बनाते समय सिर्फ़ उस कमाई को ध्यान में रखें जिसके आने की संभावना

ज्यादा हो. बेहतर होगा कि सालाना होने वाली उन कमाई को न जोड़ें जो निश्चित नहीं हैं.

3. अपने खर्चों पर नजर रखें

हर महीने होने वाले ज़रूरी खर्च को लिखें. इनमें सदस्यता शुल्क, किराने का सामान, और बिजली,

पानी, सफ़ाई जैसे यूटिलिटी खर्चे शामिल हो सकते हैं. अगर आपके पास तीन महीने के खर्च का

हिसाब है तो आप सालभर में होनेवाले खर्च का अनुमान लगा सकते हैं. संतुलित बजट बनाने के

लिए, बड़े खर्च (जैसे कि घर या कार जैसे बड़ा खर्च) और छोटे खर्च जैसे कि आने-जाने का खर्च,

मैनिक्योर और दूसरे जरूरी खर्च को भी शामिल करें.

4. अपने भविष्य को सुरक्षित करने और बचत के लिए आसान तरीके अपनाएं

आदर्श स्थिति में, आप जो भी बजट बनाते हों उनमें बचत की गुंजाइश होनी चाहिए. चाहे बचत

छोटी ही क्यों न हो. HDFC Life Click2Wealth Policy* जैसे कई फ़ायदों वाले जीवन बीमा में

अपनी बचत जमा करना एक इनोवेटिव विकल्प है. इसमें आप अपनी सुविधा के हिसाब से हर

महीने, हर तीन महीने पर, हर छह महीने पर, साल में एक बार या फिर एकमुस्त पूरी रकम जमा

कर सकते हैं. इस बीमा में निवेशक को कई तरह के रिटर्न मिलते हैं. इस पर लगने वाला शुल्क कई

म्युचुअल फंड से कम है. यह बचत और कमाई का बढ़िया तरीका है जिसमें टैक्स में छूट के साथ ही

जीवन बीमा का कवर भी मिल जाता है.

इसके कुछ खास फ़ायदों में शामिल हैं:

अनलिमिटेड फ्री फंड स्विच और प्रीमियम रिडायरेक्शन

Maturity1 पर मॉर्टैलिटी शुल्क का रिटर्न

पहले पांच साल में खास एडिशन जैसे कि 101% प्रमियम का एलोकेशन.

1 दिन में क्लेम का निपटारा, ज़्यादा जानें

वित्त वर्ष 2019-20 में 99.07% क्लेम का निपटारा. क्लेम

5. ट्रैक पर रहने के लिए समय-समय पर समीक्षा करें

यह जरूरी है कि आप खर्च में कटौती और बचत के लिए अपनी तरफ से सभी जरूरी तरीके

अपनाएं. साथ ही, होने वाले आकस्मिक खर्चों के लिए भी पैसे बचाकर रखें. बजट बनाने के बाद,

उसे अमल में लाना सबसे जरूरी कदम है. हर तीन महीने में कम से कम एक बार अपने खर्च और

अपने बजट की समीक्षा करें. पहले तीन महीने का बजट परफेक्ट नहीं होने पर कमियों को दूर करें.

अपने खातों को समझना सीखें और उन चीजों को ठीक करें जो सही से काम नहीं कर रही हैं.

अब बजट बनाने में देरी न करें. अपनी वित्तीय स्थिति को फिर से पटरी पर लाने का यह सही

समय है. ऐसा करके आप अपने भविष्य को स्थिर और सुरक्षित बना पाएंगे.

शुभकामनाएं!

*HDFC Life Click 2 Wealth एक यूनिट लिंक, नन पार्टिसिपेटिंग जीवन बीमा है. यह मार्केट

लिंक रिटर्न देती है. यह आपके साथ-साथ आपके परिवार को भी जरूरी वित्तीय सुरक्षा प्रदान

करती है. ज़्यादा जानने के लिए यहां क्लिक करें

(यह एक पार्टनर पोस्ट है)

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज