लाइव टीवी

संकट में पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन! उद्धव ठाकरे ने लगाई रोक, अब तक खर्च हुए इतने हजार करोड़

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: February 5, 2020, 12:26 PM IST
संकट में पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन! उद्धव ठाकरे ने लगाई रोक, अब तक खर्च हुए इतने हजार करोड़
संकट में पीएम मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन

आरटीआई (RTI) से मिली जानकारी के अनुसार दिसम्बर 2019 तक बुलेट ट्रेन (Bullet Train) के प्रोजेक्ट पर 6247 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2020, 12:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बुलेट ट्रेन (Bullet Train) को लेकर महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav thackeray) के बयान ने बड़ा झटका दिया है. सबसे ज्यादा झटका गुजरात (Gujarat) और मुम्बई (Mumbai) वालों को लगा है, जो बुलेट ट्रेन से यात्रा करने का ख्वाब देख रहे थे. लेकिन सीएम ठाकरे का कहना है कि वह इस प्रोजेक्ट पर निर्णय तभी लेंगे, जब उन्हें विश्वास हो जाएगा कि इससे राज्य के औद्योगिक विकास को बढ़ावा मिलेगा. वहीं दूसरी ओर बुलेट ट्रेन पर गुजरात के डिप्टी सीएम नितिन पटेल ने कहा है कि यह किसी राज्य का प्रोजेक्ट नही,यह राष्ट्रीय प्रोजेक्ट है. जबकि आरटीआई (RTI) से मिली जानकारी के अनुसार दिसम्बर 2019 तक बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट पर 6247 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं.

RTI के मुताबिक इतना चल चुकी है बुलेट ट्रेन

कुछ दिन पहले ही नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड से आरटीआई में मिली जानकारी के मुताबिक बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट की कुल लागत 1.08 लाख करोड़ रुपये है. जिसमे से दिसम्बर 2019 तक 6247 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं. जबकि यह प्रोजेक्ट साल 2023 तक पूरा होना है. मुम्बई से अहमदाबाद के बीच चलने वाली यह बुलेट ट्रेन कुल 508 किमी की दूरी को तय करेगी. इस दूरी को तय करने और यात्रियों की सुविधा के लिए 24 ट्रेन चलाई जाएंगी. इसके बीच में आने वाले 1.17 लाख पेड़ों को काटा और हटाया जाएगा. 178 पेड़ ऐसे भी होंगे जिन्हें दूसरी जगह से हटाया जाएगा.

बुलेट ट्रेन के इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए 297 गांवों की कुछ ज़मीन ली जाएगी. जिसमे से 281 गांवों के बीच से ज़मीन की नापतौल हो चुकी है. वहीं 715 हेक्टेयर ज़मीन का अधिग्रहण भी हो चुका है.

(File Photo)


बुलेट ट्रेन को लेकर इसलिए नाराज़ है सीएम उद्धव ठाकरे

सीएम उद्धव ठाकरे ने मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की तुलना 'सफेद हाथी' से की है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह इस प्रोजेक्ट पर निर्णय तभी लेंगे, जब उन्हें विश्वास हो जाएगा कि इससे राज्य के औद्योगिक विकास को बढ़ावा मिलेगा. यही नहीं उद्धव ठाकरे ने बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का काम भी रोक दिया है. रोजगार का हवाला देते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि पहले हम इस पर चर्चा करेंगे इसके बाद ही कोई फैसला करेंगे. शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' को दिए इंटरव्यू के दूसरे हिस्से में सीएम ने कहा कि राज्य को केंद्र कोष से उसका 'सही हिस्सा' नहीं मिल रहा है, जिससे किसानों की मदद की जा सके.
बुलेट ट्रेन के लिए अब तक क्या-क्या हुआ.


'बिना कारण किसानों की जमीन लेना ठीक नहीं'

'सामना' के कार्यकारी संपादक संजय राउत को दिए इंटरव्यू में ठाकरे ने कहा कि राज्य की आर्थिक स्थिति देखते हुए विकासात्मक परियोजनाओं की प्राथमिकता तय की जानी चाहिए. उन्होंने कहा, 'हमें देखना होता है कि जरूरी क्या है, बस केवल इस आधार पर कुछ भी नहीं किया जा सकता कि हमें शून्य ब्याज या कम ब्याज पर ऋण मिल रहा है. बिना किसी कारण किसानों की जमीन लेना सही नहीं है.'

सीएम उद्धव के बयान पर यह बोले गुजरात के डिप्टी सीएम

बुलेट ट्रेन को लेकर उद्धव ठाकरे के बयान के बाद गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा यह किसी राज्य का प्रोजेक्ट नही, यह राष्ट्रीय प्रोजेक्ट है. पटेल ने यह भी कहा कि उम्मीद करता हूं ठाकरे विशेषज्ञों से बातचीत करके इस प्रोजेक्ट के बारे में सोचेंगे. पटेल ने यह भी कहा मुम्बई देश की आर्थिक राजधानी है साथ ही में गुजरात महाराष्ट्र के तो पुराने रिश्ते है. ऐसे मैं यह समय की मांग है कि ऐसे प्रोजेक्ट देश हित में हो.

ये भी पढ़ें- 

Exclusive:आसमान में जाम हो गए थे बंगाल की खाड़ी में गिरे AN-32 एयरक्राफ्ट के कंट्रोल सिस्टम!

नागपुर रेलवे स्टेशन पर चूहे पकड़ने के लिए हर दिन 166 कर्मचारियों की तैनाती, खर्च होते हैं 1.45 लाख रुपये

सरकार के पास नहीं बाघ-मोर को राष्ट्रीय पशु-पक्षी बताने वाले दस्तावेज, उठाया यह कदम

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 5, 2020, 11:56 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर