अपना शहर चुनें

States

विरोध के बीच MSP पर खरीफ फसलों की बंपर खरीद, 30 लाख किसानों को मिले 59 हजार करोड़ रुपये से ज्‍यादा

किसानों ने कहा कि उनका आंदोलन जारी रहेगा
किसानों ने कहा कि उनका आंदोलन जारी रहेगा

कृषि मंत्रालय (Agriculture Ministry) के आंकड़ों के मुताबिक, धान (Paddy) के अलावा तमिलनाडु, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान और हरियाणा से 29 नवंबर तक 540.9

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 1, 2020, 8:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों (New Farm Law) को लेकर सिंघु और टिकारी सीमा पर किसानों का विरोध-प्रदर्शन (Farmers' Protest) जारी है. इससे ना सिर्फ मुसाफिरों का आवागमन प्रभावित हुआ है बल्कि सड़क के रास्ते पंजाब, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के लिए ट्रांसपोर्टेशन (Transportations) पर भी असर देखने को मिल रहा है. वहीं पंजाब (Punjab) के किसानों से एमएसपी पर फसलों की जबरदस्त खरीद (Crop Procurement on MSP) की जा रही है. कृषि मंत्रालय (Ministry of Agriculture) के आंकड़ों के मुताबिक, खरीफ मार्केटिंग सीजन 2020-21 के लिए पंजाब, हरियाणा समेत कई राज्यों में धान की खरीद की जा रही है. अब तक कुल 316.93 लाख मीट्रिक टन धान खरीदा जा चुका है.

पंजाब से एमएसपी पर 64 फीसदी धान की हुई खरीद
पंजाब के किसान प्रदेश के विभिन्‍न हिस्सों के अलावा सिंघु और टिकारी सीमा पर डटे हुए हैं. वहीं, दूसरी तरफ 29 नवंबर तक देशभर में किसानों से एमएसपी पर कुल 316.93 लाख एमटी धान की खरीद हो गई है. पिछले साल के मुकाबले यह खरीद 18.60 फीसदी ज्‍यादा है. पिछले साल किसानों से 267.22 लाख एमटी धान की खरीद की गई थी. अब तक खरीदे गए धान में से 63.97 फीसदी यानि 202.74 लाख एमटी अकेले पंजाब के किसानों से खरीदा गया है. पंजाब के अलावा हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, यूपी, तमिलनाडु,ओडिशा, महाराष्ट्, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, उत्तराखंड, चंडीगढ़, गुजरात और केरल के किसानों से भी एमएसपी पर धान की खरीद की गई है. केंद्र सरकार के मुताबिक, धान की खरीद के लिए 2,953,000 लाख किसानों को 59837.31 करोड़ रुपये मूल्य का भुगतान किया जा चुका है.


ये भी पढ़ें- भूल कर भी ना करें ये गलती, नहीं तो आपके पेरेंट्स को आएगा इनकम टैक्‍स नोटिस



एमएसपी पर इन फसलों की भी खरीद जारी
केंद्र ने अपनी नोडल एजेंसियों के जरिये तमिलनाडु, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान और हरियाणा से 29 नवंबर तक 540.92 करोड़ रुपये मूल्य की 1,00,429.81 एमटी मूंग, उड़द, मूंगफली और सोयाबीन की खरीद की है. इससे कुल 57,956 किसानों को सीधे फायदा मिला है. इसी तरह कर्नाटक और तमिलनाडु के 3,961 किसानों से 52.40 करोड़ रुपये मूल्य का 5,089 एमटी कोपरा भी खरीद गया है. राज्यों से मिले प्रस्तावों के मुताबिक तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना, गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान और आंध्र प्रदेश से प्राइस सपोर्ट स्कीम के तहत खरीफ मार्केंटिंग सीजन के लिए 45.24 लाख एमटी दाल और ऑयल शीड की खरीदारी की मंजूरी दी गई है.

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार की बड़ी सफलता! गूगल, फेसबुक, ट्विटर भारत में ही रखेंगे आपका डाटा, इस शहर में बनेगा यूपी का पहला सेंटर

एमएसपी पर कपास की बंपर खरीदारी जारी
एमएसपी व्यवस्था के तहत पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, तेलंगाना, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, कर्नाटक और मध्य प्रदेश से कपास की खरीद की जा रही है. ताजा आंकडों के मुताबिक, 29 नवंबर 2020 तक 5,65,591 किसानों से 8,286.91 लाख रुपये मूल्य का 28,16,255 बेल्स कपास खरीदा जा चुका है. आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल से 1.23 लाख एमटी कोपरा (सूखा नारियल) की खरीद को भी मंजूरी दी जा चुकी है. राज्यों से प्रस्ताव आने के बाद दालें, ऑयलशीड और कोपरा की खरीद की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज