Home /News /business /

कोरोना संकट के बीच चीनी का हुआ बंपर उत्‍पादन! 15 दिसंबर तक 61 फीसदी बढ़कर पहुंचा 73 लाख टन से ज्‍यादा

कोरोना संकट के बीच चीनी का हुआ बंपर उत्‍पादन! 15 दिसंबर तक 61 फीसदी बढ़कर पहुंचा 73 लाख टन से ज्‍यादा

(सांकेतिक तस्वीर)

(सांकेतिक तस्वीर)

निजी मिलों के मंच भारतीय चीनी मिल संघ (ISMA) ने बताया कि महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में पेराई जल्‍दी शुरू होने के कारण 15 दिसंबर 2020 तक ज्‍यादा चीनी उत्पादन (Sugar Production) हो गया है. वहीं, चालू विपणन सत्र में गन्‍ने की पैदावार भी ज्‍यादा हुई है. साथ ही बताया कि अक्टूबर 2020 से अब तक करीब 2.5-3 लाख टन चीनी का निर्यात (Sugar Export) हो चुका है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. कोरोना संकट के बीच भारत का चीनी उत्पादन चालू विपणन वर्ष (Marketing Year) में 15 दिसंबर 2020 तक 61 फीसदी बढ़ोतरी के साथ 73.77 लाख टन रहा. चीनी मिलों (Sugar Mills) के लिए चालू विपणन वर्ष अक्टूबर 2020 में शुरू हो गया था. गन्‍ने का ज्‍यादा उत्पादन और महाराष्ट्र में चीनी मिलों के जल्दी पेराई शुरू करने से चीनी उत्पादन (Sugar Production) का स्तर इस साल काफी ऊंचा रहा है. इस दौरान उत्‍तर प्रदेश, कर्नाटक और महाराष्‍ट्र में पिछले साल के मुकाबले उत्‍पादन में बढ़ोतरी दर्ज की गई है.

    महाराष्‍ट्र की चीनी मिलों ने किया तीन गुना से ज्‍यादा चीनी उत्‍पादन
    निजी मिलों के मंच भारतीय चीनी मिल संघ (ISMA) ने बताया कि विपणन वर्ष 2020-21 (अक्टूबर 2020-सितंबर 2021) में 15 दिसंबर 2020 तक 73.77 लाख टन चीनी का उत्पादन किया जा चुका है. पिछले वर्ष की समान अवधि में 45.81 लाख टन चीनी का उत्‍पादन हुआ था. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में उत्पादन पिछले साल इसी अवधि के दौरान 21.25 लाख टन रहा था, जो इस साल बढ़कर 22.60 लाख टन हो गया है. महाराष्ट्र (Maharashtra) में उत्पादन पिछले साल के 7.66 लाख टन के मुकाबले इस साल तीन गुना से ज्‍यादा 26.96 लाख टन रहा है.

    ये भी पढ़ें- आम आदमी के लिए राहत! अगले साल तक नहीं बढ़ेगी प्‍याज की कीमत, केंद्र ने उठाया बड़ा कदम

    अक्‍टूबर 2020 से अब तक हो चुका 3 लाख टन चीनी का निर्यात
    इस्मा ने कहा कि महाराष्‍ट्र में पेराई जल्‍दी शुरू होने के कारण 15 दिसंबर तक ज्‍यादा चीनी उत्पादन हुआ है. वहीं, चालू सत्र में गन्‍ने की पैदावार (Sugarcane Crop) भी ज्‍यादा हुई है. कर्नाटक (Karnataka) में चीनी का उत्पादन पहले के 10.62 लाख टन के मुकाबले इस बार 16.65 लाख टन तक पहुंच गया है. इस्‍मा के मुताबिक, अक्टूबर 2020 से अब तक करीब 2.5-3 लाख टन चीनी का निर्यात (Sugar Export) हो चुका है. यह निर्यात वर्ष 2019-20 के कोटे के तहत माना जाएगा, क्योंकि पिछले साल की निर्यात नीति का विस्तार दिसंबर 2020 तक किया गया है.



    ये भी पढ़ें- केंद्र की बड़ी घोषणा! 2 साल में देशभर से खत्‍म कर दिए जाएंगे टोल प्‍लाजा, जानें कैसे वसूली करेगी सरकार

    इस्‍मा को नए चीनी निर्यात लक्ष्‍य को हासिल करने का है भरोसा
    निजी चीनी मिलों के संगठन ने कहा कि मिलों ने वर्ष 2019-20 के लिए 60 लाख टन चीनी निर्यात का लक्ष्य पूरी तरह से हासिल कर लिया है. अब केंद्र सरकार ने नए चीनी निर्यात कार्यक्रम की घोषणा की है. इस बार भी चीनी उद्योग से पिछले साल की तरह शानदार प्रदर्शन करने की उम्मीद है. इस्‍मा इंडोनेशिया और मलेशिया जैसे आयातक देशों की मांग को देखते हुए 60 लाख टन चीनी निर्यात का लक्ष्य हासिल करने को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त है. सरकार ने बुधवार को गन्‍ना किसानों को बकाया राशि का भुगतान करने में मदद करने के लिए चीनी मिलों को चालू विपणन वर्ष 2020-21 में 60 लाख टन चीनी निर्यात के लिए 3,500 करोड़ रुपये की सब्सिडी को मंजूरी दी है.undefined

    Tags: Business news in hindi, Karnataka, Maharashtra, Sugar mill, Sugar prices, Sugarcane Farmer, Uttar pradesh news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर