लाइव टीवी

पुरानी गाड़ियों के जरिए आप भी कर सकते हैं कमाई, ये है मोदी सरकार की नई योजना

News18Hindi
Updated: October 16, 2019, 2:44 PM IST
पुरानी गाड़ियों के जरिए आप भी कर सकते हैं कमाई, ये है मोदी सरकार की नई योजना
पुरानी गाड़ियों के जरिए आप भी कर सकते हैं कमाई

मोदी सरकार (Modi Government) ने पुरानी गाड़ियों (Old Vehicles) को ठिकाने लगाने के लिए स्क्रैपिंग सेंटर (Scraping Center) लगाने को लेकर नियम जारी कर दिए है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2019, 2:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आप बिजनेस (Business) करने की सोच रहे है तो यह आपके लिए बेहतर मौका साबित हो सकता है. दरअसल, मोदी सरकार (Modi Government) ने पुरानी गाड़ियों (Old Vehicles) को ठिकाने लगाने के लिए स्क्रैपिंग सेंटर (Scraping Center) लगाने को लेकर नियम जारी कर दिए है. सड़क परिवहन मंत्रालय (Road Transport Ministry) ने स्क्रैपिंग सेंटर लगाने के नए नियम जारी किए हैं. स्क्रैपिंग सेंटर (Scraping Center) खोलने के नियम जारी होने से एक नए बिजनेस की शुरुआत होगी. ऐसे में आप स्क्रैपिंग सेंटर खोलकर कमाई कर सकते हैं. सरकार पुरानी गाड़ियों के लिए एक स्क्रैपेज पॉलिसी (Scrappage Policy) लाने की तैयारी कर रही है.

फिलहाल ज्यादातर असंगठित क्षेत्र की इकाइयां गाड़ियों की स्क्रैपिंग का काम करती हैं और उनसे ज्यादा प्रदूषण फैलता है. इसको संगठित करने के लिए सरकार ने गाड़ियों की स्क्रैपिंग के सेंटर लगाने को लेकर नियम जारी किए हैं.

किन गाड़ियों की स्क्रैपिंग हो सकेगी?
स्क्रैपिंग सेंटर में उन गाड़ियों की स्क्रैपिंग होगी जो अथॉरिटी के द्वारा जब्त की गई हैं. दुर्घटनाग्रस्त या आग से क्षतिग्रस्त हुई गाड़ियों की भी स्क्रैपिंग हो सकेगी. अगर गाड़ी का मालिक खुद गाड़ी स्क्रैप कराना चाहे तो उसकी भी स्क्रैपिंग होगी.

ये भी पढ़ें: ICICI बैंक ने ग्राहकों को किया अलर्ट, अगर नहीं मानी सलाह तो खाली हो जाएगा खाता

स्क्रैपिंग के लिए जो गाड़ियां आयेंगी वो ट्रांसपोर्ट मिनिस्ट्री के व्हीकल डेटाबेस से जुड़ी हों. इन गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन भी स्क्रैपिंग सेंटर पर कैंसल किया जाएगा. इसके लिए लोगों को RTO के पास जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी. ये सेंटर गाड़ी मालिकों को स्क्रैपिंग सर्टिफिकेट भी जारी करेंगे.

स्क्रैपिंग सेंटर लगाने वालों के लिए जरूरतेंअगर आप स्क्रैपिंग सेंटर लगाना चाहते हैं तो आपके पास पर्याप्त आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर होना चाहिए. वहीं आपके पास जीएसटी रजिस्ट्रेशन, पैन आदि दस्तावेज होने चाहिए. इसके साथ ही पर्यारवण सहित सभी जरूरी मंजूरी होनी चाहिए. स्क्रैपिंग सेंटर लगाने के लिए 4000 वर्ग मीटर से 8000 वर्ग मीटर जगह होनी चाहिए.

कैसे होगी स्क्रैपिंग?
स्क्रैपिंग कराने वालों को गाड़ी से जरूरी दस्तावेज देने होंगे. एक ऑथराईजेशन पत्र देना होगा. स्क्रैपिंग सेंटर की तरफ से एक स्क्रैपिंग सर्टिफिकेट दिया जाएगा.

स्कैप्ड गाड़ियों पर रोड टैक्स में छूट
स्कैप्ड गाड़ियों पर रोड टैक्स में छूट दी सकती है. 15 साल से पुरानी गाड़ियों को हर 6 महीने में फिटनेस सर्टिफिकेट लेने के लिए कहा जाएगा और ये नियम 1 जुलाई 2020 से लागू हो जाएगा.

ये भी पढ़ें: PPF, NSC, सुकन्या समृद्धि समेत इन स्कीम में पैसा लगाने वालों के लिए खुशखबरी! अब घर बैठे होंगे ये सभी काम

15 साल पुरानी गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन के रिनुअल्स में 20 गुना से ज्यादा की बढ़ोतरी की गई है. अभी छोटी प्राइवेट कार का रजिस्ट्रेशन रिनुअल्स पर 600 रुपये लगते हैं, लेकिन स्क्रैपेज पॉलिसी में यह 15,000 रुपये प्रस्तावित है. 7.5 टन से कम छोटी कमर्शियल गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन रिनुअल्स अभी 1,000 रुपये है, जो प्रस्तावित है 20,000 रुपये. मिडियम और हैवी कमर्शियल गाड़ियों के रिनुअल के लिए 1,500 रुपये देने पड़े हैं, प्रस्ताव है 40,000 रुपये.

ट्रांसफरेबल होगा स्क्रैपेज सर्टिफिकेट
खास बात यह है कि स्क्रैपेज सर्टिफिकेट ट्रांसफरेबल होगा. अगर आप अपनी पुरानी गाड़ी को स्क्रैप करते है और आप नई गाड़ी नहीं खरीदते हैं, तो भी आप इसे किसी को बेच सकते हैं. उसका मॉनिटरी फायदा आप उठा सकते हैं. 15 साल पूरा होने पर अगर गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नहीं कराया जाता है तो इसे मोटर व्हीकल नहीं माना जाएगा. यानी उसके बाद इसका फायदा नहीं उठा पाएंगे. शहरी इलाकों में पुरानी गाड़ियों की एंट्री पर रोक लगाने की बात कही गई है.

10 साल पुरानी गाड़ी बेचने पर 50 हजार की छूट
सूत्रों के अनुसार 10 साल पुरानी गाड़ी पर 50,000 रुपये तक छूट प्रस्तावित है. हालांकि नकद छूट के प्रस्ताव में फेरबदल हो सकता है. सूत्रों के मुताबिक, 10 साल पुरानी कॉमर्शियल गाड़ियां बेचने पर 50 हजार रुपये तक की छूट मिलेगी. 10 साल पुरानी पैसेंजर कार बेचने पर 20 हजार रुपये तक की छूट देने का प्रस्ताव है. वहीं, 7 साल पुराने 2-व्हीलर्स और 3-व्हीलर्स बेचने पर 5000 रुपये तक की छूट मिल सकती है. लेकिन ये छूट नई गाड़ियां खरीदने पर ही मिलेगी.

(रोहन सिंह, संवाददाता- CNBC आवाज़)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इनोवेशन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 16, 2019, 1:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर