अब किराना दुकान और रेस्टोरेंट खोलना होगा आसान, मोदी सरकार उठाएगी ये कदम

अब देश में दुकान और रेस्टोरेंट खोलना आसान होगा. मोदी सरकार इसके लिए जरूरी मंजूरियों की संख्या घटाने पर विचार कर रही है.

News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 8:28 AM IST
News18Hindi
Updated: June 21, 2019, 8:28 AM IST
अब देश में दुकान और रेस्टोरेंट खोलना आसान होगा. मोदी सरकार इसके लिए जरूरी मंजूरियों की संख्या को घटाने पर विचार कर रही है. दरअसल, मोदी सरकार किराना दुकानों और रेरेस्टोरेंट खोलने काे  ली जाने वाली मंजूरियों की संख्या घटाने पर विचार कर रही है. फिलहाल किराना स्टोर खोलने के लिए 28 मंजूरी जरूरी हैं. इसे कम करने के लिए सरकार सिंगल-विंडो सिस्टम जैसे विकल्प की तलाश कर रही है.

किराना दुकान खोलने के लिए इतनी मंजूरी
मौजूदा समय में एक किराना स्टोर खोलने के लिए 28 क्लियरेंस की जरूरत होती है. इनमें जीएसटी रजिस्ट्रेशन से लेकर शॉप्स एंड ऐस्टेब्लिशमेंट ऐक्ट के तहत लाइसेंस लेने के साथ-साथ वेट एंड मेजर डिपार्टमेंट से कीटनाशक व दूसरी चीजों के लिए अनुमति लेनी होती है.

ये भी पढ़ें: जेट एयरवेज के शेयर ने एक दिन में दिया 150% का मुनाफा, जानें ऐसा क्या हुआ?

एक रेस्टोरेंट खोलने में 17 मंजूरी जरूरी
एक ढाबा या रेस्टोरेंट के लिए करीब 17 मंजूरी की जरूरत होती है. इनमें फायर के लिए NOC, नगर निगम से क्लियरेंस और म्यूजिक प्ले करने के लिए लाइसेंस की जरूरत होती है. इसके अलावा फूड रेगुलेटर FSSAI और हेल्थ डिपार्टमेंट से भी क्लियरेंस की जरूरत होती है. वहीं, चीन और सिंगापुर जैसे देशों में रेस्तरां खोलने के लिए सिर्फ 4 क्लियरेंस ही जरूरी हैं.

लाइसेंस रिन्यू करने की प्रक्रिया खत्म करने पर भी विचार
Loading...

डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री ऐंड रिटेल ट्रेड (DPIIT) लाइसेंस रिन्यू करने की प्रक्रिया खत्म करने पर भी विचार कर रहा है. ऐसा करने का मकसद छोटे कारोबारियों को उनकी दुकानें और रेस्टोरेंट्स चलाने में मदद करना है ताकि उन्हें बार-बार सरकारी कार्यालयों में इन्सपेक्टर्स के आगे-पीछे चक्कर न काटने पड़ें.

(प्रतीक श्रीवास्तव, संवाददाता- CNBC आवाज़)

ये भी पढ़ें: बजट में नौकरी करने वालों को मिल सकती है बड़ी खुशखबरी!

आम बजट 2019 की सही और सटीक खबरों के लिए न्यूज18 हिंदी पर आएं. वीडियो और खबरों  के लिए यहां क्लिक करें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 21, 2019, 7:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...