आज ही शुरू करें ये बिजनेस, होगी मोटी कमाई, मोदी सरकार भी करेगी मदद

आज ही शुरू करें ये बिजनेस, होगी मोटी कमाई, मोदी सरकार भी करेगी मदद
इस समय सबसे ज्‍यादा जरूरत भूखे और खुले आसमान के नीचे रह रहे लोगों का जीवन बचाने की है

Business Opportunity: अप्रैल से नया एजुकेशन सेशन (New Education Session) शुरू होने वाला है. ऐसे में स्‍कूल से जुड़े बिजनेस करना यह सही समय है. आप स्‍कूल बैग बनाने की यूनिट (School Bag Manufacturing Unit) शुरू कर सकते हैं. आइए जानते हैं इस बिजनेस के बारे में सबकुछ...

  • Share this:
नई दिल्ली. अप्रैल से नया एजुकेशन सेशन (New Education Session) शुरू होने वाला है. ऐसे में स्‍कूल से जुड़े बिजनेस करना यह सही समय है. आप स्‍कूल बैग बनाने की यूनिट (School Bag Manufacturing Unit) शुरू कर सकते हैं. अगर आपकी यूनिट का प्रोडक्‍शन शुरू हो जाता है तो आप तीन महीने में अच्‍छी खासी कमाई कर सकते हैं. इस बिजनेस की खासियत ये है कि सरकार प्रधानमंत्री मुद्रा स्‍कीम (PM Mudra Scheme) के तहत इस बिजनेस को हाथों-हाथ लोन भी दे सकती है. प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम के तहत भी आप लोन और सब्सिडी ले सकते हैं. आज हम आपको इस काम के बारे में विस्‍तार से जानकारी देंगे, ताकि आप यह बिजनेस शुरू कर सकें.

इतने पैसे में शुरू होगा यह बिजनेस
नेशनल स्‍मॉल इंडस्‍ट्रीज कॉरपोरेशन (एनएसआईसी) द्वारा तैयार की गई प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट के मुताबिक, अगर आप 15 हजार बैग बनाने वाली यूनिट लगाना चाहते हैं तो मशीनरी व इक्‍विपमेंट, तीन महीने की वर्किंग कैपिटल, रॉ-मटेरियल, यूटिलिटीज और सैलरी पर लगभग 11.55 लाख रुपये के निवेश की जरूरत पड़ेगी. आप इस प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट के आधार पर लोन लेते हैं तो आपको अपनी पूंजी के तौर पर लगभग 1 लाख रुपए का इंतजाम करना होगा. बाकी 90 फीसदी तक आपको लोन मिल सकता है.

ये भी पढ़ें: GoAir summer sale: 955 रुपये में लें हवाई सफर का मजा, ऐसे बुक करें टिकट
रिपोर्ट के मुताबिक, सालाना 15 हजार बैग बनाने वाली यूनिट के लिए आपको लगभग 120 वर्ग मीटर स्‍पेस की जरूरत होगी, जिसमें कम से कम 100 वर्ग मीटर कवर्ड हो. बिजली का लोड 2 किलोवाट से लेकर 5 किलोवाट तक की जरूरत पड़ेगी, जबकि पानी के नॉमर्ल कनेक्शन से काम हो जाएगा.



इन मशीनरी और रॉ-मटेरियल की होगी जरूरत
स्कूल बैग बनाने में आपको मशीनरी के तौर पर एक सिंगल निडल फ्लैट बेड सिलाई मशीन, स्क्रीन प्रिंटिंग इक्वीपमेंट, टूल्स और रॉ-मटेरियल के तौर पर डिजाइन कपड़ा, नायलोन स्ट्रेप, डी-रिंग, जिप, रिवेट्स, कॉटन टेप, बकल, लॉक्स, धागे, एडहेसिव, पैकिंग मैटिरियल की जरूरत पड़ेगी.

ये भी पढ़ें: किसानों के लिए खुशखबरी! कृषि मशीनरी के लिए 9.5 लाख रुपये देगी मोदी सरकार

इतनी होगी कमाई
अगर स्कूल बैग की औसत कीमत 100 रुपये भी रखी जाए तो 15 हजार बैग की कीमत करीब 15 लाख रुपये हुई, जबकि आपका निवेश 11.55 लाख रुपये हुआ. यानी कि आप पहले साल में करीब 3.50 लाख रुपये कमा लेते हैं, जबकि अगले साल से आपका मशीनरी और इन्स्टॉलेशन का खर्च कम हो जाएगा, जिससे आपकी कमाई और बढ़ सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading