Home /News /business /

Covid-19 से उबरने वालों को लाइफ इंश्योरेंस के लिए करना पड़ रहा लंबा इंतजार! 6 महीने तक का वेटिंग पीरियड

Covid-19 से उबरने वालों को लाइफ इंश्योरेंस के लिए करना पड़ रहा लंबा इंतजार! 6 महीने तक का वेटिंग पीरियड

कोविड-19 का शिकार हुये लोग भले ही इस बीमारी से ठीक हो गये हों, लेकिन मुश्किलों ने अभी उनका पीछा नहीं छोड़ा है.

कोविड-19 का शिकार हुये लोग भले ही इस बीमारी से ठीक हो गये हों, लेकिन मुश्किलों ने अभी उनका पीछा नहीं छोड़ा है.

ऐसे व्‍यक्ति जो कोरोना से संक्रमित हुये थे, लेकिन अब वो उससे उबर चुके हैं, को बीमा पॉलिसी देने में कंपनियां 1 से तीन महीने तक का वेटिंग पीरियड दे रही है. कुछ मामलों में तो यह समय 6 महीने तक का भी दिया जा रहा है.

नई दिल्‍ली. कोविड-19 का शिकार हुये लोग भले ही इस बीमारी से ठीक हो गये हों, लेकिन मुश्किलों ने अभी उनका पीछा नहीं छोड़ा है. अब कोरोना संक्रमित हुये लोगों को बीमा पॉलिसी (life insurance) खरीदने में परेशानी हो रही है. कोरोना की चपेट में आये लोगों का बीमा करने में अब बीमा कंपनियां आनाकानी कर रही है. जीवन बीमा कंपनियां (life insurance company) कोविड से संक्रमित होकर ठीक हो चुके लोगों को बीमा पॉलिसी खरीदने के लिये एक से तीन महीने का वेटिंग पीरियड दे रही है.

संक्रमण की गंभीरता और अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता के आधार पर बीमा कंपनियां कोविड से संक्रमित होकर ठीक हो चुके लोगों के बीमा पॉलिसी प्रपोजल्‍स को टाल रही है. कुछ मामलों में तो छह महीने तक का वेटिंग पीरियड (waiting period for insurance) दिया जा रहा है. टर्म इंश्‍योरेंस (term insurance) पर वेटिंग पीरियड ज्‍यादा है. जिन लोगों को पहले से ही कुछ बीमारियां थी और जो कोरोना की चपेट में आये हैं, ऐसे लोगों से कंपनियां एक्‍सरे जैसे अन्‍य मेडिकल टेस्‍ट की भी मांग कर रही हैं.

ये भी पढ़ें : ऑटो इंश्‍योरेंस कराना होगा 20 फीसदी तक महंगा! नए-पुराने करोड़ों वाहन मालिकों पर पड़ेगा सीधा असर

कोरोना के ऑफ्टर इफेक्‍ट का डर

बिजनेस टुडे की खबर के मुताबिक, पॉलिसीबाजार डॉट कॉम के टर्म लाइफ इंश्‍योरेंस हेड सज्‍जा परवीन का कहना है कि भारत अभी कोविड-19 की तीसरी लहर के बीच में है. पिछले कुछ सप्‍ताहों में कोरोना के केस बेतहाशा बढ़े हैं. अभी कोई नहीं जानता कि कोरोना के नये वैरिएंट ओमिक्रॉन के ऑफ्टर इफेक्‍ट (covid-19  after effect) क्‍या होंगे.

इसलिये कोरोना संक्रमण से अभी-अभी ठीक हुये व्‍यक्ति को टर्म लाइफ इंश्‍योरेंस पॉलिसी लेने के लिये थोड़ा लंबा इंतजार करना पड़ रहा है. टर्म इंश्‍योरेंस में बहुत कम प्रीमियम (Insurance Premium) पर बहुत बड़ी रकम का बीमा किसी व्‍यक्ति के लिये किया जाता है. विशेषज्ञों का कहना है कि वेटिंग पीरियड से कोविड-19 के ऑफ्टर इफेक्‍ट जानने में मदद मिलती है जिन्‍हें बाद में पॉलिसी खरीदते वक्‍त डिस्‍क्‍लोज फार्म में डिस्‍क्‍लोज किया जा सकता है.

कोविड के बारे में फार्म भरना जरूरी

टर्म प्लान खरीदने के इच्छुक लोगों को अनिवार्य रूप से एक कोविड डेक्लरेशन फार्म भरना होता है. इसमें अन्य बातों के अलावा यह भी पूछा जाता है कि क्या पिछले 90 दिनों में वे वायरस से प्रभावित हुए हैं या नहीं. इसके अलावा संक्रमण की गंभीरता के आधार पर टेस्ट के रिजल्ट भी मांगे जाते हैं.

ये भी पढ़ें : थोक महंगाई दर में आई गिरावट, जानिये कौन से सेगमेंट में कितना हुआ बदलाव

एक से छह महीने का वेटिंग पीरियड

इंडियाफर्स्ट लाइफ इंश्योरेंस में कोविड से प्रभावित लोगों के लिए 30 दिन से लेकर 6 महीने तक का वेटिंग पीरियड है. भास्‍कर डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इंडियाफर्स्ट लाइफ के डिप्टी CEO ऋषभ गांधी ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति होम क्वारंटाइन नहीं है तो हमारे पास 30-दिन का समय है. लेकिन अगर वह होम क्वारंटाइन है और उसे कुछ पहले से रोग हैं तो प्रतीक्षा अवधि 60 दिनों की हो सकती है. अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता वाले अधिक गंभीर रूप से प्रभावित लोगों के लिए यह वेटिंग पीरियड छह महीने तक हो सकता है.

Tags: COVID 19, Insurance, Insurance Policy

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर