होम /न्यूज /व्यवसाय /आम आदमी के लिए राहत! अब नहीं रुलायेंगी प्याज की कीमत, सरकार ने उठाया ये कदम

आम आदमी के लिए राहत! अब नहीं रुलायेंगी प्याज की कीमत, सरकार ने उठाया ये कदम

मोदी सरकार (Modi Government) ने बुधवार को हुई कैबिनेट मीटिंग (Cabinet Meeting) में आम आदमी की जरूरतों को देखते हुए कई बड़ी घोषणाएं की है. सरकार ने प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए भी ये बड़ा फैसला लिया है.

मोदी सरकार (Modi Government) ने बुधवार को हुई कैबिनेट मीटिंग (Cabinet Meeting) में आम आदमी की जरूरतों को देखते हुए कई बड़ी घोषणाएं की है. सरकार ने प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए भी ये बड़ा फैसला लिया है.

मोदी सरकार (Modi Government) ने बुधवार को हुई कैबिनेट मीटिंग (Cabinet Meeting) में आम आदमी की जरूरतों को देखते हुए कई ब ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. मोदी सरकार (Modi Government) ने बुधवार को हुई कैबिनेट मीटिंग (Cabinet Meeting) में आम आदमी की जरूरतों को देखते हुए कई बड़ी घोषणाएं की है. सरकार ने प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए 1.2 लाख मीट्रिक टन प्याज आयात (Onion Import) करने की मंजूरी दी है. इसके लिए प्राइस स्टेबलाइजेशन फंड का इस्तेमाल करने का प्रस्ताव है. सरकार ने बुधवार को घरेलू बाजार में प्याज की उपलब्धता बढ़ाने के लिये 1.2 लाख टन प्याज आयात करने के खाद्य मंत्रालय के निर्णय को मंजूरी दे दी.

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंत्रिमंडल की बैठक के बाद इसकी जानकारी दी. खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने 16 नवंबर को कहा था कि सरकारी कंपनी एमएमटीसी के जरिये सरकार एक लाख टन प्याज का आयात करेगी.

    ये भी पढ़ें: अगले हफ्ते तक कर लें ये 5 जरूरी काम, वरना फंस जाएंगे आपके पैसे

    खुदरा बाजार में 60 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई है प्याज
    सरकार ने प्याज की उपलब्धता बेहतर बनाने के लिए निजी आयात को भी मंजूरी दी है और ध्रुमीकरण एवं स्वच्छता के प्रावधानों को भी सरल बनाया है. सरकार ने यह कदम ऐसे समय उठाया है जब घरेलू बाजार में प्याज की कमी से दाम आसमान पर पहुंच गये हैं. दिल्ली में प्याज की खुदरा कीमतें 60 रुपये प्रति किलोग्राम तक पहुंच गयीं. खरीफ सत्र 2019-20 में प्याज उत्पादन में 26 प्रतिशत गिरावट के कारण यह संकट उत्पन्न हुआ है. सरकार ने आयात सुनिश्चित करने के अलावा निर्यात को प्रतिबंधित करने, भंडार की सीमा तय करने समेत कई कदम उठाये हैं.

    बता दें कि प्याज के निर्यात पर रोक के बाद भी अक्टूबर से नवंबर मध्य तक प्याज की कीमतों में जोरदार तेजी आई है. फिलहाल, कई जगह खुदरा बाजार में प्याज 60 रुपये किलो से ऊपर चल रहा है. दिल्ली में एक हफ्ते पहले तक फुटकर में प्याज का भाव 100 रुपये तक पहुंच गया था.

    ये भी पढ़ें: दिल्लीवालों को मिला बड़ा तोहफा! अवैध कॉलोनियों को नियमित करने की मिली मंजूरी

    इस वजह से प्याज हो रही है महंगी
    प्याज के बड़े उत्पादक राज्यों में बाढ़ और सूखे की वजह से इस साल खरीफ (गर्मी) के मौसम में प्याज उत्पादन में 30-40 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है. देश में सबसे अधिक प्याज का उत्पादन करने वाले महाराष्ट्र में फसल को काफी नुकसान पहुंचा है. इससे प्याज के दाम चढ़े हुए हैं.

    Tags: Modi government, Onion Price

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें