चुनाव से पहले मोदी सरकार का किसानों को बड़ा तोहफा, 2022 तक किसानों की इनकम होगी डबल!

प्रभु ने गुरुवार शाम को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, '2022 तक भारत के कृषि निर्यात को दोगुना करके 60 अरब डॉलर के लक्ष्य तक पहुंचाना है.'

News18.com
Updated: December 7, 2018, 8:06 AM IST
चुनाव से पहले मोदी सरकार का किसानों को बड़ा तोहफा, 2022 तक किसानों की इनकम होगी डबल!
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18.com
Updated: December 7, 2018, 8:06 AM IST
केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने चाय, कॉफी, फलों और सब्जियों जैसे कृषि वस्तुओं का निर्यात बढ़ाने के लिए एग्रीकल्चर एक्सपोर्ट पॉलिसी 2018 को मंजूरी दे दी है. कृषि क्षेत्र का निर्यात 2022 तक दोगुना करने के लिए इस नीति को मंजूरी दी गई है. सरकार का ऐसा सोचना है कि ऐसा करके निर्यात को 2022 तक दोगुना करके 60 अरब डॉलर के लक्ष्य तक पहुंचा जा सकता है. इससे ग्लोबल एग्रीकल्चर मार्केट में भारत की हिस्सेदारी बढ़ने की भी उम्मीद है.

प्रभु ने गुरुवार शाम को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, '2022 तक भारत के कृषि निर्यात को दोगुना करके 60 अरब डॉलर के लक्ष्य तक पहुंचाना है.' नीति को मंजूरी देने के पीछे का उद्देश्य है कि किसान ज्यादा से ज्यादा फायदा कमा सके.

ये भी पढ़ें: LIC की बेस्ट पॉलिसी! रोजाना सिर्फ 9 रुपये खर्च कर मिलेंगे 4.56 लाख रुपये

हालांकि सरकार ने अभी तक पूरी नीति का विवरण घोषित नहीं किया है. लेकिन ऐसा कहा गया है कि इस पॉलिसी में कृषि निर्यात की आधारभूत संरचना में सुधार संबंधी बदलाव होगा. सरकार ने इस नीति में जैविक उत्पादों के निर्यात पर लगे सभी तरह के प्रतिबंधों को हटाने पर भी जोर दिया गया है.

ये भी पढ़ें: बैंक में अब Aadhaar जरूरी नहीं! ग्राहकों को देने होंगे ये 5 डॉक्यूमेंट

बता दें कि भारत में किसान आंदोलन बड़ा मुद्दा है. अभी हाल ही में किसानों ने दिल्ली और मुंबई में फसलों के समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी और अन्य मांगों को लेकर विरोध प्रदर्शन किया था. आगामी आम चुनाव में भी बीजेपी को उनकी नाराजगी का सामना करना पड़ सकता है. जबकि किसान आंदोलन और ग्रामिणों की नाराजगी के कारण वर्ष 2004 में बीजेपी को सत्ता तक गंवानी पड़ी थी.

कृषि व्यापार में सरकार की नीतियों ने भी वैश्विक बाजार में स्थिर खिलाड़ी के रूप में भारत की भूमिका को नुकसान पहुंचाया है. निर्यातकों के मुख्य निकाय, फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन ने कहा, "स्विच ऑन, स्विच ऑफ नीतियों ने भारत को कृषि वस्तुओं के विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता के रूप में उभरने से रोक दिया है, यहां तक कि उन सालों में भी जिनमें कृषि उत्पादन अधिक हुआ हो."
Loading...

प्रभु ने कहा कि राष्ट्रीय कृषि निर्यात नीति बुनियादी ढांचे में सुधार पर भी ध्यान केंद्रित करेगी और सुनिश्चित करेगी कि राज्य सरकारें कृषि निर्यात को बढ़ाने में बड़ी भूमिका निभाएंगी.

ये भी पढ़ें: आप भी ले सकते हैं इंडियन ऑयल का पेट्रोल पंप, जानिए पूरा प्रॉसेस
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->