लाइव टीवी

कैबिनेट का फैसला- कोल सेक्टर के लिए कानून में बदलाव को दी मंजूरी

News18Hindi
Updated: January 8, 2020, 2:23 PM IST

सरकार ने कोल सेक्टर (Coal Sector) के लिए कानून में बदलाव को मंजूरी दे दी है. अब सभी कंपनियां कोल माइनिंग का लाइसेंस ले सकती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 8, 2020, 2:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार ने कोल सेक्टर (Coal Sector) के लिए एक बड़ा फैसला लिया है. इस फैसले के मुताबिक जितने भी कोल माइनिंग (Coal Mining) की नीलामी की जाएगी, उस नीलामी में वो कंपनियां भी हिस्सा ले सकेंगी जो स्टील सेक्टर (Steel Sector) और पावर सेक्टर (Power Sector) में ना हो या सिर्फ माइनिंग करने का काम करती हो. सरकार ने कमर्शियल कोल माइनिंग (Commercial Coal Mining) की राहत अंतिम रोड़े को हटाने का फैसला लिया है. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी घोषणा की.

MMDR एक्ट में बदलाव के जरिए होंगे कई प्रावधान
इसके लिए सरकार एमएमडीआर अधिनियम (MMDR Act) में बदलाव करेगी. यह बदलाव अध्यादेश के जरिए किया जाएगा. इसका मतलब आज कैबिनेट ने जो फैसला लिया उसके मुताबिक देश शाम या कल तक इस अध्यादेश को राष्ट्रपति से मंजूरी मिलेगी और 24 घंटे के भीतर ये सारे बदलाव लागू हो जाएंगे.

सरकार ने अबी पहले चरण का कोल ब्लॉक का ऑक्शन किया है. आने वाले दिनों में जो कोल ब्लॉक का ऑक्शन होगा, उसमें ये सारे प्रस्ताव लागू हो जाएंगे. कोल माइनिंग से जुड़ी कंपनियों के लिए ये बड़ी खबर है.

ये भी पढ़ें: यहां खुलेंगे 300 पेट्रोल पंप और 50 CNG स्टेशन, आपके पास भी लाखों कमाने का मौका

इसके अलावा, इससे सिर्फ कोल माइनिंग से जुड़ी कंपनियों को फायदा नहीं होगा बल्कि स्टील सेक्टर, पावर सेक्टर की कंपनियों को भी फायदा होगा. क्योंकि उनके पास जो कैप्टिव कोल ब्लॉक है वो अपनी सब्सिडियरी कंपनियों को भी दे सकेंगी. इसका भी नियमों में प्रावधान किया जा रहा है. वो अपनी एक्टिव कोल ब्लॉक को कमर्शियल कोल माइनिंग में इस्तेमाल कर सकेंगी, इसका भी प्रावधान किया गया है.

दरअसल, MMDR एक्ट सेक्शन 11 ए होता है. उसमें लिखा हुआ है कि केंद्र कोल और लिगनाइट का माइनिंग लाइसेंस सिर्फ उन्हीं कंपनियों को देगा जो आयरन, स्टील, पावर और कोल वॉशिंग सेक्टर में जुड़ी हुई है. लेकिन अब इसे हटा दिया जाएगा. अब इसमें कहा जाएगा कि सभी कंपनियां कोल माइनिंग का लाइसेंस ले सकती हैं. शर्त सिर्फ ये है वो भारत में रजिस्ट्रर्ड हो. 

(लक्ष्मण रॉय, इकोनॉमिक पॉलिसी एडिटर- CNBC आवाज़)

ये भी पढे़ं: SBI Alert! जरूरी है मोबाइल नंबर और Email Id को रजिस्टर करना, मिलेगी इन 3 चीजों की सटीक जानकारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 8, 2020, 1:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर