धर्मेंद्र प्रधान ने बताया, रोज 6650 टन मेडिकल ऑक्‍सीजन की आपूर्ति कर रही हैं स्‍टील और पेट्रोलियम कंपनियां

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बताया कि देश की स्‍टील और ऑयल कंपनियां इस समय हर दिन 6,650 मीट्रिक टन ऑक्‍सीजन सप्‍लाई कर रही हैं.

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बताया कि देश की स्‍टील और ऑयल कंपनियां इस समय हर दिन 6,650 मीट्रिक टन ऑक्‍सीजन सप्‍लाई कर रही हैं.

पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने कहा कि देश में 10,000 मीट्रिक टन ऑक्‍सीजन के दैनिक आवंटन में 6,650 मीट्रिक टन का उत्पादन और उसकी आपूर्ति करके देश के इस्पात कारखाने (Steel Plants) व तेल रिफाइनरियां (Oil Refineries) कोविड-19 के खिलाफ जारी लड़ाई में अहम भूमिका निभा रही हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. देश की तेल रिफाइनरियों (Oil Refineries) और इस्पात कारखानों (Steel Plants) से हर दिन 6,650 मीट्रिक टन ऑक्‍सीजन (Oxygen) देशभर में कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए अस्पतालों व स्वास्थ्य केंद्रों को भेजी जा रही है. पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने कहा कि देश का इस्पात और पेट्रोलियम उद्योग कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) की दूसरी लहर का मुकाबला करने के लिए हरसंभव कोशिश कर रहा है. उन्होंने कहा कि सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के इस्पात संयंत्रों ने अपनी दैनिक उत्पादन क्षमता बढ़ाई है. प्‍लांट्स ने लिक्विड नाइट्रोजन और एरगोन उत्पादन क्षमता को लिक्विड मेडिकल ऑक्‍सीजन (LMO) की अतिरिक्त मात्रा का उत्पादन करने के लिए इस्तेमाल किया है.

स्‍टील-ऑयल कंपनियां कर रहीं रोज 6,650 MT ऑक्‍सीजन की आपूर्ति

केंद्रीय मंत्री प्रधान ने कहा कि देश में 10,000 मीट्रिक टन ऑक्‍सीजन के दैनिक आवंटन में 6,650 मीट्रिक टन का उत्पादन और उसकी आपूर्ति करके देश के इस्पात कारखाने व तेल रिफाइनरियां कोविड-19 के खिलाफ जारी लड़ाई में अहम भूमिका निभा रही हैं. इस्पात मैन्‍युफैक्‍चरर्स सेल (SAIL), आरआईएनएल (RINL), टाटा स्टील लिमिटेड (Tata Steel), एएमएनएस इंडिया (AMNS India), जेएसपीएल (JSPL) ने ऑक्‍सीजन आपूर्ति को 1 अप्रैल 2021 के 538 टन से बढ़ाकर 4,473 मीट्रिक टन तक पहुंचा दिया है.

ये भी पढ़ें- सरकारी बिजली कंपनियों ने 200 से ज्‍यादा जगहों पर बनाए कोविड सेंटर, जानें मिलेंगी क्‍या-क्‍या सुविधाएं
कोरोना मरीजों के इलाज के लिए बनाए 10,000 से ज्‍यादा कोरोना बेड्स

धर्मेंद्र प्रधान ने आगे कहा कि देश में अस्थायी तौर पर ऑक्‍सीजन सुविधा वाले बेड्स की भी पेट्रोलियम और इस्पात कंपनियां व्यवस्था कर रही हैं. देशभर में उन्‍होंने ऐसे 10,000 से ज्‍यादा बेड्स की व्यवस्था की है. सेल, आरआईएनएल, मॉयल, जेएसपीएल और टाटा स्टील देशभर में विभिन्‍न स्थानों पर 8,500 से अधिक ऑक्‍सीजन बेड्स बनाए हैं. एएमएनएस इंडिया ने अपने हजीरा संयंत्र के पास 250 बेड का कोविड केयर अस्पताल शुरू किया है. इसे बाद में बढ़ाकर 1,000 बेड तक किया जाएगा. इंडियन आयल कार्पोरेशन ने पानीपत की रिफाइनरी के पास 500 बेड की कोविड केयर सुविधा को हर दिन 15 टन गैस आपूर्ति शुरू कर दी है.

ये भी पढ़ें- किसानों के लिए अच्‍छी खबर! महिंद्रा ट्रैक्टर खरीदने पर मिलेगा 1 लाख रुपये का हेल्थ इंश्योरेंस भी



भारतीय कंपनियों ने कई विदेशी कंपनियों से भी आपूर्ति का किया है करार

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि सीपीसीएल चेन्‍नई और एचएमईएल बठिंडा रिफाइनरी अपने-अपने इलाकों में 200 व 100 बेड के अस्पतालों को गैस आपूर्ति की प्रक्रिया में हैं. इसी प्रकार सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनी आयल एंड नेचुरल गैस कार्पोरेशन (ONGS) एक लाख ऑक्‍सीजन कंसंट्रेटर खरीद रही है. वहीं, इंडियन आयल कार्पोरेशन ने 207 आईएसओ टैंकर के लिए अनुबंध किया है. प्रधान ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियां सऊदी अरब, यूएई, सिंगापुर, बहरीन, कुवैत और कतर की तेल कंपनियों के साथ 13,740 टन लिक्विड ऑक्‍सीजन की आपूर्ति के लिए करार कर रही हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज