गरीब कल्याण अन्न योजना-81 करोड़ गरीबों को मुफ्त में राशन देने वाली इस योजना को कैबिनेट की मंजूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister of India)
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister of India)

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister of India Nirmala Sitharaman) ट्विट के जरिए बताया कि गरीब कल्याण अन्न योजना (PMGKAY - Garib Kalyan Anna Yojana ) को नवंबर 2020 तक बढ़ा दिया गाय है. इससे 81.09 करोड़ गरीबों को फायदा मिलेगा.

  • Share this:
 नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister of India) की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक (Cabinet Decision) में गरीब कल्याण अन्न योजना (PMGKAY - Garib Kalyan Anna Yojana) के विस्तार को मंजूरी मिल गई है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इसकी जनकारी दी है. वित्त मंत्री (Finance Minister of India) ने ट्विट के जरिए बताया कि गरीब कल्याण अन्न योजना को नवंबर 2020 तक बढ़ा दिया गाय है. इससे 81.09 करोड़ गरीबों को फायदा मिलेगा. आपको बता दें कि कोरोना काल में मोदी सरकार 81 करोड़ गरीबों में मुफ्त में राशन बांट रही है, जो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत बांटा जा रहा है. इसका ऐलान मार्च में किया गया था. तब इसकी अंतिम तारीख 30 जून तय की गई थी. लेकिन अब इसे बढ़ाकर नवंबर 2020 तक कर दिया गया है.

क्या है प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण अन्‍न योजना (PMGKAY - Garib Kalyan Anna Yojana) - इसके तहत परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त दिया जाता है. एक किलो चने की दाल भी फ्री मिलती है. इसे प्रति माह हर परिवार को दिया जाता है. अब तक इसके तहत अप्रैल में 93% , मई में 91% और जून में 71% लाभार्थियों को अनाज दिया जा चुका है. इसके लिए राज्यों ने अब तक 116 लाख मीट्रिक टन अनाज केंद्र सरकार से लिया है. इस अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली-छठ पूजा तक यानी नवंबर तक कर दिया गया है.गरीब कल्याण अन्न योजना के इस विस्तार में सरकार 90 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च करेगी. अगर इसमें पिछले 3 महीने का खर्च जोड़ दिया जाए तो यह करीब डेढ़ लाख करोड़ रुपये हो जाता है.
योजना विस्तार के बाद राशनकार्ड धारक नवंबर तक 5 किलो गेहूं या चावल प्रति व्यक्ति फ्री ले सकेगा. साथ ही प्रति परिवार 1 किलो चना मुफ्त मिलेगा. इसके अतिरिक्त राशन कार्ड धारक पहले से मिल रहे मौजूदा कोटे का प्रति व्यक्ति 5 किलो गेहूं या चावल पैसे देकर राशन दुकान से ले सकेगा.

इस तरह नवंबर 2020 तक महीने में प्रति व्यक्ति कुल 10 किलो अनाज लाभार्थी राशन दुकानों से ले सकेगा. सरकार की ओर से मार्च माह में कहा गया था कि गेहूं की कीमत 27 रुपये किलो है, जो राशन दुकानों के माध्यम से दो रुपये किलो की रियायती दर पर मिलेगा. चावल की लागत लगभग 37 रुपये किलो है, लेकिन राशन की दुकानों के माध्यम से इसे तीन रुपये किलो की दर से खरीदा जा सकेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज