Home /News /business /

केयर्न के साथ भारत के सारे मसले हल, कंपनी ने वापस लिए सारे मुकदमे

केयर्न के साथ भारत के सारे मसले हल, कंपनी ने वापस लिए सारे मुकदमे

ब्रिटेन की केयर्न एनर्जी (Cairn Energy) ने भारत सरकार और उसकी संस्थाओं के खिलाफ अमेरिका से लेकर फ्रांस और सिंगापुर तक की अदालतों में सभी मुकदमों को हटा लिया है.

ब्रिटेन की केयर्न एनर्जी (Cairn Energy) ने भारत सरकार और उसकी संस्थाओं के खिलाफ अमेरिका से लेकर फ्रांस और सिंगापुर तक की अदालतों में सभी मुकदमों को हटा लिया है.

Cairn withdraws all lawsuits : ब्रिटेन की केयर्न एनर्जी (Cairn Energy) ने भारत सरकार और उसकी संस्थाओं के खिलाफ अमेरिका से लेकर फ्रांस और सिंगापुर तक की अदालतों में सभी मुकदमों को हटा लिया है.

    नई दिल्ली. ब्रिटिश कंपनी केयर्न एनर्जी ने भारत सरकार के खिलाफ विभिन्न अंतरराष्ट्रीय अदालतों में दायर सभी मुकदमे वापस ले लिए हैं. इसके साथ ही पिछली तारीख से कराधान प्रावधान के तहत उससे वसूले गए करीब 7,900 करोड़ रुपये का कर लौटाने का रास्ता साफ हो गया है.

    केयर्न एनर्जी ने बुधवार को देश के कई समाचारपत्रों में विज्ञापन प्रकाशित कर भारत सरकार के खिलाफ चल रहे सभी मुकदमे वापस लेने की जानकारी दी है. कंपनी ने सरकार के साथ इस बारे में सहमति पहले ही दे दी थी. ब्रिटिश कंपनी ने कहा है कि वह अमेरिका से लेकर फ्रांस और नीदरलैंड्स से लेकर सिंगापुर की अदालतों तक में भारत सरकार के खिलाफ चल रहे सभी मामले वापस ले चुकी है.

    ये भी पढ़ें – लॉस प्रूफ स्टॉक : 5 शेयरों ने 10 साल में कभी नहीं होने दिया निवेशकों को घाटा, आपके पास है कोई?

    नए कानून में पिछली तारीख से कर वसूली को किया था निरस्त

    दरअसल, भारत सरकार ने गत अगस्त में पारित नए कानून में पिछली तारीख से कर वसूलने के प्रावधान को निरस्त कर दिया था. इसके साथ ही संबंधित कंपनियों से कहा गया था कि अगर वे भारत सरकार के खिलाफ विभिन्न अदालतों में दायर अपने मुकदमे वापस ले लेती है, तो उन्हें इस प्रावधान के तहत वसूली गई राशि लौटा दी जाएगी.

    आयकर अधिनियम में वर्ष 2012 में जोड़े गए इस प्रावधान के तहत भारत में कारोबार करने वाली विदेशी कंपनियों से विदेशी भूभाग में किए गए सौदों पर भी पिछली तारीख से कर वसूलने की व्यवस्था की गई थी. इस प्रावधान के तहत केयर्न और वोडाफोन समेत कई विदेशी कंपनियों से पिछली तारीख से कर वसूला गया था. इनमें से अकेले केयर्न से ही 7,900 करोड़ रुपये वसूले गए थे.

    ये भी पढ़ें – Multibagger IPO : पारस ही साबित हुआ ये आईपीओ, निवेशकों के पैसे को बना दिया ‘सोना’

    हालांकि, सरकार ने नए नियम को अधिसूचित करते हुए कुछ महीने पहले इससे जुड़े प्रक्रियागत नियम जारी किए थे. कर रिफंड के लिए जरूरी था कि संबंधित कंपनियां सरकार के समक्ष इसकी अर्जी दें और तमाम मुकदमे वापस लेने की पुष्टि करें. इसी क्रम में केयर्न ने यह विज्ञापन दिया है.

    केयर्न ने कहा है कि मुकदमे वापस लिए जाने के बाद उससे वसूले गए कर को रिफंड करने का रास्ता साफ हो जाएगा. अब भारत सरकार फॉर्म-4 जारी कर अंतिम चरण को अंजाम देगी जिसमें रिफंड के आदेश दिए जाएंगे.

    Tags: Indian Government, Money

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर