CAIT ने अमेजन पर एफडीआई पॉलिसी और FEMA नियमों के उल्लंघन का लगाया आरोप

अमेजन
अमेजन

व्यापारियों के संगठन कैट (CAIT) ने ई-कॉमर्स क्षेत्र की प्रमुख कंपनी अमेजन (Amazon) पर एफडीआई नीति (FDI policy) और फेमा (FEMA) के उल्लंघन का आरोप लगाया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. व्यापारियों के संगठन कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (Confederation Of All India Traders) ने ई-कॉमर्स क्षेत्र की प्रमुख कंपनी अमेजन (Amazon) पर एफडीआई नीति (FDI policy) और विदेशी मुद्रा प्रबंधन कानून (Foreign Exchange Management Act) के उल्लंघन का आरोप लगाया है.

नियमों के उल्लंघन का आरोप
कैट (CAIT) ने कहा कि अमेजन ने भारत में बहु-ब्रांड खुदरा गतिविधियों के संचालन के लिए भी सरकार से अनिवार्य अनुमति नहीं ली है. कैट के महासचिव प्रवीन खंडेलवाल ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि सार्वजनिक रूप में उपलब्ध विभिन्न दस्तावेज बताते हैं कि अमेजन ने अमेजन इंडिया में लगभग 35,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है, जो ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस है. उन्होंने कहा कि वास्तव में इस मंच पर बहु-ब्रांड खुदरा कारोबार हो रहा है.

ये भी पढ़ें- Cabinet Meeting: प्रकाश जावड़ेकर ने कहा- तेजी से पटरी पर लौट रही है इकोनॉमी
उन्होंने आरोप लगाया कि लगभग 4,200 करोड़ रुपये मोर रिटेल लिमिटेड (एक मल्टी-ब्रांड रिटेल कंपनी) में निवेश किए गए हैं, जिसे समारा कैपिटल के वैकल्पिक निवेश के जरिये अमेजन नियंत्रित करती है. वहीं अमेजन ने फ्यूचर कूपन प्राइवेट लिमिटेड में 1,430 करोड़ रुपये निवेश का निवेश किया है, लेकिन वास्तव में यह फ्यूचर रिटेल लिमिटेड (एक बहु-ब्रांड खुदरा कंपनी) में एक नियंत्रित निवेश है. खंडेलवाल ने कहा कि ये सभी निवेश फेमा नियमों का उल्लंघन हैं.



ये भी पढ़ें- आम आदमी को मिली बड़ी राहत! दालों की कीमतों में आई गिरावट, 20% तक हुई सस्ती

कैट ने पीयूष गोयल और निर्मला सीतारमण को लिखा पत्र
कैट ने केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल को भेजे पत्र में विभिन्न कानूनों के उल्लंघन के लिए अमेजन के खिलाफ तत्काल सख्त कार्रवाई करने की मांग की है. कैट ने वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), भारतीय रिजर्व बैंक और भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) को पत्र भेजकर अमेजन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज