इस दिवाली चीन को बड़ा झटका देगा भारत! कारोबारियों ने कसी कमर

इस दिवाली चीन को बड़ा झटका देगा भारत! कारोबारियों ने कसी कमर
इस संबंध में कैट ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को एक लेटर भी लिखा है.

CAIT ने रक्षा बंधन के बाद अब दीवाली को भी हिंदुस्तानी दिवाली मनाने का फैसला किया है. कैट ने इसके लिए केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को चिट्ठी लिखकर मांग की है कि चीन से आयात होने वाले विभिन्न सामानों पर कस्टम ड्यूटी में बढ़ोतरी किया जाय.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 24, 2020, 9:32 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस का जनक चीन द्वारा सीमा पर की गई नापाक हरकत के बाद चीन और चीनी सामानों का का बहिष्कार धीरे-धीर जोर पकड़ता जा रहा है. इसी कड़ी में व्यापारी संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने रक्षा बंधन के बाद अब दीवाली को भी हिंदुस्तानी दिवाली मनाने का फैसला किया है. व्यापारियों ने इस मुहिम को सफल बनाने के लिए सरकार से समर्थन की मांग है. कैट ने इसके लिए केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) को चिट्ठी लिखी है. चिट्ठी में केंद्रीय मंत्री मांग की है कि चीन से आयात होने वाले विभिन्न सामानों पर कस्टम ड्यूटी में बढ़ोतरी किया जाय.

चीन के इस कदम के लिए सरकार को किया आगाह
कैट ने केंद्र सरकार से गुजारिश की है कि चीन अपने सामानों को भारत भेजने के लिए वैकल्पिक रास्तों को अपना रहा है जिस पर पैनी निगाह रखी जानी चाहिए. व्यापारी संगठन ने अपने चिट्ठी में जिक्र किया है कि विभिन्न ई-पोर्टल पर प्रत्येक वस्तु के साथ निर्माता देश का अनिवार्य रुप से उल्लेख करने को 1 सितंबर, 2020 से लागू किया जाना चाहिए. साथ ही कैट ने मांग की है कि 30 अन्य चीनी ऐप्स जो देश की सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं पर प्रतिबन्ध लगाया जाना चाहिए. इसके अलावा भारत में 5G नेटवर्क में चीनी कम्पनी हुवावे और जेडटीई कारपोरेशन पर प्रतिबन्ध लगाया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें:  नए बिज़नेस का GST Registration कराने में अब नहीं होगी दिक्कत, जानिए क्यों?
चीन से आयात होने वाले सामानों के लिए दिया ये अहम सुझाव


केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को लिखे अपने पत्र में कैट ने सुझाव दिया कि भगवान् की मूर्तियां और प्रतिमाएं, इलेक्ट्रिक गुड्स मसलन सजावटी इलेक्ट्रिक बल्ब श्रृंखला, सजावटी सामान , खिलौने, वस्त्र, घरेलू उपकरण, इलेक्ट्रिक और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, कैमरा पर आयात शुल्क में तार्किक बढोत्तरी बहुत जरूरी है. वहीँ सौर ऊर्जा मॉड्यूल, बैटरी और सैल, इनवर्टर, सफाई उपकरण, फर्निशिंग फैब्रिक, फर्नीचर, एल्यूमीनियम के बर्तन और अन्य एल्यूमीनियम के सामान, कागज और स्टेशनरी, सौंदर्य उत्पाद, एफएम-सीजी सामान, उपभोक्ता वस्तुएं और खुदरा व्यापार के अन्य सामानों पर कस्टम ड्यूटी में भी बढ़ोत्तरी की जानी चाहिए !

ई-पोर्टल पर बिकने वाले सामानों के निर्माण देश का नाम लिखना हो अनिवार्य
कैट ने कहा कि सभी जानते है, भारत में व्यावसायिक गतिविधियाँ संचालित करने वाली अधिकांश प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनियाँ उपभोक्ताओं की जानकारी के बिना चीनी सामान बेच रही हैं. उपभोक्ता को यह मालूम ही नहीं है की वो किस देश का सामान खरीद रहे हैं.सरकार द्वारा हाल ही में ई -पोर्टल पर बिकने वाले प्रत्येक सामान पर निर्माण देश का उल्लेख करना अनिवार्य किया गया है ! चूंकि अगले चार महीने यानी त्यौहारी सीजन में हर साल खरीद के लिए बड़े अवसर होते हैं, लिहाजा सरकार को निर्माण देश का नाम लिखने के प्रावधान को 1 सितंबर, 2020 से ई-पोर्टल पर लिखने के प्रावधान को लागू करना चाहिए.

यह भी पढ़ें: क्यों हो रही है PM किसान सम्मान निधि स्कीम की रकम को 24,000 करने की मांग

चीन के और 30 एप्स है भारतीय सुरक्षा के लिए खतरा, लगे प्रतिबंध
कैट ने आगे कहा कि 59 चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगाने के अलावाअभी भी लगभग 30 से अधिक ऐसे ऐप हैं जिन पर प्रतिबंध की आवश्यकता है. कैट ने यह भी कहा की चीन कम्पनी हुवावे और जेडटीई कॉरपोरेशन को भारत में 5 जी नेटवर्क को चालू करने में किसी भी तरह से भागीदारी से वंचित किया जाना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज