CAIT ने Amazon पर किया तीखा हमला! ई-कॉमर्स कंपनी को बताया वैश्विक अपराधी, पीयूष गोयल से की तत्‍काल पाबंदी की मांग

CAIT ने पीयूष गोयल से की अमेजन को बैन करनी की मांग

CAIT ने सरकार से मांग की है कि तुरंत अमेजन के भारत में परिचालन पर प्रतिबंध लगाना चाहिए और उसकी कुप्रथाओं पर समयबद्ध जांच का आदेश देना चाहिए. कैट ने यह भी कहा है कि फ्लिपकार्ट भी इसी तरह की प्रथाओं में शामिल है और इसलिए फ्लिपकार्ट की व्यावसायिक प्रथाओं पर भी अंकुश लगना चाहिए और उस पर भी जांच की आवश्यकता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली: विदेशी वित्त पोषित ई-कॉमर्स कंपनियों के खिलाफ पिछले चार साल से एक देशव्यापी आंदोलन की अगुवाई कर रहे कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने आज सरकार से मांग की है कि कल एक न्यूज एजेंसी में बड़े पैमाने पर किए गए खुलासे के मद्देनजर अमेजन ने भारत के ई कॉमर्स व्यापार को नियंत्रित करने के लिए एक सोची समझी रणनीति बनाई है. ये अब साफ हो चुका है कि अमेजन भारत सरकार के नियमों, कानूनों और नीतियों की धज्जियां उड़ाते हुए भारत के ई-कॉमर्स व्यवसाय को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहा है.

    लिया जाना चाहिए तुरंत एक्शन
    सरकार को तुरंत अमेजन के भारत में परिचालन पर प्रतिबंध लगाना चाहिए और उसकी कुप्रथाओं पर समयबद्ध जांच का आदेश देना चाहिए. कैट ने यह भी कहा है कि फ्लिपकार्ट भी इसी तरह की प्रथाओं में शामिल है और इसलिए फ्लिपकार्ट की व्यावसायिक प्रथाओं पर भी अंकुश लगना चाहिए और उस पर भी जांच की आवश्यकता है.

    यह भी पढ़ें: बरेली से दिल्ली के लिए सीधी हवाई सेवा 8 मार्च से होगी शुरू, इन शहरों को भी होगा बड़ा फायदा

    कैट ने केंद्रीय वाणिज्य मंत्री श्री पीयूष गोयल द्वारा घोषित एफडीआई नीति की प्रेस नोट संख्या 2 के स्थान पर एक नया प्रेस नोट जारी करने की मांग की है. सरकार को अपनी बहुप्रतीक्षित ई कॉमर्स नीति को भी अंतिम रूप देना चाहिए.

    कैट के अध्यक्ष ने दी जानकारी
    कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने आज जारी एक संयुक्त बयान में कहा कि नए खुलासे को ध्यान में रखते हुए, कैट केंद्रीय वाणिज्य मंत्री श्री पीयूष गोयल से संपर्क करेगा और अमेजन पर तत्काल कार्रवाई की मांग करेगा. कैट द्वारा सरकार को पहले ही कई प्रमाण दिए गए हैं.

    इसके साथ ही इंटरनेशनल समाचार एजेंसी द्वारा सच्चाइयों के खुलासे के बाद अमेजन के खिलाफ कार्रवाई शुरू करनी चाहिए. एक कंपनी जो कानून और नीतियों के उल्लंघन में गहराई से शामिल है और भारत में ई-कॉमर्स व्यवसाय को नियंत्रित करने के लिए अपनी सुनियोजित कुनीतियों को जारी रखे हुए है उसके  लिए उनको सबक सिखाया जाना चाहिए.

    भरतिया और खंडेलवाल दोनों ने कहा कि कैट इस बारे में कानूनी कारवाई करने की सम्भावनाओं को तलाश रहा है. कैट के वकीलों की टीम सभी कानूनी संभावनाओं की जांच कर रही है और बहुत जल्द वकीलों की सलाह के अनुसार, कैट कानूनी कार्रवाई आगे बढ़ाएंगे.

    नीतियों का हो रहा उल्लंघन
    उन्होंने आगे कहा कि यह देश के कानूनों और नीतियों के लिए काफी नुकसान दायक है. भारतीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने ई-कॉमर्स कंपनियों को स्पष्ट शब्दों में नियमों और नीतियों का अधिक पालन करने की चेतावनी दी है. भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि अमेजन दुनिया भर में कानूनों को चकमा देने और विभिन्न देशों में दंड और जांच को भ्रमित करने का काम कर रही हैं. एक मामूली त्रुटि के लिए सिस्टम व्यापारियों को दंडित करता है, लेकिन इतने बड़े डिफाल्ट के लिए तत्काल कार्रवाई क्यों नहीं की जाती है...

    यह भी पढ़ें: H-1B VISA: कंप्‍यूटराइज्‍ड ड्रॉ से होगा किस्‍मत का फैसला, अमेरिका को मिले 2021 के लिए 65 हजार आवेदन

    दस्तावेजों का हुआ खुलासा
    रॉयटर्स की खबर में अमेजन के विभिन्न विश्वसनीय और आंतरिक दस्तावेजों का उल्लेख किया गया है और इससे अधिक प्रमाण की आवश्यकता क्या है? हमारी जांच एजेंसियां ​​अमेजन और फ्लिपकार्ट को समय का लाभ क्यों दे रही हैं? कैट इस मुद्दे को बड़े पैमाने पर उठाएगी और जब तक अमेजन और फ्लिपकार्ट के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती है तब तक आंदोलन देश भर में जारी रहेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.