चीनी सामानों के ​बहिष्कार के लिए CAIT ने ‘चीन भारत छोड़ो’ अभियान शुरू किया

चीनी सामानों के ​बहिष्कार के लिए CAIT ने ‘चीन भारत छोड़ो’ अभियान शुरू किया
इसके उपलक्ष्य में उसने देश के विभिन्न राज्यों में 600 स्थानों पर धरना आयोजित किया.

कैट ने रविवार को ‘चीन भारत छोड़ो’ अभियान की शुरुआत की है. कैट ने कहा कि उसने 10 जून से देश भर में शुरू किये गये ‘भारतीय सामान, हमारा अभिमान’ मुहिम में एक नया आयाम जोड़ते हुए ‘चीन भारत छोड़ो’ का आह्वान किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. खुदरा कारोबारियों के संगठन कंफेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने भारत छोड़ो आंदोलन की वर्षगांठ के मौके पर रविवार को ‘चीन भारत छोड़ो’ अभियान की शुरुआत की. कैट का यह अभियान चीन में बनी वस्तुओं बहिष्कार करने पर केंद्रित है. कैट के सदस्य कारेाबारियों ने इस मौके पर देश भर में 600 स्थानों पर विरोध प्रदर्शन भी आयोजित किया. कैट ने एक विज्ञप्ति में बताया कि भारत में चीन की बढ़ती उपस्थिति तथा चीन के सामनों के बढ़ते आयात पर तत्काल रोक लगाने की जरूरत है.

कैट ने कहा कि उसने 10 जून से देश भर में शुरू किये गये ‘भारतीय सामान, हमारा अभिमान’ मुहिम में एक नया आयाम जोड़ते हुए ‘चीन भारत छोड़ो’ का आह्वान किया है. इसके उपलक्ष्य में उसने देश के विभिन्न राज्यों में 600 स्थानों पर धरना आयोजित किया.

भारत में चीनि निवेश को सरकार जांच के दायरे में लाया जाए
संगठन ने विभिन्न भारतीय कंपनियों, स्टार्टअप और डिजिटल ऐप में चीन के निवेश पर चिंता जताते हुए कहा कि इस संबंध में आवश्यक कदम उठाने की जरूरत है. उसने कहा कि सरकारी परियोजनाओं और विभिन्न संवेदनशील निर्माण कार्यों में चीन के निवेश को सरकारी जांच के दायरे में लाया जाना चाहिये.
यह भी पढ़ें: 1 लाख करोड़ के फंड से कटाई बाद फसल प्रबंधन की समस्या का होगा हल- मोदी



कैट ने भारत छोड़ो आंदोलन की 78वीं वर्षगांठ के मौके पर कहा कि महात्मा गांधी के नेतृत्व में देष भर के लोग ब्रिटिश राज के खिलाफ एक साथ हो गये थे. अब समय है कि चीन के खिलाफ लोग एकजुट हों.

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने ‘चीन भारत छोड़ो’ अभियान का एजेंडा जारी करते हुए केंद्र सरकार से चीन और उसकी भारत में सारी गतिविधियों को चारों ओर से घेरने का अनुरोध किया.

यह भी पढ़ें: 'Kisan Rail स्कीम से किसानों को होगा फायदा, संकट में किसान बने हैं बड़ा सहारा'

उन्होंने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) से भी अपील किया कि वह चीन की कंपनी वीवो को इंडियन प्रीमियम लीग (IPL) का प्रायोजक नहीं बनाये. उन्होंने कहा कि यदि बीसीसीआई किसी भारतीय कंपनी को प्रायोजक बनाता है तो उन्हें इससे कोई समस्या नहीं है, लेकिन चन की कंपनी को प्रायोजक नहीं बनाया जाना चाहिये.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज