कैट का राष्ट्रव्यापी आंदोलन: आज से देशभर में चलेगा व्यापारी संवाद अभियान, जानें क्या है प्रमुख वजह

CAIT

CAIT

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) द्वारा 26 फरवरी को आयोजित भारत व्यापार बंद की सफलता के बाद अब कैट जीएसटी एवं ई कॉमर्स के मुद्दों पर आगामी 5 मार्च से 5 अप्रैल तक देश के सभी राज्यों को अपने आंदोलन को जारी रखने का ऐलान किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) द्वारा 26 फरवरी को आयोजित भारत व्यापार बंद की सफलता के बाद अब कैट जीएसटी एवं ई कॉमर्स के मुद्दों पर आगामी 5 मार्च से 5 अप्रैल तक देश के सभी राज्यों को अपने आंदोलन को जारी रखने का ऐलान किया है. इसके तहत आज से कैट देशभर में व्यापारी संवाद अभियान चलाएगी. आज राजधानी दिल्ली के व्यापारियों के बीच यह संवाद होगा. कैट का मानना है कि दिल्ली के व्यापारियों की दिन-प्रतिदिन बढ़ती समस्याओं के कारण उनका व्यापार करना बेहद मुश्किल हो गया है और व्यापार करने की जगह व्यापारियों का अधिकांश समय विभिन्न सरकारी विभागों के नोटिस एवं सरकारी तुगलकी आदेशों का पालन करने में बीत रहा है. इस ज्वलंत मुद्दे के हल कराने को लेकर CAIT ने आगामी 5 मार्च से 5 अप्रैल तक दिल्ली भर में व्यापारी संवाद अभियान चलाने की घोषणा की है जिसके अंतर्गत कैट के शीर्ष नेताओं की टीम दिल्ली के सभी बाज़ारों के व्यापारिक संगठनों से घर-घर संपर्क कर प्रत्येक व्यापारी समस्या पर चर्चा करेगी और समस्याओं के हल के लिए जनमत जाग्रत करेगी. इस अभियान की अगुवाई कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल करेंगे.

जानें क्या कहा कैट ने?
कैट के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष विपिन आहूजा एवं प्रदेश महामंत्री देव राज बवेजा ने बताया की यह निर्णय कल दिल्ली के मोतीनगर स्तिथ रिट्ज बैंक्वेट हाल में दिल्ली के प्रमुख व्यापारिक संगठनों के नेताओं की एक बैठक में लिया गया जिसमें दिल्ली के व्यापार से सम्बंधित सभी ज्वलंत विषयों पर खुली चर्चा हुई और कहा गया की दिल्ली का व्यापार पिछले 10 वर्षों से अधिक समय से अनेक समस्याओं से जूझ रहा है और अब समय आ गया है की जब तक व्यापार से सम्बंधित समस्याओं का तार्किक रूप से हल नहीं हो जाता तब तक दिल्ली के व्यापारी चैन से नहीं बैठेंगे. उन्होंने बताया की व्यापारी संवाद अभियान का समापन एक दिवसीय राज्य स्तरीय व्यापारी महासम्मेलन से होगा.

ये भी पढ़ें- रेल यात्रियों को बड़ी राहत! जल्द शुरू होगी रेलवे की एक और सेवा, जानिए कहां और कैसे होगी बुकिंग
ये है प्रमुख वजह


कैट के प्रदेश महामंत्री आशीष ग्रोवर एवं सतेंद्र वधवा ने बताया की व्यापारियों की मीटिंग में जीएसटी के बेतुके और मनमाने कानूनी प्रावधान, दिल्ली किराया क़ानून के चलते व्यापारियों को उनकी दुकानों से बेदखल करना, सीलिंग और तोड़ फोड़ का स्थायी रूप से समाधान तथा जो दुकाने सील हैं उनकी सील खुलवाना, दिल्ली के रिटेल केमिस्टों के लाइसेंस का नवीनीकरण न होना, ई कॉमर्स के नियमों के उल्लंघन के चलते विदेशी ई कॉमर्स कंपनियों द्वारा दिल्ली के रिटेल व्यापार पर विपरीत असर नगर निगम द्वारा व्यापारियों को दूकान एवं स्टोरेज लाइसेंस देने में बड़े भ्रष्टाचार का होना, दिल्ली सरकार द्वारा अभी तक 351 सड़कों को नियमित न करवा पाना जैसे मुद्दे शामिल हैं.

ये भी पढ़ें- कार चालक हो जाएं सावधान! 1 अप्रैल से आपके कार में नहीं मिला ये फीचर तो पड़ सकते हैं मुसीबत में, जानें क्या है सरकार का नया नियम

इन मुद्दों पर रहेगा फोकस
कैट के प्रदेश संयुक्त महामंत्री राजीव बत्रा एवं प्रदेश मंत्री मुकेश तुली ने बताया की दिल्ली के थोक बाज़ारों को स्थानांतरित करने हेतु किसी भी पालिसी का अभाव जिसमें खास तौर पर 10 वर्ष से अधिक समय गुजर जाने के बाद भी अभी तक केमिकल और पेपर बाजार को क्रमश: नरेला एवं गाजीपुर में सही तरह से स्थान्तरित न करना, दिल्ली के बाज़ारों में आवश्यक सुविधाओं खास तौर पर महिलाओं के लिए सुविधा का बड़ा अभाव, फ़ूड सेफ्टी एन्ड स्टैंडर्ड्स एक्ट के अधिनायकवादी नियमों से व्यापारियों और बहुत छोटे पान एवं जनरल स्टोर विक्रेताओं का उत्पीड़न,मॉनिटरिंग कमेटी का तानशाही रवैय्या , डीडीए फ्लैटों में काम कर रहे व्यापारियों पर सीलिंग की गाज जैसे मुद्दे भी व्यापारी संवाद अभियान का हिस्सा होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज