चैंबर्स के बैनर तले DPIIT की ई-कॉमर्स कंपनियों के साथ हुई बैठक, CAIT ने जताया एतराज

केंद्र सरकार ने विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों से सशर्त डिजिटल टैक्‍स नहीं लेने का फैसला किया है.

केंद्र सरकार ने विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों से सशर्त डिजिटल टैक्‍स नहीं लेने का फैसला किया है.

25 मार्च को देशभर में 40 हजार से अधिक छोटे और बड़े ट्रेडर्स एसोसिएशन 'ई-कॉमर्स डेमोक्रेसी डे' के रूप में मनाएंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. खुदरा कारोबारियों के संगठन कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स यानी कैट (CAIT) ने डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड यानी डीपीआईआईटी (DPIIT) के साथ प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनियों के प्रतिनिधियों की देश के बड़े इंडस्ट्री चैंबर्स के बैनर तले बैठक किए जाने पर कड़ा एतराज जताया है.

इंडस्ट्री चैंबर्स की बैनर आड़ में मुलाकात करना गहरी चिंता

कैट ने एक बयान में कहा है कि डीपीआईआईटी के लिये ई-कॉमर्स कंपनियों के अधिकारियों से उनकी खुद की कंपनी के बैनर तले मिलने में कोई बुराई नहीं है लेकिन देश के प्रमुख इंडस्ट्री चैंबर्स सीआईआई (CII), फिक्की (FICCI), एसोचैम (Assocham) और पीएचडीसीसीआई (PHDCCI) के बैनर की आड़ में सरकार का इनसे मुलाकात करना गहरी चिंता की बात है.

ई-कॉमर्स कंपनियों के मनमाने रवैये पर नियंत्रण की जरूरत
कैट ने प्रमुख इंडस्ट्री चैंबर्स के बैनर तले अमेजॉन और फ्लिपकार्ट के भारत प्रतिनिधियों की मुलाकात को 'भेड़ के वेष में भेड़िया' के समान बताया. कैट का कहना है कि इन विदेशी वित्तपोषित ई-कॉमर्स कंपनियों के मनमाने रवैये को जल्द से जल्द नियंत्रित किया जाना चाहिए ये कंपनियां न केवल ई-कॉमर्स को बल्कि घरेलू व्यापार पर क्लाउडटेल जैसे संस्थाओं के माध्यम से एकाधिकार जमाने की कोशिश में हैं.

ये भी पढ़ें- UP, बिहार, झारखंड और पं. बंगाल जाने वाली इन 48 स्पेशल ट्रेनों के परिचालन में हुआ विस्तार, यहां देखें पूरी लिस्ट

एफडीआई के मुद्दे पर भी कैट ने खोल रखा है मोर्चा



ई-कॉमर्स कंपनियों के मामले में एफडीआई के मुद्दे को लेकर कैट लंबे समय से इन कंपनियों के खिलाफ मोर्चो खोले हुए है. डीपीआईआईटी ने 19 मार्च को देश में ई-कॉमर्स क्षेत्र में एफडीआई के मुद्दे पर इन कंपनियों से अपनी बात रखने को कहा था. प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन का एक अधिकारी फिक्की के बैनर तले बैठक में पहुंचा. हालांकि, इंडस्ट्री चैंबर्स ने बाद में साफ किया कि प्रतिनिधि ने उसके ई-कॉमर्स सदस्यों के केवल एक हिस्से का ही प्रतिनिधित्व किया है.

देशभर में ई-मेल सत्याग्रह करेगा कैट

कैट ने सरकार से एफडीआई के संबंध में उसके प्रेस नोट-2 की सभी खामियों को दूर कर एक नया प्रेस नोट जारी करने की मांग की है. कैट ने कहा है कि वह इसके लिए देशभर में ई-मेल सत्याग्रह करेगा. बयान के मुताबिक कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने घोषणा की है कि 25 मार्च को देशभर में 40 हजार से अधिक छोटे और बड़े ट्रेडर्स एसोसिएशन 'ई-कॉमर्स डेमोक्रेसी डे' के रूप में मनाएंगे. इसके बाद 28 मार्च को व्यापारी अमेजन और फ्लिपकार्ट का होलिका दहन करेंगे और अपना गुस्सा निकालेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज