ई-कॉमर्स नियमों के उल्लंघन के खिलाफ उतरे कारोबारी, CAIT ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

कैट ने यह सुझाव भी दिया कि जीएसटी के सहज क्रियान्वयन और टैक्स का दायरा व राजस्व बढ़ाने के लिए हर जिले में जिला जीएसटी वर्किंग ग्रुप का गठन किया जा सकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. खुदरा कारोबारियों के संगठन कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स यानी कैट (Confederation of All India Traders) ने 26 फरवरी को अपने 'भारत बंद' (Bharat Bandh) के आह्वान से पहले रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को पत्र लिखा. संगठन ने इस पत्र में जीएसटी (GST) सिस्टम संबंधित मुद्दों और प्रमुख कंपनियों के द्वारा ई-कॉमर्स नियमों के कथित उल्लंघन का जिक्र किया.

स्पेशल वर्किंग ग्रुप गठित करने की मांग 

कैट (CAIT) ने प्रधानमंत्री से जीएसटी स्ट्रक्चर की समीक्षा कर सरकार को सलाह देने के लिए केंद्रीय स्तर पर स्पेशल वर्किंग ग्रुप गठित करने की भी मांग की, जिसमें वरिष्ठ अधिकारी, कैट के प्रतिनिधि और स्वतंत्र टैक्स एक्सपर्ट शामिल हों.

ये भी पढ़ें- 40 लाख के पार हुई Koo App के यूजर्स की संख्या, कंगना रनौत के हुए एक लाख से ज्यादा फॉलोअर्स
जीएसटी में कुछ हालिया संशोधन पीएम के मिशन के खिलाफ

कैट ने यह सुझाव भी दिया कि जीएसटी के सहज क्रियान्वयन और टैक्स का दायरा व राजस्व बढ़ाने के लिए हर जिले में जिला जीएसटी वर्किंग ग्रुप का गठन किया जा सकता है. कैट ने कहा कि जीएसटी में कुछ हालिया संशोधनों ने सरकारी अधिकारियों को मनमानी और अनैतिक शक्तियां दी हैं. यह 'न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन' (Minimum Government, Maximum Governance) के प्रधानमंत्री के मिशन के खिलाफ है.

ये भी पढ़ें: SBI डेबिट कार्ड का पिन जेनरेट करना है? बैंक ने बताया आसान प्रोसेस, लगेगा सिर्फ 5 मिनट का समय



26 फरवरी को पूरे देश में बंद रहेंगे बाजार

हाल ही में कैट को कहा था कि जीएसटी के प्रावधानों की समीक्षा की मांग को लेकर भारत बंद के आह्वान के कारण देश भर में 26 फरवरी को सभी कमर्शियल बाजार बंद रहेंगे. संगठन ने जीएसटी सिस्टम को सरल और युक्तिसंगत (Rationalise) बनाने के लिए टैक्स सिस्टम और टैक्स स्लैब की समीक्षा की मांग की है ताकि एक साधारण व्यापारी भी आसानी से जीएसटी के प्रावधानों का पालन कर सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज