लॉकडाउन के बाद टेक्नोलॉजी बनी इस कंस्ट्रक्शन कंपनी का सहारा, 100 फीसदी तक पहुंची वर्कफोर्स क्षमता

सांकेतिक तस्वीर

Capacit’e Infraprojects के लिए वर्कफोर्स और श्रमिकों की संख्या कोरोना काल के पूर्व स्तर पर यानी 100% पर पहुंच गई है. कोविड-19 का यह दौर कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री के लिए भी बेहद चुनौतीपूर्ण रहा है, खासतौर से बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कंपनियों के लिए जिनकी सबसे ज्यादा मौजूदगी शहरों में क्षेत्रों में है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप से उबरकर सामान्य स्थिति में पहुंचने के लिए अभी कई सेक्टर और बिजनेस संघर्ष कर रहे हैं. लेकिन, एक ऐसी कंपनी भी है, जो बहुत तेजी से अपनी स्थिति बेहतर कर रही है. Capacit’e Infraprojects के लिए वर्कफोर्स और श्रमिकों की संख्या कोरोना काल के पूर्व स्तर पर यानी 100% पर पहुंच गई है. एक समय में यह महज 5 फीसदी पर था. महामारी के बीच इस कंपनी के सप्लाई चेन में भी बड़ा सुधार हुआ है. हालांकि, इसके साथ ही कुछ नये नॉर्म्स को अपनाना पड़ा है. पिछले कुछ महीनों में प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन की संख्या में बढ़ोतरी हुई है. इसकी झलक कंपनी के क्लाइंट्स द्वारा प्रोजेक्ट पूरा करने की मांग से ही देखने को मिल सकती है. इस सेक्टर के लिए भी यह एक पॉजिटिव साइन माना जा रहा है.

    कोविड-19 का यह दौर कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री के लिए भी बेहद चुनौतीपूर्ण रहा है, खासतौर से बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कंपनियों के लिए जिनकी सबसे ज्यादा मौजूदगी शहरी क्षेत्रों में है. प्रवासी मजदूरों का वापस चले जाना इस इंडस्ट्री के लिए सबसे बड़ी समस्या रही. प्रवासी मजदूरों की अनुपस्थिति में लॉकडाउन के बाद साइट पर गतिविधियों को बढ़ाने में चुनौतियों का सामना करना पड़ा. टियर-1 शहरों में यह समस्या सबसे ज्यादा देखने को मिली. वास्तव में देखें तो यह स्थिति बहुत विकट थी. किसी को भी इस बात की भनक नहीं थी कि यह स्थिति किस ओर बढ़ रही है.

    श्रमिकों की कमी से निपटने के लिए Capacit’e Infraprojects ने तकनीकी प्लेटफॉर्म eFORCE की मदद लेकर कैपटेक टेक्नोलॉजी (Captech Technology) डेवलप किया. इस प्लेटफॉर्म की मदद से जनरल कॉन्ट्रैक्टर्स/प्रोजेक्ट डेवलपर्स, प्रवासी मजदूर कॉन्ट्रैक्टर्स और स्पेशलाइज्ड वेंडर्स के बीच एक पुल बनाने में मदद मिली.

    कंपनी के मुताबिक, पिछले दो सप्ताह में टेक प्लेटफॉर्म eFORCE के जरिए 1,200 से ज्यादा श्रमिकों को शामिल किया गया है. ये श्रमिक कंपनी के मौजूदा प्रोजेक्ट्स - CIDCO, जेजे हॉस्पिटल समेत अन्य प्रमुख साइट्स पर काम कर रहे हैं.

    Capacit’e के पास पब्लिक सेक्टर ऑर्डर्स समेत करीब 47 अरब रुपये का ऑर्डर बुक है, जोकि अब कुल ऑर्डर बुक का करीब 68 फीसदी पर है. कंपनी के पास पब्लिक सेक्टर ऑर्डर बुक में मिक्स्ड यूज्ड बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन के लिए CIDCO का प्रोजेक्ट है. इसके अलावा MCGM-भगवती हॉस्पिटल और PWD (जेजे हॉस्पिटल्स), DRDO के लिए बीएसएनएल डेटा सेंटर्स और MHADA के प्रोजेक्ट्स हैं.

    सरकारी ऑर्डरबुक के अलावा, कंपनी के पास प्राइवेट सेक्टर से भी 47 अरब रुपये का ऑर्डर बुक है. इसमें कुछ प्रमुख बड़े डेवलपर्स जैसे - ओबेरॉय रियल्टी, रेमंड रियल्टी, पीरामल रियल्टी, फिनिक्स, के रहेजा और गोदरेज समेत अन्य हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.