अपना शहर चुनें

States

बजट 2021: कैपिटल गेन पर बढ़े छूट और मिले खर्च करने की शक्ति, जानिए क्या चाहता है आम आदमी


इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स का कहना है कि बजट 2021 में वरिष्ठ नागरिकों के लिए टैक्स फ्रेंडली यूनिवर्सल पेंशन प्रोग्राम की शुरुआत की जा सकती है. फाइल फोटो
इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स का कहना है कि बजट 2021 में वरिष्ठ नागरिकों के लिए टैक्स फ्रेंडली यूनिवर्सल पेंशन प्रोग्राम की शुरुआत की जा सकती है. फाइल फोटो

Budget 2021: कोरोना महामारी (Coronavirus) के बीच केंद्र सरकार द्वारा अलग-अलग घोषणाओं और आर्थिक पैकेज ने अर्थव्यवस्था की गति को चलायमान रखा. ऐसे में बजट 2021 से जनता की उम्मीदें बढ़ गई हैं, जो अर्थव्यवस्था को नई गति दे सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 31, 2021, 11:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की अर्थव्यवस्था धीरे-धीरे कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी से उबरने लगी है और आम आदमी टैक्सपेयर फ्रेंडली बजट की उम्मीद में अर्थव्यवस्था में एक बड़ी उछाल के प्रति आशान्वित है. 2020 में केंद्र सरकार द्वारा विभिन्न वित्तीय ऐलान और आर्थिक पैकेज ने अर्थव्यवस्था को चलाए रखा तो बजट 2021 को ऐतिहासिक घटना के रूप में देखा जा रहा है, जो भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) को एक नई उछाल और गति दे सकता है. आइए जानते हैं कि बजट में केंद्र सरकार से क्या चाहता है आम आदमी -

रिमोट वर्किंग सेटअप के लिए छूट

कोरोना वायरस महामारी के बीच पेशेवर वर्ग ने बड़ा बदलाव देखा है. काम करने के तरीके बदल गए हैं. कंपनियों ने वर्क फ्राम होम शुरू किया और अब ये एक तरीके से नियम बन गया है. ऐसे में जनता को उम्मीद है कि बजट 2021 में सरकार को कुछ ऐसे प्रावधान करने चाहिए जिससे कर्मचारियों को टैक्स में कुछ छूट मिले. उदाहरण के तौर पर कुल आय में 50 हजार रुपये की अतिरिक्त मानक छूट उन कर्मचारियों को कुर्सी/फर्नीचर, कम्प्यूटर उपकरण और डाटा आदि पर खर्च के लिए दी जानी चाहिए जो वर्क फ्राम होम कर रहे हैं.



80C और 80D के तहत इनकम टैक्स में छूट के दायरे को बढ़ाना
बजट 2021 में 80C और 80D के तहत छूट के दायरे को बढ़ाने से खर्च और निवेश को बढ़ाने में मदद मिलेगी. एक्सपर्ट्स अर्थव्यवस्था के लिए इसे महत्वपूर्ण मानते हैं. सेक्शन डी के तहत गैर-वरिष्ठ नागरिकों के लिए मेडिकल कवरेज की दायरे को 25 हजार से 50 हजार किया जा सकता है, जबकि वरिष्ठ नागरिकों के लिए इसे 50 हजार से 75 हजार करने से करदाताओं को कोरोना वायरस महामारी जैसी स्वास्थ्य संकट की स्थिति में काफी मदद मिलेगी.

उपभोक्ताओं के खर्च करने की शक्ति में इजाफा

विशेषज्ञों का कहना है कि केंद्र सरकार को करदाताओं को टैक्स में राहत देते हुए टैक्स सुधार की मांग की है, ताकि उपभोक्ताओं के खर्च करने की शक्ति में इजाफा हो. विशेषज्ञ कहते हैं कि बजट में एक बेहतर टैक्स व्यवस्था का ऐलान चाहिए जोकि आसान और सरल हो. इसके साथ ही स्टार्ट-अप और एमएसएमई जैसे उद्यमों के लिए टैक्स में राहत के साथ टैक्स हॉलिडे का प्रावधान किया जाना चाहिए, ताकि नए उद्यमों को नौकरी देने और प्रतिभाओं को बरकरार रखने में मदद मिले. इससे रोजगार की संभावनाओं में मदद मिलेगी.

इसके साथ ही एक्सपर्ट्स लंबे समय के इक्विटी शेयर निवेश पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन में छूट के दायरे को भी बढ़ाने की मांग कर रहे हैं. इक्विटी शेयर और इक्विटी म्युचुअल फंड पर कैपिटल गेन में 1 लाख रुपये की छूट है. लेकिन, कैपिटल गेन एक लाख से ऊपर होने पर 10 फीसद (सरचार्ज और सेस भी) की दर से टैक्स लगता है और इस इंडेक्सेशन का लाभ भी नहीं मिलता. एक्सपर्ट का कहना है कि सरकार को कैपिटल गेन में छूट के दायरे को खुदरा निवेशकों के लिए 1 लाख से बढ़ाकर 2 लाख करना चाहिए. इसके साथ ही अगर टैक्स रेट में 5 फीसद की कमी कर दी जाए तो कैपिटल मार्केट को जबरदस्त बढ़ावा मिलेगा.

Debt लिंक्ड बचत योजनाओं की शुरुआत

इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स का मानना है कि डीएलएसएस (डेट लिंक्ड सेविंग स्कीम) की शुरूआत खुदरा निवेशकों की लंबी अवधि की बचत को उचित टैक्स लाभ के साथ हायर क्रेडिट वाले डेट इंस्ट्रूमेंट्स में शामिल करने में मदद करेगी, जिससे भारतीय बॉन्ड मार्केट को और विस्तार देने में मदद मिलेगी. साथ निवेशक अपने पैसे को 15 साल के पीपीएफ और एनपीएस (रिटायरमेंट तक) के मुकाबले 5 वर्ष के छोटे लॉक-इन प्रोडक्ट में निवेश कर सकेंगे.

वरिष्ठ नागरिकों के लिए पेंशन स्कीम

देश में वरिष्ठ नागरिकों की एक बड़ी आबादी के पास पेंशन स्कीम के फायदे से वंचित है. इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स का कहना है कि वरिष्ठ नागरिकों के लिए टैक्स फ्रेंडली यूनिवर्सल पेंशन प्रोग्राम की शुरुआत की जा सकती है. सरकार के पास आबादी के एक बड़े वर्ग को आर्थिक आजादी प्रदान का सुनहरा मौका है.

देशवासियों को उम्मीद है कि सरकार बजट के प्रावधानों में इन सुझावों को शामिल करती है, तो उन्हें बड़ी मदद मिलेगी और आने वाले साल में अर्थव्यवस्था की तस्वीर और चमकदार होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज