होम /न्यूज /व्यवसाय /Free Ration: कैपिटलमाइंड के सीईओ का विवादित बयान - कोविड हुआ खत्‍म, अब मुफ्त राशन बांटने की जरूरत नहीं

Free Ration: कैपिटलमाइंड के सीईओ का विवादित बयान - कोविड हुआ खत्‍म, अब मुफ्त राशन बांटने की जरूरत नहीं

80 करोड़ गरीबों को हर महीने 5 किलो गेहूं और चावल मुफ्त देने की योजना अब 31 दिसंबर 2022 तक जारी रहेगी.

80 करोड़ गरीबों को हर महीने 5 किलो गेहूं और चावल मुफ्त देने की योजना अब 31 दिसंबर 2022 तक जारी रहेगी.

Free Ration Scheme: कैपिटलमाइंड दीपक शेनॉय ने ट्वीट करते हुए कहा कि, 'यह एक बुरा फैसला है. पहले से ही सस्ती दर पर राशन ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

सरकार ने गरीबों को मुफ्त राशन देने की योजना 31 दिसंबर तक बढ़ाई है.
कैपिटलमाइंड दीपक शेनॉय ने ट्वीट करते हुए कहा कि यह एक बुरा फैसला है.
'इसके लिए सरकार 44,000 करोड़ रुपये अनावश्यक रूप से खर्च करेगी.'

मुंबई. कैपिटलमाइंड के फाउंडर और सीईओ दीपक शेनॉय ने त्योहारी सीजन के कारण केंद्र की मुफ्त राशन योजना को तीन महीने के लिए बढ़ाने की घोषणा पर प्रतिक्रिया दी और कहा कि यह एक खराब निर्णय है. उन्होंने कहा कि चूंकि सस्ती दर पर पहले से राशन पर उपलब्ध है, इसलिए मुफ्त भोजन देने की कोई जरूरत नहीं है, खासकर तब जब कोविड खत्म हो गया है.

कैपिटलमाइंड दीपक शेनॉय ने ट्वीट करते हुए कहा कि, ‘यह एक बुरा फैसला है. पहले से ही सस्ती दर पर राशन उपलब्ध है इसलिए मुफ्त भोजन देने की कोई जरूरत नहीं है, कोविड खत्म हो गया है.’ दरअसल वह पश्चिम बंगाल में विपक्ष के नेता और भाजपा लीडर सुवेंदु अधिकारी के एक ट्वीट का जवाब दे रहे थे, जिन्होंने त्योहारी सीजन के दौरान मुफ्त राशन योजना का विस्तार करने के लिए केंद्र को धन्यवाद दिया था.

News18 Hindi

          Image- Tweet Screen Shot

ये भी पढ़ें- 80 करोड़ लोगों को दिवाली में मिलेगा मुफ्त अनाज, सरकार ने दिसंबर तक बढ़ाई गरीब कल्‍याण योजना की मियाद

योजना बढ़ाने पर सरकार के फैसले की सराहना
बीजेपी नेता सुवेंदु अधिकारी ने केंद्र के इस फैसले पर ट्वीट करते हुए कहा कि ‘मुझे यकीन है कि यह निर्णय निश्चित रूप से हमारे बहुत से नागरिकों को त्योहारों के मौसम में खुशी देगा’. वहीं इस पर रिएक्शन देते हुए दीपक शेनॉय ने यह भी कहा कि इसके लिए सरकार 44,000 करोड़ रुपये अनावश्यक रूप से खर्च करेगी.

क्‍या मिलता है योजना में
मोदी सरकार इस योजना के तहत देश की 80 करोड़ जनता को हर महीने प्रति व्‍यक्ति के हिसाब से 5 किलो गेहूं या चावल देती है. साथ ही एक किलोग्राम प्रति व्‍यक्ति के हिसाब से साबुत चना दिया जाता है. इस योजना का मकसद कोरोनाकाल में महामारी से प्रभावित गरीबों के लिए खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करना है. गुजरात और हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले सरकार ने बुधवार को 44,762 करोड़ रुपये की लागत से गरीबों को मुफ्त राशन प्रदान करने के अपने कार्यक्रम को तीन महीने के लिए बढ़ा दिया.

ये भी पढ़ें- काम की बात: राशन कार्ड में जरूर जुड़वाएं घर के नए सदस्‍य का नाम, बहुत आसान है प्रक्रिया

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि 80 करोड़ गरीबों को हर महीने 5 किलो गेहूं और चावल मुफ्त देने की योजना अब 31 दिसंबर 2022 तक चलेगी, जो कि 30 सितंबर को खत्म होने वाली थी. दरअसल बढ़ती महंगाई के बीच सरकार के इस फैसले से करोड़ों लोगों को इससे राहत मिल सकती है.

Tags: Antyodaya ration card, BPL ration card, COVID 19, PM Modi

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें