होम /न्यूज /व्यवसाय /कल तक कर लें ये काम, नहीं तो पोस्ट ऑफिस की इन बचत योजनाओं का अटक जाएगा पैसा

कल तक कर लें ये काम, नहीं तो पोस्ट ऑफिस की इन बचत योजनाओं का अटक जाएगा पैसा

1 अप्रैल, 2022 से सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम, टर्म डिपॉजिट और मंथली इनकम स्कीम (MIS) के नियम बदलने वाले हैं

1 अप्रैल, 2022 से सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम, टर्म डिपॉजिट और मंथली इनकम स्कीम (MIS) के नियम बदलने वाले हैं

धोखाधड़ी को रोकने और डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए पोस्टल डिपार्टमेंट ने निवेश योजनाओं से जुड़े नियम बदल दिए हैं. ...अधिक पढ़ें

नई दिल्लीः पोस्ट ऑफिस की मासिक आय योजना (एमआईएस), वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (एससीएसएस) और टर्म डिपॉजिट से जुड़े निवेश नियम 1 अप्रैल से बदलने वाले हैं. इन निवेश योजनाओं पर मिलने वाला ब्याज अब नकद नहीं मिलेगा. इसमें निवेश करने वाले निवेशकों का सेविंग अकाउंट होना अब जरूरी कर दिया गया है. यानी जिनका सेविंग अकाउंट नहीं है उन्हें इन योजनाओं में निवेश करते वक्त सेविंग अकाउंट खुलवाना होगा.

साथ ही निवेश योजनाओं को अकाउंट से लिंक भी कराना होगा. जिन निवेशकों का पहले से सेविंग अकाउंट है और उन्होंने अभी तक अपनी इन योजनाओं को अकाउंट से लिंक नहीं किया है तो उनके लिए ऐसा करना जरूरी है. इन योजनाओं के ब्याज का भुगतान अब सेविंग अकाउंट में ही होगा.

31 मार्च तक करा लें लिंक

अगर आपने भी इन योजनाओं में निवेश कर रखा है और अपने सेविंग अकाउंट को इससे लिंक नहीं किया है तो यह काम 31 मार्च तक कर लें. सेविंग अकाउंट से लिंक कराने की अंतिम तारीख 31 मार्च, 2022 है. इस समय तक आपने ऐसा नहीं किया तो आप ब्याज का पैसा सिर्फ पोस्ट ऑफिस सेविंग स्कीम में क्रेडिट या चेक के जरिये ही ले सकेंगे. वरिष्ठ नागरिकों को ब्याज तभी मिलेगा जब उनकी निवेश योजना सेविंग अकाउंट से लिंक होगी.

ये भी पढ़ें- 7th Pay Commission: सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों का DA बढ़ाया, 31 से किया 34 फीसदी, जानिए बाकी डिटेल

लिंक कराने के लिए क्या करना होगा

अपनी निवेश योजनाओं को बचत खाता से लिंक कराने के लिए एसबी-83 फॉर्म भरना होगा. इस फॉर्म को मासिक आय योजना के पासबुक और सेविंग अकाउंट पासबुक के साथ वेरिफिकेशन के लिए पोस्ट ऑफिस में देना होगा. बचत खाते को निवेश योजनाओं से लिंक करने पर खाताधारक बिना पोस्ट ऑफिस गए कभी भी अपने ब्याज के पैसे को निकाल सकते हैं. साथ ही उन्हें पैसे निकालने के लिए अलग से फॉर्म भरने से छुटकारा मिलेगा.

ये भी पढ़ें- 1 साल में 5500 फीसदी का रिटर्न देने वाली यह कंपनी अब देगी इतने फीसदी का अंतरिम लाभांश

धोखाधड़ी रोकने को नियमों में हुआ बदलाव

पोस्टल डिपार्टमेंट ने धोखाधड़ी रोकने, मनी लॉन्ड्रिंग पर अंकुश लगाने और डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए नियमों में यह बदलाव किया है. पोस्टल डिपार्टमेंट के मुताबिक, मासिक आय योजना के कुछ खाताधारकों ने ब्याज के क्रेडिट के लिए अपने सेविंग अकाउंट को लिंक नहीं कराया है. बहुत से खाताधारों को यह मालूम भी नहीं है कि उन्हें ब्याज मिल रहा है. ब्याज के पैसे उनके पोस्ट ऑफिस अकाउंट में ही रह जाते हैं.

Tags: India post, Interest paid, Post Office, Post office MIS

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें