BSNL 3 हजार करोड़ से ज्यादा की करेगा वसूली, उठाएगा ये कदम!

नकदी समस्या से जूझ रही सार्वजनिक क्षेत्र की भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने अपने कंपनी ग्राहकों से बकाये की वसूली के लिये आक्रामक तरीके से कदम उठाने की योजना बनाई है.

भाषा
Updated: August 11, 2019, 3:39 PM IST
BSNL 3 हजार करोड़ से ज्यादा की करेगा वसूली, उठाएगा ये कदम!
BSNL 3,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की करेगा वसूली
भाषा
Updated: August 11, 2019, 3:39 PM IST
नकदी समस्या से जूझ रही सार्वजनिक क्षेत्र की भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) ने अपने कंपनी ग्राहकों से बकाये की वसूली के लिये आक्रामक तरीके से कदम उठाने की योजना बनाई है. दूरसंचार कंपनी (Telecom Company) अगले दो तीन महीनों में 3,000 करोड़ रुपये से अधिक के बकाये में से बड़ी राशि की वसूली की उम्मीद कर रही है. BSNL यह कदम ऐसे समय उठा रही है जब कंपनी वित्तीय स्थिति को लेकर खासा दबाव में है और इसके कारण उसे इस साल दूसरी बार कर्मचारियों के वेतन भुगतान में देरी की है. BSNL ने कर्मचारियों का जुलाई महीने का वेतन 5 अगस्त को जारी किया था.

3,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की वसूली
BSNL के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक पी के पुरवार ने कहा, हमारा कंपनी ग्राहकों के ऊपर बकाया है जो 3,000 करोड़ रुपये से अधिक है. हम इसकी वसूली के लिये आक्रामक तरीके से कदम उठा रहे हैं. .इस दिशा में हमें सफलता भी मिल रही है. पुरवार ने कहा कि पूरी बकाया राशि वसूली की समयसीमा बताना कठिन है, पर BSNL को अगले दो-तीन महीनों में उसमें से बड़ी राशि की वसूली की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें: भारत से पंगा लेना पाकिस्तान को पड़ा भारी, बकरीद से पहले महंगाई पर हाहाकार

किराये से 1000 करोड़ की आय पर नजर
कंपनी किराये से भी बढ़ी हुई आय प्राप्त करने की उम्मीद कर रही है. इस साल बीएसएनएल की किराये से करीब 1,000 करोड़ रुपये की आय पर नजर है. पिछली बार यह 200 करोड़ रुपये थी. इस योजना के तहत मौजूदा इमारतों के अधिक-से-अधिक उपयोग और ज्यादा जगह को पट्टे पर देने की योजना है.

इसके अलावा बीएसएनएल सालाना करीब 200 करोड़ रुपये तक बचाने को लेकर ‘आउटसोर्स’ किये गये कार्यों को दुरुस्त करने पर भी काम कर रही है. कंपनी का मासिक आय और खर्च (परिचालन व्यय और वेतन) में 800 करोड़ रुपये का अंतर है.
Loading...

BSNL-MTNL के लिए रिवाइवल पैकेज तैयार
दूरसंचार विभाग रिवाइवल पैकेज के रूप में BSNL और महानगर टेलीफोन निगम लि. (MTNL) के लिये राहत योजना तैयार कर रहा है. इस पैकेज में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना, संपत्ति को बाजार पर चढ़ाने और 4 जी स्पेक्ट्रम का आवंटन शामिल है. इसके अलावा विभाग दोनों सार्वजनिक उपक्रमों (BSNL और MTNL) को पटरी पर लाने के इरादे से संभवत: उनके विलय पर भी काम कर रहा है. बीएसएनएल को 2018-19 में करीब 14,000 करोड़ रुपये के घाटे का अनुमान है. कंपनी को 2017-18 में 7,993 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था.

ये भी पढ़ें: खुशखबरी! 10 बजे नहीं, अब इस समय खुलेंगे सभी सरकारी बैंक, सितंबर से लागू होगा नया समय
First published: August 11, 2019, 3:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...