बड़ी खबर- Air India ने अपने कर्मचारियों के EPF खाते में जमा नहीं की PF की रकम!

सरकारी विमान कंपनी एअर इंडिया
सरकारी विमान कंपनी एअर इंडिया

सरकारी विमान कंपनी एअर इंडिया (Air India) अपने कर्मचारी ​पीएफ (EPF) और TDS पेमेंट में डिफॉल्ट कर रही है. जनवरी 2020 से ही कंपनी ने ये पेमेंट्स नहीं किया है. इससे एअर इंडिया के सभी मौजूदा कर्मचारी समेत रिटायर हो चुके कर्मचारियों पर भी असर पड़ रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 19, 2020, 1:27 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कर्ज के बोझ में डूबी देश की सरकारी विमान कंपनी एअर इंडिया (Air India) अपने कर्मचारी प्रोविडेंट फंड (EPF) व टीडीएस जैसे वैधानिक पेमेंट का लगातार डिफॉल्ट (Air India Payment Default) कर रही है. एक मीडिया रिपोर्ट में इस मामले से जुड़े लोगों के हवाले से यह बात सामने आई है. एअर इंडिया द्वारा इस तरह के पेमेंट में डिफॉल्ट का मामला एक ऐसे समय पर आया है, जब केंद्र सरकार एअर इंडिया के विनिवेश की योजना पर काम कर रही है.

हालांकि विमान कंपनी ने टीडीएस पेमेंट को लेकर भी किसी बकाये को लेकर इनकार कर दिया है. पीएम पेमेंट के बारे में अभी तक कोई स्पष्टीकरण नहीं आया है. बिजनेस अखबर इकोनॉमिक टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में एअर इंडिया के हवाले से लिखा है कि कंपनी ने टीडीएस बकाये का भुगतान कर दिया है. फॉर्म 16 बांटने की प्रक्रिया भी जारी है.

जनवरी 2020 से बकाया है पेमेंट
इसी रिपोर्ट में सरकारी अधिकारियों के हवाले से लिखा गया है कि एअर इंडिया ने इस साल जनवरी से लेकर अब तक टीडीएस और पीएफ पेमेंट नहीं किया है. मार्च अंत तक कुल बकाया टीडीएस करीब 26 करोड़ रुपये है. इसी प्रकार पीएफ पेमेंट भी करोड़ो रुपये में है. इस सरकारी विमान कंपनी के प्रवक्ता ने मामले पर कोई जानकारी देने से मना कर दिया है.
यह भी पढ़ें: राज्यसभा में पास हुआ इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी संशोधन विधेयक, जानिए क्या है यह कानून



कर्मचारियों पर होगा असर
मालूम हो कि पीएफ या टीडीएस नहीं चुकाने से कंपनी की मौजूदा कर्मचारियों के साथ रिटायर हो चुके लोगों पर भी पड़ता है. आमतौर पर रिटायरमेंट के 60 दिन के अंदर की कर्मचारियों को पीएफ एरियर दे दिया जाता है.

जुलाई में ही नागर उड्डयन मंत्रालय ने साफ कर दिया था कि एअर इंडिया को अब कोई फंडिंग नहीं दी जाएगी. इसके बाद से कंपनी की वित्तीय हालत और भी खराब हो चुकी है. यही कारण है कि कंपनी अब पेमेंट डिफॉल्ट करने की स्थिति में पहुंच गई है.

आपके PF अकाउंट में कितना है पैसा? ऐसे पता करें कब जमा हुए और कब नहीं?PF में जमा कराने के लिए एक राशि तय है. कर्मचारी और कंपनी को हर महीने बैसिक सैलरी और डीए का 12 फीसदी देना होता है. 12 फीसदी का 8.33% राशि ईपीएफ किटी में जाती है. वहीं, 3.67 फीसदी हिस्सा ईपीएफ में जमा होता है.

ऐसे चेक करें ईपीएफ बैलेंस और पासबुक ऑनलाइन

1- EPFO ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर EPF बैलेंस चेक करने की सुविधा दी है. ई-पासबुक का लिंक आपको वेबसाइट के ऊपरी दाएं हिस्से में मिल जाएगा.

2- इसके बाद व्यक्ति को UAN नंबर और उसका पासवर्ड डालना होगा.

3- वेबसाइट पर UAN नंबर और पासवर्ड डालने के बाद व्यू पासबुक बटन पर क्लिक करना होगा और वहां आपको बैलेंस पता चल जाएगा.

ऐप से कर सकते हैं बैलेंस चेक

EPF बैलेंस का पता EPFO की ऐप से भी लगा सकते हैं. इसके लिए सबसे पहले मेंबर पर क्लिक करें और उसके बाद UAN नंबर और पासवर्ड डालें.

मिस कॉल से पता करें पीएफ बैलेंस

जिसे अपना PF बैलेंस के बारे में जानना है तो वह एक मिस कॉल कर के भी पता कर सकता है. EPFO ने एक बयान में बताया है कि रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 011-22901406 पर मिस कॉल करनी होगी. इसके बाद मैसेज के जरिए पता चल जाएगा कि आपके अकाउंट में कितना पीएफ का बैलेंस है.

मैसेज मिस्‍ड कॉल के तुरंत बाद ही एक मैसेज भी आपको मिलता है यह मैसेज AM-EPFOHO की तरफ से आता है. EPFO की तरफ से यह मैसेज भेजा जाता है. इस मैसेज में आपके अकाउंट की सारी जानकारी रहती है साथ ही कुछ और डिटेल जैसे कि: मेंबर आइडी, पीएफ नम्‍बर, नाम, जन्‍मतिथि, ईपीएफ बैलेंस, अंतिम योगदान.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज