IT सरचार्ज वापसी में घरेलू निवेशकों के साथ भेदभाव नहीं- CBDT

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने कहा है कि निवेशकों के कुछ वर्गों की एक सीमा से अधिक आय (Income) पर कर (Tax) बढ़ा हुआ कर अधिभार (Surcharge) वापस लेने से विदेशी फोर्टफोलिया निवेशकों (FPI) और घरेलू निवेशकों (Domestic Investors) के बीच कोई नया फर्क पैदा नहीं किया गया है.

भाषा
Updated: August 28, 2019, 5:38 PM IST
IT सरचार्ज वापसी में घरेलू निवेशकों के साथ भेदभाव नहीं- CBDT
आयकर-अधिभार वापसी में घरेलू निवेशकों के साथ कोई भेदभाव नहीं
भाषा
Updated: August 28, 2019, 5:38 PM IST
केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने कहा है कि निवेशकों के कुछ वर्गों की एक सीमा से अधिक आय (Income) पर कर (Tax) बढ़ा हुआ कर अधिभार (Surcharge) वापस लेने से विदेशी फोर्टफोलिया निवेशकों (FPI) और घरेलू निवेशकों (Domestic Investors) के बीच कोई नया फर्क पैदा नहीं किया गया है.

सीबीडीटी ने बुधवार को जारी बयान में कहा कि टैक्स के मामले में व्यवस्था का फर्क इस बार के बजट से पहले से था. वित्त (नं.2) अधिनियम, 2019, या वित्त मंत्रालय द्वारा पिछले सप्ताह कर-अधिभार वापस लिए जाने की घोषणा से यह अंतर पैदा नहीं हुआ है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गत शुक्रवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों और घरेलू निवेशकों की एक सीमा से अधिक की आय पर आयकर-अधिभार की बढ़ी दरों को वापस ले लिया था.

ये भी पढ़ें: जल्द जरूरी सामानों की कीमतें आप कर पाएंगे कंट्रोल, कंज्यूमर मंत्रालय बनाएगा ऐप

सीबीडीटी ने कहा है कि मीडिया के एक वर्ग की रिपोर्टों से फैली यह धारणा गलत है कि शुक्रवार के निर्णय से घरेलू और विदेशी निवेशकों के लिए विभेदकारी व्यवस्था बन गयी है. बयान में कहा गया है कि 2019 के बजट से पहले भी श्रेणी-तीन के वैकल्पिक निवेश कोषों (एआईएफ-तृतीय श्रेणी) सहित घरेलू निवेशकों और विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) को छोड़ दूसरे विदेशी निवेशकों की डेरिवेटिव कारोबार से अर्जित आय को पूंजीगत आय के बजाय कारोबार से हुई आय माना जाता था और उसपर आयकर की सामान्य दरें ही लागू होती थीं.

सीबीडीटी ने कहा है कि इस तरह वित्त मंत्री की घोषणा से विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों और घरेलू निवेशकों के लिए कोई अलग अलग व्यवस्था नहीं खड़ी की गयी है.

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान की इमरान खान सरकार को लगा झटका! हुआ अब तक के इतिहास में सबसे बड़ा घाटा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 28, 2019, 5:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...