होम /न्यूज /व्यवसाय /Zee-Sony विलय को CCI ने दी सशर्त मंजूरी, मीडिया व एंटरटेनमेंट मार्केट पर मर्जर का होगा क्या असर? समझें

Zee-Sony विलय को CCI ने दी सशर्त मंजूरी, मीडिया व एंटरटेनमेंट मार्केट पर मर्जर का होगा क्या असर? समझें

प्रस्तावित विलय की घोषणा पिछले साल सितंबर में की गई थी.

प्रस्तावित विलय की घोषणा पिछले साल सितंबर में की गई थी.

विलय की घोषणा पिछले साल सितंबर में की गई थी. भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) ने इस विलय से होने वाले प्रभाव पर कुछ चिंता ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

विलय के बाद बनने वाली इकाई देश के बड़े मीडिया समूहों में से एक होगी.
जी ने अपने एक एंटरटेनमेंट चैनल को भी बंद करने का भी प्रस्ताव रखा है.
जी और सोनी, फिल्‍म जॉनर में दोनों की कुल व्‍यूअरशिप 50 प्रतिशत से ऊपर है.

नई दिल्‍ली. भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) ने मंगलवार को मीडिया कंपनियों कल्वर मैक्स एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड (CME) के साथ ज़ी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड (ZEEL) के विलय को कुछ शर्तों के साथ मंजूरी दी है. कल्वर मैक्स एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड (CME) को ही पहले सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया (Sony Pictures Networks India) के नाम से जाना जाता था. विलय के बाद बनने वाली इकाई देश के बड़े मीडिया समूहों में से एक होगी. प्रस्तावित विलय की घोषणा पिछले साल सितंबर में की गई थी.

मनीकंट्रोल की एक रिपोर्ट के अनुसार, ZEE के साथ बांग्ला एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड (BEPL) का भी CME में विलय होगा. बांग्ला एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड, अप्रत्यक्ष तरीके से सोनी ग्रुप कॉर्पोरेशन के पूर्ण स्वामित्व वाली सहयोगी कंपनी है. मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने बताया कि सीसीआई ने ज़ी और सोनी से ऐसे प्रबंध करने के लिए कहा है, जिससे कि विलय के बाद बनने वाली नई कंपनी बाजार में अपने दबदबे का दुरुपयोग न कर पाए.

ये भी पढ़ें-  Musk-Twitter Deal में नया मोड़, टेस्ला प्रमुख ने सौदे के लिए फिर आगे बढ़ाया कदम, ट्विटर को भेजी चिट्ठी!

सीसीआई ने जताई थी चिंताएं
नियामक शुरू में इस निष्कर्ष पर पहुंचा था कि इस सौदे का प्रतिस्पर्धा पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है. इसी को लेकर CCI ने 3 अगस्त को दोनों कंपनियों को नोटिस जारी किया था. इसमें कहा गया था कि विलय के बाद नई कंपनी की ताकत बहुत बढ़ जाएगी. इससे भारत में वह 92 चैनल के साथ मीडिया एवं एंटरटेनमेंट मार्केट में काफी ज्यादा मोलभाव (bargain) करने की स्थिति में आ जाएगी.

इसके अलावा, एडवर्टाइजिंग और चैनल प्राइसिंग के मामले में नई कंपनी की ताकत बहुत बढ़ जाएगी. सोनी और ज़ी ने नोटिस के जवाब देते हुए स्वेच्छा से कुछ प्रस्ताव रखे थे. सूत्रों ने बताया कि ज़ी ने अपने एक एंटरटेनमेंट चैनल को भी बंद करने का भी प्रस्ताव रखा है. कहा जा रहा है सीसीआई ने इन प्रस्तावों को मंजूर कर लिया, जिसके बाद इस डील को मंजूरी दी गई है.

ये भी पढ़ें- इंश्‍योरेंस खरीदना होगा सस्‍ता! ई-पॉलिसी पर जल्‍द मिलना शुरू हो सकता है डिस्‍काउंट, IRDAI ने कही ये बात

क्‍या होगा विलय का असर
मीडिया और एंटरटेनमेंट मार्केट पर मर्जर का होगा बड़ा असर होगा. ऐसा इसलिए, क्‍योंकि अभी सभी जॉनर्स में ज़ी और सोनी, दोनों की व्‍यूअरशिप मिलाकर 40 प्रतिशत से नीचे है.  लेकिन फिल्‍म जॉनर में दोनों कंपनियों की हिस्‍सेदारी 50 प्रतिशत से ऊपर है. कुल दर्शक संख्या के मामले में, ज़ी और सोनी की बाजार हिस्सेदारी लगभग 24 फीसदी है. यह डिज़्नी स्टार की तुलना में ज्‍यादा है, जिसके पास 20 फीसदी दर्शक हैं. ज़ी और सोनी के विलय के बाद बनने वाली नई इकाई के पास कुल विज्ञापन रेवेन्यू का 27 प्रतिशत हिस्‍सा होगा. डिज़्नी स्टार की टीवी विज्ञापन में 26.5 प्रतिशत हिस्सेदारी है.

Tags: Business news, Business news in hindi, Sony TV

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें