• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लिए तेल-गैस खोज, उत्पादन, एथनॉल-मिश्रित ईंधन पर है जोर: Hardeep Singh Puri

ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लिए तेल-गैस खोज, उत्पादन, एथनॉल-मिश्रित ईंधन पर है जोर: Hardeep Singh Puri

केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने कहा, देश को ऊर्जा क्षेत्र में आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए ईंधन में एथनॉल बढ़ाना जरूरी है.

केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने कहा, देश को ऊर्जा क्षेत्र में आत्‍मनिर्भर बनाने के लिए ईंधन में एथनॉल बढ़ाना जरूरी है.

केंद्रीय मंत्री पुरी ने कहा कि विदेशी और घरेलू निवेश (Domestic and Foreign Investment) आकर्षित करने के साथ ही उत्पादन बढ़ाने के लिए प्राकृतिक गैस की खोज व उत्पादन केंद्र सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी (Hardeep Singh Puri) ने कहा कि केंद्र सरकार देश को ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए तेल और प्राकृतिक गैस (Oil & Natural Gas) की खोज तथा उत्पादन बढ़ाने पर जोर दे रही है. इसके साथ ही 2025 तक पेट्रोल में 20 फीसदी एथनॉल (Ethanol-Mixed Fuel) मिलाने के लक्ष्य को पूरा करने का काम सही दिशा में आगे बढ़ रहा है. केंद्रीय मंत्री पुरी ने कहा कि ईंधन में 9 फीसदी एथनॉल मिलाने का लक्ष्य पहले ही हासिल किया जा चुका है.

    ऊर्जा सुरक्षा के लिए ईंधन में बढ़ानी होगी एथनॉल की मात्रा
    केंद्रीय मंत्री पुरी ने कहा कि विदेशी और घरेलू निवेश (Domestic and Foreign Investment) आकर्षित करने के साथ ही उत्पादन बढ़ाने के लिए प्राकृतिक गैस की खोज व उत्पादन केंद्र सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है. उन्‍होंने कहा कि देश की ऊर्जा सुरक्षा (Energy Security) के लिए ईंधन में एथनॉल की मात्रा बढ़ाना महत्वपूर्ण है. बता दें कि भारत अपनी पेट्रोलियम जरूरतों का लगभग 85 फीसदी आयात (Oil Import) से पूरा करता है. इस पर 12 लाख करोड़ रुपये से अधिक की विदेशी मुद्रा खर्च करता है.

    ये भी पढ़ें- LIC Housing दे रही सस्‍ते में घर खरीदने का मौका, सबसे कम दर पर मिलेगा 2 करोड़ तक का होम लोन, चेक करें डिटेल्‍स

    एथनॉल के लिए कृषि अवशेष और बांस पर दे रहे ध्‍यान
    हरदीप पुरी ने जैव ईंधन के कच्चे माल के तौर पर बड़े पैमाने पर खेती में इस्‍तेमाल होने से खाद्य सुरक्षा (Food Safety) पर असर पड़ने की चिंता को दूर किया. उन्‍होंने कहा कि हम एथनॉल के लिए कृषि अवशेष (Agriculture Waste) और पूर्वोत्तर क्षेत्र में बांस पर ध्यान दे रहे हैं. पुरी ने इंडियन चैंबर आफ कामर्स की ओर से यंग लीडर्स फोरम के साथ मिलकर आयोजित परिचर्चा में कहा कि यह कोई समस्या की बात नहीं है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज