'वैभव लक्ष्‍मी' योजना के तहत केंद्र सभी महिलाओं को दे रहा 4 लाख तक का बिजनेस लोन, जानें सच

केंद्र सरकार वैभव लक्ष्‍मी योजना के तहत महिलाओं को 4 लाख रुपये का बिजनेस लोन नहीं दे रही है.
केंद्र सरकार वैभव लक्ष्‍मी योजना के तहत महिलाओं को 4 लाख रुपये का बिजनेस लोन नहीं दे रही है.

सोशल मीडिया पर कुछ समय से केंद्र सरकार की वैभव लक्ष्मी योजना (Vaibhav Laxmi Scheme) को लेकर एक वीडियो मैसेज तेजी से फैलाया जा रहा है. ये मैसेज पूरी तरह से झूठा (Fake News) है. आइए जानें सच्चाई के बारे में...

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 22, 2020, 8:50 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. सोशल मीडिया पर कुछ समय से केंद्र सरकार की वैभव लक्ष्‍मी योजना (Vaibhav Laxmi Scheme) के तहत महिलाओं को 4 लाख रुपये तक का बिजनेस लोन देने का एक वीडियो मैसेज तेजी से फैलाया (Viral Video Message) जा रहा है. इसमें बताया गया है कि केंद्र सरकार वैभव लक्ष्‍मी योजना के तहत महिलाओं को अपना कारोबार शुरू करने के लिए 4 लाख रुपये तक का लोन दे रही है. साथ ही बताया जा रहा है कि ये लोन केंद्र सरकार की मदद से स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) दे रहा है. साथ ही लोन अमाउंट सीधे आवेदन करने वाली महिला के बैंक अकाउंट (DBT) में पहुंच रहा है. बता दें कि ये मैसेज पूरी तरह से झूठा (Fake Message) है.

क्‍या कहा जा रहा है इस वीडियो मैसेज में
केंद्र सरकार (Central Government) ने साफ किया है कि इस तरह की कोई भी योजना नहीं चलाई जा रही है. महिलाएं ऐसे किसी भी मैसेज पर बिलकुल भरोसा न करें. इस मैसेज के जरिये आप धोखाधड़ी (Fraud) का शिकार हो सकती हैं. वीडियो संदेश में कहा जा रहा है कि कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार महिलाओं को ध्‍यान में रखकर वैभव लक्ष्‍मी योजना के तहत अपना कारोबार शुरू करने के लिए 4 लाख रुपये तक का लोन आसान शर्तों पर उपलब्‍ध करा रही है. ये लोन सीधे आपके बैंक अकाउंट में पहुंचेगा. जो भी महिला अपना कारोबार शुरू कर आत्‍मनिर्भर बनना चहती है उन्‍हें ये लोन मिलेगा.


ये भी पढ़ें- HDFC Bank के ग्राहकों के लिए बड़ी खबर! लोन रिस्‍ट्रक्‍चरिंग के लिए जारी किए नियम और शर्तें, इन डॉक्‍युमेंट्स की होगी जरूरत



केंद्र सरकार नहीं चला रही ऐसी योजना
PIB Fact Check में साफ कहा गया है कि यह दावा झूठा है. केंद्र सरकार की ऐसी कोई योजना नहीं है. बता दें कि पीआईबी (Press Information Bureau) भारत सरकार की नीतियों, कार्यक्रम पहल और उपलब्धियों के बारे में समाचार-पत्रों व इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया को सूचना देने वाली प्रमुख एजेंसी है. पीआईबी का सुझाव है कि कोरोना संकट की घड़ी में ही नहीं, देश में जब भी खराब हालात बनते हैं, तब ऐसी फेक न्यूज सोशल मीडिया में प्रसारित होती हैं. ऐसे में सोशल मीडिया से मिली सूचना को अच्‍छे से परखने के बाद ही भरोसा करें.

ये भी पढ़ें- खेती-किसानी से जुड़ी कंपनियों के लिए बड़ी खबर! नए कंपनीज एक्ट को संसद से मिली मंजूरी, अब होंगे ये बदलाव

पहले भी आ चुके हैं ऐसे फेक मैसेज
सोशल मीडिया पर जून 2020 में भी ऐसी ही एक फेक न्‍यूज वायरल हुई थी, जिसमें कहा गया था कि पीएम धन लक्ष्मी योजना (PM Dhan Laxmi Yojana) के तहत महिलाओं को 5 लाख रुपये तक का लोन जीरो फीसदी ब्याज पर मिल रहा है. ये मैसेज भी झूठा निकला था है. इस वॉट्सऐप मैसेज में कहा गया था कि पीएम धन लक्ष्मी योजना देश की उन महिलाओं को ध्यान में रखकर शुरू की गई है, जो खुद का व्यवसाय, स्वरोजगार शुरू कर आत्मनिर्भर बनना चाहती हैं. ऐसी महिलाओं को 5 लाख रुपए तक का लोन मुहैया कराया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज