Home /News /business /

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और IOB के शेयर 52 सप्ताह के उच्‍चस्‍तर पर पहुंचे, जानें भविष्‍य में कैसा रहेगा रुख

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और IOB के शेयर 52 सप्ताह के उच्‍चस्‍तर पर पहुंचे, जानें भविष्‍य में कैसा रहेगा रुख

सेंट्रल बैंक के शेयर में आज 16 फीसदी से ज्‍यादा की तेजी आई.

सेंट्रल बैंक के शेयर में आज 16 फीसदी से ज्‍यादा की तेजी आई.

केंद्र सरकार ने मौजूदा वित्त वर्ष में विनिवेश योजना (Disinvestment Plan) के तहत 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है. इसी कड़ी में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया (CBI) और इंडियन ओवरसीज बैंक (IOB) को विनिवेश के लिए शॉर्टलिस्‍ट किया गया है. इसके बाद से दोनों सरकारी बैंकों के शेयरों में जबरदस्‍त खरीदारी की जा रही है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्‍ली. विनिवेश के लिए छांटे जाने की रिपोर्ट सामने आने के बाद सार्वजनिक क्षेत्र के सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया (Central Bank of India Shares) और इंडियन ओवरसीज बैंक (IOB Shares) के शेयर्स में मंगलवार को अच्छी तेजी दर्ज की गई. दोनों सरकारी बैंकों के शेयर 52 सप्ताह के उच्‍चस्‍तर (52 week high) पर पहुंच गए. केंद्र सरकार ने विनिवेश योजना (Disinvestment Plan) के तहत इन दोनों बैंकों को छांटा है. इससे इनके शेयर्स में बड़ी संख्या में खरीदारी की गई. इंडियन ओवरसीज बैंक का शेयर 18.4 फीसदी चढ़कर 27.95 रुपये के 52 सप्ताह के शीर्ष पर पहुंच गया.

    सेंट्रल बैंक के शेयर में दर्ज किया गया 16.4 फीसदी का उछाल
    सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के शेयर में मंगलवार यानी 22 जून 2021 को 16.4 फीसदी का उछाल दर्ज किया गया. इसने 28.30 रुपये के साथ 52 सप्ताह का उच्‍चस्‍तर छुआ. रिपोर्ट के अनुसार, इन दोनों बैंकों में विनिवेश के पहले फेज में 51 फीसदी हिस्सेदारी बेची जा सकती है. सरकार इन दोनों बैंकों के निजीकरण के लिए संसद (Parliament) के मॉनसून सत्र के दौरान बैंकिंग रेग्‍युलेशंस एक्ट और बैंकिंग लॉ एक्ट में संशोधन कर सकती है. वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने इस वर्ष के बजट में दो सरकारी बैंकों के निजीकरण (Privatization of Banks) की घोषणा की थी.

    ये भी पढ़ें- Gold Price Today: सोना आज फिर उछला, चांदी में आई मामूली गिरावट, फटाफट देखें नए भाव

    दो बैंकों समेत इन सरकारी कंपनियों में हिस्‍सेदारी बेचेगा केंद्र
    नीति आयोग ने हाल में विनिवेश पर सचिवों के कोर ग्रुप को एक रिपोर्ट सौंपी है. इसमें इन दोनों बैंकों को शामिल किया गया है. बता दें कि नीति आयोग को उन सरकारी कंपनियों का सुझाव देने की जिम्मेदारी दी गई है, जिनका विलय (Merger) या निजीकरण किया जाना है या अन्य सरकारी कंपनियों की सहायक कंपनी बनाया जाना है. इस वित्‍त वर्ष में सरकार ने विनिवेश से 1.75 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य रखा है. सरकार की योजना एयर इंडिया (Air India), भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (BPCL), शिपिंग कॉरपोरेशन और कुछ अन्य कंपनियों में हिस्सेदारी बेचने की है. जानकारों का कहना है कि दोनों बैंकों के शेयर में तेजी का सिलसिला अभी जारी रह सकता है.

    Tags: Central bank of india, Disinvestment, FM Nirmala Sitharaman, Share market, Stock Markets

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर