केंद्र सरकार ने दी बड़ी राहत! Remdesivir API और इंजेक्‍शन के आयात पर नहीं लगेगा कोई शुल्‍क, मिलेगा और सस्‍ता

रेमडेसिविर इंजेक्शन संक्रमण के उपचार में काम आता है. (File pic)

रेमडेसिविर इंजेक्शन संक्रमण के उपचार में काम आता है. (File pic)

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने घोषणा की है कि देश में कोविड-19 के मौजूदा हालात को देखते हुए जनहित में रेमडेसिविर इंजेक्‍शन (Remdesivir) के आयात पर कोई शुल्‍क नहीं (Duty Free Import) लगाने का फैसला किया गया है. उम्‍मीद है कि इससे जल्‍द ही देश में कोविड-19 के इलाज में कारगर मानी जा रही ये दवा पर्याप्‍त मात्रा में उपलब्‍ध होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2021, 11:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बीच संक्रमितों के इलाज के लिए ऑक्‍सीजन सिलेंडर (Oxygen Cylinder), रेमडेसिविर (Remdesivir), अस्‍पतालों में बेड (Hospital Beds) जैसी ज्‍यादातर चीजों की कमी महसूस की जा रही है. ऐसे में केंद्र सरकार ने लोगों को राहत देने के लिए बड़ा फैसला लिया है. केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने घोषणा की है कि कोविड-19 के इलाज में कारगर मानी जा रहे रेमडेसिविर इंजेक्‍शन को बनाने में इस्‍तेमाल होने वाले कच्‍चे माल (Remdesivir API) के आयात पर कोई शुल्‍क नहीं वसूला जाएगा. यही नहीं, रेमडेसिविर इंजेक्‍शन के आयात को भी ड्यूटी फ्री (Import Duty Free) कर दिया गया है. केंद्र सरकार की इस घोषणा से आने वाले दिनों में देश में ये दवा पर्याप्‍त मात्रा में उपलब्‍ध होने की उम्‍मीद की जा सकती है.

पीयूष गोयल ने ट्वीट कर बताया कि आयात शुल्‍क हटाने से रेमडेसिविर इंडेक्शन की आपूर्ति बढ़ेगी. साथ ही इसे बनाने की लागत भी घटेगी. इस तरह सरकार के इस फैसले से कोरोना से जूझ रहे मरीजों को एक बड़ी मदद मिलेगी. पिछले कुछ दिनों से रेमडेसिविर की भारी किल्लत हो गई है. अब सरकार ने किल्लत और कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए रेमडेसिविर के प्रोडक्शन की क्षमता दोगुना करने की इजाजत दे दी है. अभी तक देश में 38.8 लाख रेमडेसिविर इंजेक्शन हर महीने बनते थे. अब इसे 78 लाख तक बढ़ाने के लिए कहा जा चुका है.



ये भी पढ़ें - रिलायंस इंडस्‍ट्रीज ने बढ़ाई ऑक्‍सीजन सप्‍लाई, कोरोना प्रभावित राज्‍यों को हर दिन मुफ्त पहुंचा रही 700 टन ऑक्‍सीजन
ज्‍यादातर कंपनियों ने घटाकर करीब आधे या उससे भी कम कर दिए दाम

कोविड-19 के मामलों में अचानक आई तेजी के कारण रेमडेसिविर की मांग में तेज इजाफा हुआ और इसकी किल्‍लत बढ़ गई. वहीं, जनवरी और फरवरी 2021 में कंपनियों ने रेमडेसिविर का प्रोडक्शन भी कम कर दिया था. अचानक रेमडेसिविर की किल्लत होने पर सरकार को इसके निर्यात पर पाबंदी लगानी पड़ी. फिलहाल, कैडिला हेल्थकेयर लिमिटेड ने रेमडेक (REMDAC) इंजेक्शन का दाम 2800 रुपये से घटाकर 899 रुपये कर दिया है. वहीं, सिंजीन इंटरनेशनल लिमिटेड ने रेमविन (RemWin) इंजेक्शन का दाम 3950 रुपये से 2450 रुपये कर दिया है. इसके अलावा डॉ. रेड्डीज लेबोरेट्रीज लिमिटेड ने रेडवाईएक्‍स (REDYX) इंजेक्शन का दाम घटाकर 2700 रुपये कर दिया है. सिपला ने सिपरेमी (CIPREMI) इंजेक्शन का दाम 4000 रुपये से घटाकर 3000 रुपये कर दिया है. इसी तरह ज्‍यादातर कंपनियों ने अपने इस इंजेक्‍शन के दाम घटाए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज