सरकार का बड़ा फैसला- रिटायर केंद्रीय कर्मचारियों को तुरंत मिलेगी पेंशन

सरकार का बड़ा फैसला- रिटायर केंद्रीय कर्मचारियों को तुरंत मिलेगी पेंशन
अब कर्मचारियों को तुरंत मिलेगी पेशन!

केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान रिटायर्ड होने वाले केंद्र सरकार के कर्मचारियों को नियमित पेंशन भुगतान आदेश (पीपीओ) जारी होने और अन्य औपचारिकताएं पूरी होने तक अस्थायी पेंशन राशि मिलेगी.

  • Share this:
नई दिल्ली.  केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह (Union Minister, Jitendra Singh) ने कहा कि मौजूदा सरकार पेंशनभोगी (Pensioners) और वरिष्ठ नागरिकों को लेकर संवेदनशील है, इसीलिए सीसीएस (पेंशन नियम) 1972 के तहत नियमित पेंशन भुगतान में विलम्ब से बचने के लिये, नियम में छूट दी जा सकती है, ताकि अस्थाई पेंशन और अस्थायी ग्रेच्युटी का भुगतान बिना किसी बाधा के नियमित पीपीओ (PPO-Pension Payment Order) जारी होने तक हो सके. सरकार की ओर से जारी आदेश के मुताबिक, कोविड-19 महामारी के दौरान सेवानिवृत्त होने वाले केंद्र सरकार के कर्मचारियों को नियमित पेंशन भुगतान आदेश जारी होने और अन्य औपचारिकताएं पूरी होने तक अस्थाई पेंशन राशि मिलेग.

आपको बता दें कि रिटायर होने वाले कर्मचारियों को तभी पेंशन मिलती है जब सरकार की ओर से पेंशन पेमेंट ऑर्डर (पीपीओ) जारी होता है. रिटायर होने वाले हैं या हो चुके हैं, उन्हें पेंशन पेमेंट ऑर्डर (पीपीओ) की जरूरत होती है. यह 12 अंकों का एक नंबर होता है. पीपीओ नंबर की जरूरत पेंशन पाने वालों को हर साल होती है जब उन्हें लाइफ सर्टिफिकेट जमा करना होता है.

क्यों लिया ये फैसला- सरकारी कर्मचारियों को मुख्य कार्यालय में पेंशन फॉर्म जमा करने में कठिनाई हो सकती है या हो सकता वे 'सर्विस बुक' के साथ क्लेम फॉर्म की हार्ड कॉपी संबंधित वेतन और लेखा (पे ऐंड अकाउंट्स) कार्यालय में जमा करवा पाने की स्थिति न हो. खासकर दोनों कार्यालय अगर अलग-अलग शहरों में स्थित हैं, तो यह समस्या और बढ़ जाती है. इसलिए संकट के समय उनकी मदद के लिए सरकार ने यह फैसला लिया है.



ये भी पढ़ें-पेंशन पाने वालों के लिए बेहद जरूरी हैं इस नंबर को जानना, नहीं तो अटक सकते हैं खाते में पैसे 
कार्मिक, जन शिकायत और पेंशन मामलों के मंत्री सिंह ने कहा,  यह केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) के लिए बहुत जरूरी है. क्योंकि वो निरंतर एक शहर से दूसरे जगह जाते हैं और जिनके मुख्य कार्यालय, वेतन और लेखा कार्यालय वाले स्थान से दूसरे शहरों में होते हैं.

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से पेंशन और पेंशननभोगी कल्याण विभाग को नया रूप दिया गया है. उसे उस रूप से तैयार किया गया है जिससे वह संबंधित कर्मचारी को बिना किसी विलम्ब के सेवानिवृत्ति के दिन से ही पपीओ दे सके.

जितेंद्र सिंह ने कहा कि हालांकि कोविड-19 महामारी और 'लॉकडाउन' के कारण दफ्तर के काम में बाधा से इस दौरान सेवानिवृत्त होने वाले कुछ कर्मचारियों को पीपीओ नहीं जारी किया जा सका.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading