केंद्र सरकार ने कोरोना की दवा से जीएसटी हटाने से किया इनकार! वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा-महंगी हो जाएंंगी दवा

वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि अगर कोरोना की दवाइयों से जीएसटी हटाया तो ये महंगी हो जाएंगी.

वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि अगर कोरोना की दवाइयों से जीएसटी हटाया तो ये महंगी हो जाएंगी.

देश में इस समय कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine) की घरेलू आपूर्ति और वाणिज्यिक आयात पर 5 फीसदी जीएसटी (GST) लगता है. वहीं, कोविड-19 के इलाज में इस्‍तेमाल होने वाली दवाओं (Corona Medicines) और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स (Oxygen Concentrators) पर 12 फीसदी जीएसटी लागू है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार ने कोरोना की दवा (Corona Medicines), वैक्‍सीन और आक्सीजन कंसंट्रेटर्स की घरेलू आपूर्ति (Domestic Supply) तथा वाणिज्यिक आयात (Commercial Import) पर वस्‍तु व सेवाकर (GST) हटाने से इनकार कर दिया है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने कहा कि अगर जीएसटी हटा दिया गया तो आम उपभोक्‍ता के लिए ये सभी सामान महंगे हो जाएंगे. उन्होंने कहा कि जीएसटी हटने पर इनके निर्माता उत्पादन में इस्‍तेमाल कच्चे माल दूसरी सामानों पर चुकाए गए टैक्‍स (Tax on Raw Material) के लिए इनपुट-टैक्स-क्रेडिट (ITC) का दावा नहीं कर सकेंगे.

'जीएसटी हटाने पर कंपनियां पूरी लगात आम ग्राहकों से ही वसूलेंगी'

देश में इस समय वैक्‍सीन की घरेलू आपूर्ति और वाणिज्यिक आयात पर 5 फीसदी जीएसटी लगता है. वहीं, कोविड-19 के इलाज में इस्‍तेमाल होने वाली दवाओं और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स पर 12 फीसदी जीएसटी लागू है. वित्‍त मंत्री सीतारमण ने इन सामानों पर जीएसटी से छूट देने की मांग पर ट्वीट में जवाब दिया कि अगर वैक्‍सीन पर पूरे 5 फीसदी की छूट दे दी जाती है तो टीका निर्माताओं को कच्चे माल पर दिए गए टैक्‍स की कटौती का लाभ नहीं मिलेगा. ऐसे में वे पूरी लागत को ग्राहकों से वसूलेंगे. जीएसटी लगने से विनिर्माताओं को आईटीसी लाभ मिलता है. अगर आईटीसी ज्‍यादा होता है तो वे रिफंड का दावा कर सकते हैं. इसलिये जीएसटी से छूट दिए जाने पर उपभोक्ताओं को नुकसान होगा.

ये भी पढ़ें- इंडियन रेलवे ने उत्तर प्रदेश और बिहार के लिए बढ़ाईं स्पेशल ट्रेनें, कुछ के बढ़ाए फेरे, आज से टिकटों की बुकिंग हुई शुरू
100 रुपये के आईजीएसटी में राज्‍यों को मिलते हैं 70.50 रुपये

वित्‍त मंत्री सीतारमण ने कहा कि अगर एकीकृत जीएसटी (IGST) के तौर पर किसी सामान पर 100 रुपये मिलते हैं तो इसमें से केंद्रीय जीएसटी (CGST) और राज्य जीएसटी (SGST) के तौर आधी-आधी रकम दोनों के खाते में जाती है. इसके अलावा केंद्र को केंद्रीय जीएसटी के तौर पर मिलने वाली राशि में 41 फीसदी हिस्सा भी राज्‍यों को दिया जाता है. इस प्रकार हर 100 रुपये में से कुल 70.50 रुपये राज्यों का हिस्सा होता है. उन्‍होंने कहा कि 5 फीसदी की दर से जीएसटी वैक्‍सीन बनाने वाली कंपनियों और आम लोगों के हित में है. बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दिन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है. बता दें कि केंद्र सरकार कोरोना के इलाज में इस्‍तेमाल होने वाली कई सामानों पर पहले ही आईजीएसटी और सीमा शुल्‍क में छूट दे चुकी है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज