होम /न्यूज /व्यवसाय /

किसानों को धोखा देने वालों की खैर नहीं! पीएम कुसुम योजना के नाम पर ठगी कर रही फर्जी वेबसाइटों पर केंद्र ने की सख्‍त कार्रवाई

किसानों को धोखा देने वालों की खैर नहीं! पीएम कुसुम योजना के नाम पर ठगी कर रही फर्जी वेबसाइटों पर केंद्र ने की सख्‍त कार्रवाई

पीएम कुसुम योजना के नाम पर ठगी करने वाली फर्जी वेबसाइट्स पर केंद्र सरकार सख्‍त कार्रवाई कर रही है.

पीएम कुसुम योजना के नाम पर ठगी करने वाली फर्जी वेबसाइट्स पर केंद्र सरकार सख्‍त कार्रवाई कर रही है.

अक्षय ऊर्जा मंत्रालय (MNRE) ने पीएम कुसुम योजना के लाभार्थियों को सतर्क करने के लिए एडवाइजरी जारी की है. इसमें कहा गया है कि किसान कुसुम योजना (PM Kusum Yojana) के तहत पंजीकरण के लिए फीस (Registration Fees) जमा करने को कहने वाली फर्जी वेबसाइट्स (Fake Websites) की तुरंत जानकारी दें.

अधिक पढ़ें ...
नई दिल्‍ली. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Government) सिंचाई के लिए सोलर पंप (Solar Pump) के इस्तेमाल को बढ़ावा देने वाली पीएम कुसुम योजना (PM Kusum Scheme) लेकर आई थी. योजना के तहत सौर ऊर्जा (Solar Energy) से चलने वाले कृषि पंपों के लिए किसानों को 60 फीसदी अनुदान दिया जाता है. किसानों को सिर्फ 40 फीसदी ही जमा कराना होता है. प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा और उत्थान महाभियान योजना को धरातल पर उतारने का जिम्मा राज्य सरकार (State Governments) के विभागों के ऊपर है. योजना शुरू होने के बाद कुछ फर्जी वेबसाइटों (Fake Websites) ने किसानों से धोखाधड़ी शुरू कर दी. अब अक्षय ऊर्जा मंत्रालय (MNRE) जानकारी मिलने पर इन फेक वेबसाइटों पर तुरंत कार्रवाई कर रहा है.

फर्जी कंपनियां किसानों को दे रही है धोखा
एमएनआरई ने पीएम कुसुम योजना के नाम पर किसानों को धोखा देने वाली इन अवैध वेबसाइटों के झांसों से बचाने के लिए 18 मार्च 2019, 3 जून 2020 और 10 जुलाई 2020 को लाभार्थियों के लिए एडवाइजरी जारी कर सतर्क रहने की सलाह दी. मंत्रालय ने कहा था कि किसान ऐसी किसी भी वेबसाइट पर रजिस्‍ट्रेशन फीस जमा नहीं करें और ना ही कोई जानकारी साझा करें. एमएनआरई की आधिकारिक वेबसाइट www.mnre.gov.in पर पीएम कुसुम योजना के बारे में पूरी जानकारी दी गई है.

ये भी पढ़ें- LTC कैश वाउचर स्‍कीम: सरकारी कर्मचारी कई बिल जमा कर ले सकते हैं स्कीम का फायदा, जानिए क्या हैं नियम

इन फर्जी वेबसाइटों से किसान रहें सावधान
अक्षय ऊर्जा मंत्रालय ने पीएम कुसुम योजना का लाभ लेने वाले किसानों को ठगी से बचाने के लिए फर्जी वेबसाइटों के बारे में एक बार फिर सतर्क किया है. जांच के दौरान मंत्रालय ने पाया कि फर्जी वेबसाइट www.pmkusumyojana.co.in और  www.punjabsolarpumps.com किसानों को ठग रही हैं. इस पोर्टल ने पीएम कुसुम योजना के लिए रजिस्‍ट्रेशन पोर्टल होने का दावा किया है. केंद्र सरकार ने फिर लोगों को सलाह दी है कि वे इन फर्जी वेबसाइटों को रुपये या जानकारी नहीं दें.



ये भी पढ़ें- भारत ऑनलाइन सेगमेंट में चीन को पहुंचाएगा चोट! कैट ला रहा है 'भारतईमार्केट', अब 24 घंटे खुलेंगी ई-शॉप्‍स

लाभार्थियों के लिए ये है अहम जानकारी
एमएनआरई मंत्रालय का कहना है कि सरकार किसी भी वेबसाइट के जरिये पीएम कुसुम योजना के लाभार्थियों का पंजीकरण नहीं कर रही है. लिहाजा, पंजीकरण करने का दावा करने वाली तमाम वेबसाइट्स संदिग्ध और धोखाधड़ी करने वाली हैं. मंत्रालय ने अपील की है कि ऐसे किसी फर्जी वेबसाइट के बारे में जानकारी मिलने पर तुरंत जानकारी सूचना दें. योजना के लाभार्थियों की पात्रता और योजना को लागू करने संबंधी पूरी जानकारी मंत्रालय के वेबसाइट पर दी गई है. इसके अलावा मंत्रालय ने एक टोल फ्री हेल्प लाइन नंबर 1800-180-3333 भी जारी किया है.undefined

Tags: Central government, Fake website, Farmers, Irrigation scheme, Solar Energy for Farmers

अगली ख़बर