केंद्र ने पंजाब के किसानों को ट्रांसफर किए 8000 करोड़ रुपये, हरियाणा के किसानों को मिले 4600 करोड़ रुपये, जानें वजह

केंद्र सरकार पंजाब, हरियाणा, यूपी, मध्‍य प्रदेश समेत कई राज्‍यों के किसानों से एमएसपी पर रबी फसल की खरीद कर रही है.

केंद्र सरकार पंजाब, हरियाणा, यूपी, मध्‍य प्रदेश समेत कई राज्‍यों के किसानों से एमएसपी पर रबी फसल की खरीद कर रही है.

न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) स्कीम के तहत किसानों से रबी फसल की खरीद की जा रही है. किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य सीधे बैंक खाते में ट्रांसफर (DBT) किया जा रहा है. पंजाब के अलावा हरियाणा, उत्तर प्रदेश, चंडीगढ़, मध्य प्रदेश, राजस्थान समेत कई राज्यों के किसानों से एमएसपी पर गेहूं की बंपर खरीद चल रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 6:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार ने नए कृषि कानूनों (New Farm Laws) को लेकर पंजाब और हरियाणा के किसान अभी तक अपना रोष (Farmers' Protest) जता रहे हैं. किसान अब तक फसलों के एमएसपी सिस्टम (MSP System) को लेकर सवाल खड़े कर रहे है. वहीं, आंकड़ों के मुताबिक केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Modi Government) ने पंजाब के किसानों को बड़ा तोहफ़ा दिया है. पहली बार पंजाब के किसानों को अपने फसल का मूल्य सीधे उनके बैंक खाते में मिल रहा है. आंकड़ों पर गौर करें तो पंजाब के किसानों को उनके गेहूं की बिक्री के लिए अब तक 8,180 करोड़ रुपये डीबीटी के जरिये ट्रांसफर किए जा चुके हैं.

इन राज्यों से की जा रही है गेहूं की बंपर खरीद

खरीफ के बाद रबी फसल के लिए जारी विपणन वर्ष 2021-22 में भी मौजूदा न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) स्कीम के तहत फसलों की खरीद की जा रही है. वन नेशन, वन एमएसपी, वन डीबीटी मिशन के तहत किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य सीधे ट्रांसफर किया जा रहा है. आधिकारिक आंकड़ों की मानें तो पंजाब के अलावा हरियाणा, उत्तर प्रदेश, चंडीगढ़, मध्य प्रदेश, राजस्थान समेत कई राज्यों के किसानों से एमएसपी पर गेहूं की बंपर खरीद की जा रही है. किसानों से 25 अप्रैल तक 222.33 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई है, जबकि पिछले साल इसी समयावधि में महज 77.57 लाख मीट्रिक टन की खरीद की गई थी.

ये भी पढ़ें - कोविड-19 के खिलाफ Reliance Foundation की बड़ी पहल! मुंबई में की 875 कोरोना बेड की व्यवस्था
पंजाब से एक तिहाई गेहूं की खरीदी की गई

हाल के महीनों में देखा गया है कि कृषि कानूनों का सबसे अधिक विरोध पंजाब के किसानों ने ही किया है. वहीं, आंकड़े कहते हैं कि कुल 222.33 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद में से सबसे अधिक 37.80 फीसदी यानी 84.15 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद पंजाब के किसानों से की गई. पंजाब के बाद हरियाणा से 32.27 फीसदी यानी करीब 71.76 लाख मीट्रिक टन और मध्य प्रदेश के किसानों से 23.2 फीसदी यानी 51.57 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई है. अब तक 21.17 लाख किसानों को एमएसपी के जरिये 43,912 करोड़ का लाभ दिया जा चुका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज