लाइव टीवी

केंद्र ने RBI से कहा- रुपये की स्थिति सुधारने के लिए उठाएं ज़रूरी कदमः रिपोर्ट

News18.com
Updated: September 11, 2018, 1:26 PM IST
केंद्र ने RBI से कहा- रुपये की स्थिति सुधारने के लिए उठाएं ज़रूरी कदमः रिपोर्ट
न्यूज 18 इलस्ट्रेशन

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पिछले सप्ताह कहा था कि रुपये की कीमत वैश्विक कारणों से गिर रही है इसके लिए परेशान होने की ज़रूरत नहीं है.

  • News18.com
  • Last Updated: September 11, 2018, 1:26 PM IST
  • Share this:
ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार केंद्र सरकार ने रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया से कहा है कि रुपये को मज़बूत करने के लिए कोशिशें तेज़ की जाएं. पिछले महीने रुपये की स्थिति काफी खराब रही. इस साल रुपया अमेरिकी डॉलर की तुलना में 11.6 फीसदी नीचे गिरकर 2011 के बाद अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया. सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि वित्त मंत्रालय और केंद्रीय बैंक एक दूसरे के संपर्क में हैं.

केंद्र सरकार ने सोमवार को कहा कि वो रुपये की गिरती हुई कीमत से परेशान है. इसे सुधारने के लिए सरकार स्पेशल डिपॉज़िट स्कीम लाने की सोच रही है ताकि इस समस्या से निपटा जा सके. ब्लूमबर्ग ने कहा कि रुपये की कीमत गिरकर अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 72.66 रुपये के स्तर पर पहुंच गई थी. हालांकि कुछ समय बाद फिर से रुपया कुछ मज़बूत हो गया.

ये भी पढ़ेंः आरबीआई ने तय किया भारतीय मुद्रा का मूल्य

चालू खाते का घाटा और बढ़ती हुई तेल की कीमतें अभी सरकार की मुश्किलें बढ़ा सकती हैं और लगातार डॉलर की बढ़ती हुई कीमत इसमें और भी बढ़ोतरी कर सकता है. शुक्रवार को जारी किए आंकड़ों के अनुसार व्यापार घाटे के कारण चालू खाते का घाटा अप्रैल-जून महीनें में बढ़कर 15.8 बिलियन डॉलर हो गया है जो कि इसी महीने में पिछले साल 15 बिलियन डॉलर था. 2013 में इसी तरह की समस्या से निपटने के लिए रिज़र्व बैंक ने 'डिस्काउंटेड फॉरेन करेंसी स्वैप' का इस्तेमाल करके 34 बिलियन डॉलर की करेंसी जुटाई थी.

ये भी पढ़ेंः अमेरिकी डॉलर के सामने लुढ़का भारतीय रुपया, साल की सबसे बड़ी गिरावट

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पिछले सप्ताह कहा था कि रुपये की कीमत वैश्विक कारणों से गिर रही है इसके लिए परेशान होने की ज़रूरत नहीं है. बता दें कि सोमवार को कांग्रेस सहित दूसरी विपक्षी पार्टियों ने पूरे भारत में बंद का आह्वान किया था.

इंटरनेशनल क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज़ के अनुसार रुपये की लगातार गिरती हुई कीमत भारतीय कंपनियों के लिए 'क्रेडिट निगेटिव' होगी क्योंकि इन कंपनियों ने ऋण अमेरिकी डॉलर में ले रखा है जबकि इनकी आमदनी रुपये में होती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 11, 2018, 12:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर