लाइव टीवी

1 अप्रैल से बदल जाएगा बिजली से जुड़ा ये नियम, जानें क्या होगा असर?

भाषा
Updated: November 27, 2019, 6:15 PM IST
1 अप्रैल से बदल जाएगा बिजली से जुड़ा ये नियम, जानें क्या होगा असर?
आपूर्ति से एक घंटा पहले बिजली खरीदने की व्यवस्था एक अप्रैल से हो सकती है शुरू

फिलहाल बिजली बाजारों में अगले दिन की आपूर्ति के लिये एक दिन पहले (डीएएम) बिजली खरीद करनी होती है. इन बाजारों में दो घंटे सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक कारोबार होता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय विद्युत विनियामक आयोग (CERC) के चेयरमैन पी के पुजारी ने बुधवार को कहा कि खरीद के साथ ही कम से कम समय में बिजली आपूर्ति (Power Supply) शुरू करने की व्यवस्था अगले साल 1 अप्रैल से शुरू हो सकती है. इसमें बिजली वितरण कंपनियां या निजी उपयोग के लिये बिजली संयंत्र चलानी वाली इकाइयों के ग्राहक आपूर्ति से महज एक घंटा पहले बिजली खरीद कर सकेंगे.

फिलहाल बिजली बाजारों में अगले दिन की आपूर्ति के लिये एक दिन पहले (डीएएम) बिजली खरीद करनी होती है. इन बाजारों में दो घंटे सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक कारोबार होता है.

1 अप्रैल 2020 से करने लगेगा काम
इंडिया एनर्जी फोरम के 22वें इंडिया पावर फोरम के दौरान संवाददाताओं से अलग से बातचीत में पुजारी ने संवाददाताओं से कहा, हम उम्मीद कर रहे हैं कि वास्तविक समय पर आधारित बिजली बाजार एक अप्रैल 2020 से काम करने लगेगा. वास्तविक समय आधारित बिजली बाजार पर संबद्ध पक्षों के साथ नियमन रूपरेखा पर चर्चा पूरी हो चुकी है.

ये भी पढ़ें: आपने भी खरीदा है सोना तो जरूर जान लें ये बात, होगा बड़ा फायदा

हालांकि, उन्होंने कहा, ऐसा नहीं है कि सीईआरसी द्वारा नियमन की मंजूरी के बाद वास्तविक समय पर आधारित बिजली बाजार तुरंत शुरू हो जाएगा. इसके लिये हमें प्रणाली बनानी है. साफ्टवेयर (कारोबार समाधान) तैयार करना होगा और लोगों को उसके बारे में शिक्षित करने की जरूरत होगी. इसके अमल में आने के साथ बिजली वितरण कंपनियां समेत उपभोक्ता बेहतर तरीके से ऊर्जा आपूर्ति की योजना बना सकते हैं. वहीं बिजली उत्पादक कंपनियां अपना उत्पादन मांग के अनुसार बढ़ा या घटा सकती हैं.

24 घंटे हो सकेगा बिजली का कारोबार
Loading...

इंडियन एनर्जी एक्सचेंज के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि प्रस्तावित मसौदा नियमन के तहत एक दिन में आधे-आधे घंटे के 48 सत्र होंगे. इसका मतलब है कि बिजली का कारोबार 24 घंटे हो सकेगा. इसमें अगर उपभोक्ता दोपहर 1.30 से 2 बजे के सत्र में बिजली खरीदता है, तब बिजली आपूर्ति उसी दिन दोपहपर तीन बजे से की जा सकती है.

ये भी पढ़ें: ये बैंक दे रहा ‘SMART EMI’ पर कार लोन, इंश्योरेंस और मेंटेनेंस का खर्च हो जाएगा फ्री

इससे पहले, उन्होंने सम्मेलन में अपने संबोधन में कहा कि नियामक ने बिजली क्षेत्र में कई नियमनों का प्रस्ताव किया है जो अगले साल एक अप्रैल से प्रभाव में आ सकता है. इसमें वास्तविक समय पर आधारित बिजली नियमन प्रमुख है.

उन्होंने यह भी कहा कि पिछले 20 साल में बिजली क्षेत्र में उत्पादन, पारेषण और वितरण के क्षेत्र में काफी कुछ किया गया है लेकिन अभी काफी कुछ किये जाने की जरूरत है. सम्मेलन में टेरी के महानिदेशक अजय माथुर, इंडिया एनर्जी फोरम के अध्यक्ष अनिल राजदान समेत अन्य लोगों ने भी अपनी बातें रखी.

ये भी पढ़ें: 
1 रुपये की मामूली लाइसेंस फीस पर सरकार ने दी 1800 वर्ग मीटर जमीन
प्याज सस्ती करने के लिए सरकार ने उठाया एक और कदम, राज्यों को दिया ये आदेश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 5:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...