Home /News /business /

challenge for india is to sustain 8 9 growth for 3 decades niti aayog ceo amitabh kant rrmb

नीति आयोग CEO की नजर में अगले 3 दशकों में 8-9 फीसदी विकास दर बरकरार रखना भारत के लिए चुनौती

कोविड से निपटने में भारत के टीकाकरण अभियान ने महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है.

कोविड से निपटने में भारत के टीकाकरण अभियान ने महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है.

नीति आयोग के सीईओ का कहना है कि भारत ने कोविड-19 विपदा का डटकर मुकाबला किया है. भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था कोरोना की चुनौतियों से निपटते हुए पटरी पर लौट आई है. भारत के लिए अपनी आने वाले 3 दशकों में 8-9 फीसदी की दर से बरकरार रखना एक चुनौती है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. भारत के लिए अगले 3 दशकों में 8-9 फीसदी की विकास दर को बरकरार रखना बड़ी चुनौती है. यह कहना है नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का. उनका कहना है कि भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था अब कोविड काल से बाहर आ गई है और अच्‍छा प्रदर्शन कर रही है. कोविड से निपटने में भारत के टीकाकरण अभियान ने महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है.

पब्लिक अफेयर फोरम ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए अमिताभ कांत ने कहा कि भारत ने कोविड-19 की चुनौतियों का डटकर मुकाबला किया है. अब भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था वापस पटरी पर लौट आई है. उनका कहना है कि भारत के सामने सबसे बड़ी चुनौती अगले 3 दशकों में अपनी विकास दर को 8-9 फीसदी पर बरकरार रखना है.

 ये भी पढ़ें :  Share Market Update: बाजार में बुल्स की जोरदार वापसी, सेंसेक्स 1344 अंक चढ़कर बंद हुआ

सरकार का काम नीतियां बनाना
नीति आयोग के सीईओ का कहना है कि भारत से गरीबी दूर करने में प्रति व्‍यक्ति आय महत्‍वपूर्ण भूमिका अदा करेगी. उन्‍होंने कहा कि सरकार का काम नीति बनाना है. इन नीतियों के सहारे देश को निजी क्षेत्र के माध्‍यम से पूंजी निर्माण करना चाहिए. अमिताभ कांत का कहना है कि सरकार का मुख्‍य काम शिक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य और पोषण के क्षेत्र में काम करना होना चाहिए. भारतीय निर्माताओं के लिए अब जरूरी है कि वो वैश्विक बाजारों और सप्‍लाई चेन का हिस्‍सा बनें. ऐसा करके ही वो अपना बिजनेस बढ़ाकर देश के विकास को गति देने में योगदान दे सकते हैं.

ये भी पढ़ें :  LIC Listing : बाजार में 9 फीसदी डिस्‍काउंट पर सूचीबद्ध हुई एलआईसी, निवेशकों को पहले दिन ही लगा झटका, अब क्‍या करें

मॉर्गन स्टेनली ने घटाया है ग्रोथ अनुमान
दिग्गज ब्रोकरेज फर्म मॉर्गन स्टेनली (Morgan Stanley) ने 12 मई को भारतीय जीडीपी की ग्रोथ में अपने ही पुराने अनुमान में 30 आधार अंकों अथवा 0.30 फीसदी की कटौती कर दी थी. ब्रोकरेज के अनुसार वित्त वर्ष 2023 में यह 7.6 फीसदी रह सकती है और 2024 में यह 6.7 फीसदी रहने की संभावना है.

मॉर्गन स्टेनली का कहना है कि वैश्विक स्तर पर आई मंदी, तेल की बढ़ती कीमतें और कमजोर घरेलू मांग के चलते एशिया की तीसरी सबसे बड़ी इकोनॉमी को कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ेगा. मॉर्गन स्टेनली (Morgan Stanley) के अनुसार, भारत में महंगाई में उछाल आया है, जिससे विकास प्रभावित हो रहा है. रूस-यूक्रेन संकट के कारण कच्चे तेल की कीमतें बढ़ गई हैं. और इसका असर ये है कि खुदरा महंगाई नई ऊंचाई पर पहुंच गई है.

Tags: Amitabh kant, Niti Aayog

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर