लाइव टीवी

इनकम टैक्स स्लैब में हो सकते हैं बड़े बदलाव! ​जानिए आपको कितना मिलेगा फायदा

News18Hindi
Updated: October 21, 2019, 6:53 PM IST
इनकम टैक्स स्लैब में हो सकते हैं बड़े बदलाव! ​जानिए आपको कितना मिलेगा फायदा
इनकम टैक्स

इनकम टैक्स टास्कफोर्स (Income Tax Taskforce) ने 10 लाख तक की सालाना कमाई वाले लोगों को 10 फीसदी के टैक्स स्लैब (Income Tax Slab) में लाने की सिफारिश की गई है. साथ ही 2 करोड़ रुपये से अधिक कमाई करने वाले लोगों के लिए 35 फीसदी का नया टैक्स स्लैब बनाने का भी प्रस्ताव है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 21, 2019, 6:53 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कॉरपोरेट टैक्स (Corporate Tax) को कटौती कर 25 फीसदी के स्तर पर लाने के बाद से ही इनकम टैक्स स्लैब (Income Tax Slab) में भी बदलाव की मांग बढ़ गई है. कॉरपोरेट सेक्टर (Corporate Sector) को राहत के बाद आम नागरिक इनकम टैक्स (Income Tax) के मोर्चे पर केंद्र सरकार से राहत की उम्मीद कर रहा है. नीति आयोग (NITI Aayog) के पूर्व चेयरमैन अ​रविंद पन​गढ़िया (Arvind Panagariya) ने हाल ही में कहा है कि मजबूत संभावनाएं हैं कि पर्सनल इनकम टैक्स के स्तर पर भी कॉरपोरेट टैक्स की तरह ही सुधार हो सकता है.

अगस्त माह में ही रिपोर्ट सौंप चुकी है टास्कफोर्स
इनकम टैक्स एक्ट में बदलाव के लिए ​अखिलेश रंजन (Akhilesh Ranjan) की अगुआई वाली टास्कफोर्स ने भी सिफारिश की है. यह कमेटी अगस्त माह में ही डायरेक्ट टैक्स कोड (Income Tax Code) पर अपनी रिपोर्ट सौंप चुकी है. हालांकि, अभी तक इस रिपोर्ट को सार्वजनिक नहीं किया गया है.

ये भी पढ़ें: दिवाली के मौके पर ये कंपनी देगी बंपर प्रोमोशन, 5000 कर्मचारियों को मिलेगा फायदा



इनकम टैक्स स्लैब (Income Tax Slab) में बदलाव की मांग बढ़ गई है



Loading...

10 लाख तक की सालाना कमाई वाले 10 फीसदी के स्लैब में आ सकते हैं
कुछ मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इनकम टैक्स स्लैब में प्रस्तावित बदलाव में स्लैब के दायरे को बढ़ाने की बात कही गई है. इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 10 फीसदी वाले टैक्स स्लैब को 10 लाख रुपये तक बढ़ाया जा सकता है, जिससे बड़े स्तर पर लोगों को राहत मिल सकती है. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) के अनुसार, वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान कुल 5.52 करोड़ टैक्सपेयर्स (Taxpayers) में से करीब 27 फीसदी की इनकम 5 से 10 लाख रुपये के बीच में रही. अगर इस टास्कफोर्स की रिपोर्ट के आधार पर सरकार कदम उठाती है तो 1.47 करोड़ टैक्सपेयर्स 20 फीसदी के टैक्स स्लैब से 10 फीसदी के टैक्स स्लैब में आ जाएंगे.

5-6 लाख आय वाले लोगों की देनदारी में खास फर्क नहीं
खास बात है कि इस प्रस्ताव को मानने के बाद छोटे टैक्सपेयर्स पर कुछ खास असर नहीं पड़ेगा. 5-6 लाख की आय वाले लोगों की टैक्स देनदारी में कोई खास फर्क नहीं आएगा, बल्कि वे कुछ डिडक्शन्स के जरिए टैक्स के दायरे से बाहर भी आ सकते हैं.

ये भी पढ़ें: सरकार के एक फैसले से इंश्योरेंस कंपनियों की हुई चांदी, 1 महीने में हुई ₹2500 करोड़ की कमाई
10 लाख की सालाना आय वाले 34 फीसदी कम टैक्स जमा करेंगे
इस रिपोर्ट में एक कैलकुलेशन के जरिए बताया गया है कि अगर कोई 7 लाख रुपये कमाता है तो उस पर कुछ खास असर नहीं पड़ेगा. पहले उन्हें 44,200 रुपये टैक्स देना पड़ता था. नए टैक्स स्लैब के बाद यह रकम घटकर 40,000 रुपये हो जाएगी यानी की 9.5 फीसदी की ही बचत होगी. लेकिन, अधिक इनकम वाले लोगों को इस बदलाव से ज्यादा फायदा होगा. अगर कोई 10 लाख रुपये की कमाई वाला है तो उसे टैक्स में करीब 34 फीसदी तक का फायदा मिल सकता है. उसका देय टैक्स 1.06 लाख रुपये से घटकर 70,000 रुपये हो जाएगा.



दूसरे स्लैब में बदलाव से 40 लाख लोगों को फायदा
CBDT के डेटा के मुताबिक, अगर टैक्स स्लैब में और बदलाव होते हैं तो और 40 लाख लोग 30 फीसदी टैक्स स्लैब से कम होकर 20 फीसदी टैक्स स्लैब में आ जाएंगे. इस स्लैब के हिसाब से 22 लाख रुपये सालाना कमाने वाले लोग करीब 1.7 लाख रुपये बचा सकते हैं. उनके टैक्स में 36 फीसदी की कटौती होगी.

ये भी पढ़ें: दिवाली से पहले 700 रुपये तक सस्ता सोना खरीदने का मौका, साथ में मिलेंगे तीन बड़े फायदें
35 फीसदी के नए टैक्स स्लैब की सिफारिश
टास्कफोर्स में 35 फीसदी का एक नया टैक्स स्लैब भी लाने की सिफारिश की गई है. इस स्लैब में सालाना 2 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई करने वाले लोगों को रखा जा सकता है. ऐसे में 24 फीसदी सरचार्ज और 3 फीसदी सेस के बाद 2 करोड़ से 5 करोड़ रुपये की कमाई करने वाले लोगों को कुल इफेक्टिव टैक्स 39 फीसदी बनता है. ऐसे में 2 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई करने वाले टैक्सपेयर्स पर कुछ खास असर नहीं पड़ेगा.

 

सुपर रिच के लिए भी अच्छी खबर
सुपर रिच की श्रेणी में आने वाले लोगों के लिए भी अच्छी खबर हो सकती है. टास्कफोर्स ने अपनी सिफारिश में कहा है कि टेंपररी तौर पर ही टैक्स सरचार्ज वसूला जाना चाहिए. बता दें कि 2013 में तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने सरचार्ज की शुरुआत की थी. उस वक्त उन्होंने कहा था कि यह टेंपररी है, लेकिन इसके बाद सभी बजटों में इसे परमानेंट फीचर की तरह ही जारी किया गया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 6:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...