ऑनलाइन सेल- खराब सामान को लेकर कंपनियां नहीं मानती तो यहां करें शिकायत, होगी तुरंत कार्रवाई

ऑनलाइन सेल- खराब सामान को लेकर कंपनियां नहीं मानती तो यहां करें शिकायत, होगी तुरंत कार्रवाई
फेस्टिव सीजन सेल के दौरान उपभोक्ता ई-कॉमर्स वेबसाइट पर थोक के भाव सामान खरीदते हैं.

फेस्टिव सीजन सेल के दौरान उपभोक्ता इन ई-कॉमर्स वेबसाइट पर थोक के भाव सामान खरीदते हैं. ऐसे में सरकार का नया कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 2019 (Consumer Protection Act 2019) ग्राहकों को काफी मजबूत करेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 5, 2020, 2:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना महामारी (Coronavirus Epidemic) के बीच में देश में फेस्टिव सीजन ऑनलाइन सेल (Festive Season online sale) की शुरुआत हो गई है. सितंबर महीने (September Month)  के शुरुआत के साथ ही देश में त्योहारों का सीजन भी शुरू हो गया है, जो तकरीबन 2 से 3 महीने तक चलेगा. इस मौके को भुनाने के लिए अमेजन और फ्लिपकार्ट (Amazon and Flipkart) जैसी ई-कॉमर्स साइट सेल की घोषणा कर रही है. इन ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों (Online Shopping) के तमाम ऑफर्स और फायदों के बीच उपभोक्ताओं (consumers) को सतर्क रहने की विशेष जरूरत है. अगर ई-कॉमर्स कंपनियां ग्राहकों को खराब सामान देती है तो इसकी शिकायत भी अब तुरंत की जा सकती है. ई-कॉमर्स मार्केट एक्सपर्ट की मानें तो इस साल फैशन, गैजेट्स, घरेलू आइटम्स सहित सभी कैटेगरी में आकर्षक और भारी छूट दी जाएगी. सौंदर्य और अन्य तरह के प्रोडक्ट्स में भी भारी छूट मिलेगी. इसलिए यदि आप सस्ते में अच्छी चीजों की खरीदारी करना चाहते हैं तो ये बेहतरीन मौका है. साथ ही ग्राहकों को इस सीजन में विशेष सतर्कता भी बरतनी पड़ेगी.

सितंबर महीने से देश में फेस्टिव सीजन की शुरुआत
बता दें कि फेस्टिव सीजन सेल न सिर्फ ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए त्योहार की तरह होता है बल्कि ग्राहकों के लिए भी ये किसी त्योहार से कम नहीं है. फेस्टिव सीजन सेल के दौरान उपभोक्ता इन ई-कॉमर्स वेबसाइट पर थोक के भाव सामान खरीदते हैं. ऐसे में सरकार का नया कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 2019 (Consumer Protection Act 2019) ग्राहकों को काफी मजबूत करेगा. ब्रांडेड कंपनियों के द्वारा ऑनलाइन शॉपिंग में भी अब उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम लागू होगा.

 amazon, flipkart, big saving days sale, flipkart sale, e-commerce companies, sale, online sale, prime day 2020, online shopping, festive season, save money, Consumer protection act 2019, news online law, indian government new consuner law, बिग सेविंग डेज, ई-कॉमर्स कम्पनी अमेजन इंडिया, पेपर फ्राई, बिग बास्केट, ग्रोफर्स, फ्लिपकार्ट, अमेजन इंडिया, ऑनलाइन शॉपिंग, सेल, ऑनलाइन सेल, ई-कॉमर्स वेबसाइट, प्राइम डे सेल, ई-कॉमर्स कंपनियां ,उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019, नया कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट, उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019,
फेस्टिव सीजन सेल के दौरान उपभोक्ता इन ई-कॉमर्स वेबसाइट पर थोक के भाव सामान खरीदते हैं.

नए कानून में ऑनलाइन कंपनियों पर भी शिकंजा


इन कंपनियों को ऑफर और सेल में भी उपभोक्ताों को वापसी और कंपनियों के खिलाफ शिकायत करने का अधिकार होगा. 20 जुलाई, 2020 से पूरे देश में कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 2019 लागू कर दिया है. कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट-2019 लागू हो जाने के बाद उपभोक्ताओं को कई तरह के अधिकार मिल गए हैं. उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 ग्राहक को उन कंपनियों से भी लड़ने का ताकत देता है, जो पहले के उपभोक्ता कानून में नहीं था. अब ग्राहक नए कानून के तहत उपभोक्ता फोरम में अपना शिकायत दर्ज करा सकते हैं. शिकायत दर्ज होने के एक महीने के अंदर ही उनके शिकायतों पर फोरम एक्शन लेगी.

सेल में बिकने वाले सामान भी अब बदले और वाप किए जाएंगे
उपभोक्ता अधिनियम 1986 में अगर सामान में कोई दिक्कत आ जाती तो उसको बदलने में कंपनियां टालमटोल करती थीं, लेकिन नए उपभोक्ता कानून में ऐसा नहीं होगा. इसके साथ ही भ्रामक विज्ञापन और ग्राहकों को ठगने वाली कंपनियों पर लगाम कसी जाएगी. नए उपभोक्ता कानून में ग्राहक अपना हक कई तरह से ले सकते हैं.

ये भी पढ़ें: गोल्ड जूलरी को लेकर आ गया नया नियम, जानिए इससे जुड़ी सभी काम की बातें

खासतौर पर उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019 में सेल में बिकने वाली चीजों पर भी कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 2019 लागू होगा. अगर किसी ब्रांडेड कंपनी की सेल है और ग्राहकों को कंपनियां बिल या रशीद देती है तो उस पर कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट लागू हो सकता है. लेकिन, जो विक्रेता न रशीद देता और न ही बिल तो उनके खिलाफ मामला साबित करना कमिशन के लिए मुश्किल होगा. अगर रशीद या बिल में पहले से ही टर्म्स एंड कंडिशंस अप्लाई लिखा होता है तो इस परिस्थिति में कमिशन कंपनी के नियम और शर्तों को कितना तवज्जो देगा यह कमिशन फैसला करता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज