लाइव टीवी

प्याज के बाद अब अंडा और चिकन खाना होगा महंगा! इस वजह से बढ़ सकते हैं दाम

News18Hindi
Updated: December 11, 2019, 1:51 PM IST
प्याज के बाद अब अंडा और चिकन खाना होगा महंगा! इस वजह से बढ़ सकते हैं दाम
कंपनियां अंडे (Egg price rises soon) और चिकन (Chicken Price) के दाम बढ़ाने पर विचार कर रही हैं.

पॉल्ट्री फीड यानी मुर्गी को खिलाया जाने वाले दानों में मक्के का अहम रोल होता है. इसके दानों को इस्तेमाल किया जाता है. वहीं, पिछले एक महीने में मक्के के दाम 17 फीसदी से ज्यादा बढ़े हैं. इसीलिए कारोबारी अंडे और चिकन के दाम बढ़ाने की तैयारी में हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 11, 2019, 1:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आप अगर चिकन (Chicken Prices Rise Soon) खाने के शौकीन हैं तो आपको अपनी जेब ज्यादा ढीली करनी पड़ सकती है. दरअसल मुर्गी दाने (पॉल्ट्री फीड-Poultry feed Maize) की लागत बढ़ने का असर पॉल्ट्री इंडस्ट्री पर पड़ रहा है. कंपनियां अंडे (Egg price rises soon) और चिकन (Chicken Price) के दाम बढ़ाने पर विचार कर रही हैं. आपको बता दें कि पॉल्ट्री फीड (Poultry feed Maize) में मक्के का अहम रोल होता है. इसके दानों को इस्तेमाल किया जाता है. वहीं,  पिछले एक महीने में मक्के (maize price hike in india) के दाम 17 फीसदी से ज्यादा बढ़े हैं. कारोबारियों का कहना है कि भारी बारिश और बाढ़ के चलते खरीफ फसल को भारी नुकसान पहुंचा है. वहीं, मानसून के लंबा खिचने से रबी की बुवाई भी लेट हो गई है. इसीलिए दलहन, तिलहन और सब्जियों की कीमतों में भी तेजी बनी हुई है.

मक्के की कीमतों में तेजी से बढ़ी पॉल्ट्री इंडस्ट्री की लागत- कारोबारियों का कहना है कि मक्के के दाम अभी काबू में आने की उम्मीद नहीं है. क्योंकि मक्का की फसल पर फॉल आर्मी वर्म नामक नए कीट का हमला हुआ है. इससे फसल को भारी नुकसान पहुंचा है.

>> इस साल 7 लाख हेक्टयर से ज्यादा मक्के की फसल को बरबाद हो गई है. महाराष्ट्र और कर्नाटक में भी इससे फसल को बड़ा नुकसान हुआ है. कर्नाटक में 2,63 लाख हेक्टर फसल बर्बाद हुई है. वहीं, महाराष्ट में 232 लाख हेक्टर फसल को नुकसान पहुंचा है.

>> पिछले दो महीने में मक्के की कीमतें 1700 रुपये प्रति क्विंटल से बढ़कर 2000 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है. यानी 17.64 फीसदी दाम बढ़ गए है.

ये भी पढ़ें-'जीरो बजट खेती' से 5.78 लाख किसानों ने की कमाई! जानिए इसके बारे में सबकुछ



 >> पॉल्ट्री इंडस्ट्री के कारोबारियों का कहना है कि चिकन उत्पादन लागत में 20 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. मौसम गर्म होने से चूजों (मुर्गी के बच्चे) के विकास पर असर पड़ा है.

>> अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में सप्लाई 10-15 फीसदी घट सकती है. वहीं, मुर्गी दानों की लागत में बढ़ोतरी का असर इसलिए ज्यादा नहीं पड़ा था कि तब चिकन की ज्यादा मांग थी.

>> अंडे और चिकन, दोनों से जुड़े कारोबारी अभी घाटे में काम कर रहे हैं. दक्षिणी राज्यों में कीड़े की मार के कारण मक्के की फसल कमजोर होने से भी दाम चढ़ा है.

ये भी पढ़ें-गरीबी से बर्बादी की कगार पर खड़े दुनिया के ये 5 बदहाल देश

>> सोयाबीन उत्पादक राज्यों में बेमौसम बारिश और बाढ़ से फसल को भारी नुकसान हुआ है. इसीलिए देश में सोयाबीन के दाम बढ़ गए है. बीते दो महीने में सोयाबीन के दाम करीब 400 रुपये प्रति कुंटल बढ़ा है.

(असीम मनचंदा, संवाददाता, सीएनबीसी आवाज़)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 12:47 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर