चीन की तानाशाही! Jack Ma को फिर निशाना बना रहे शी जिनपिंग? अब उठाया ये कदम

जैक मा (रॉयटर्स फाइल फोटो)

जैक मा (रॉयटर्स फाइल फोटो)

चीनी अरबपति जैक मा (Jack Ma) और उनकी कंपनी अलीबाबा (Alibaba) को चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) द्वारा फिर से एक बार निशाना बनाया जा रहा है. पिछले छह महीने से कम समय में ये तीसरा मौका है जब जैक मा के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

  • Share this:
नई दिल्ली. चीनी अरबपति जैक मा (Jack Ma) और उनकी कंपनी अलीबाबा (Alibaba) को चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) द्वारा फिर से एक बार निशाना बनाया जा रहा है. पिछले छह महीने से कम समय में ये तीसरा मौका है जब जैक मा के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. सोमवार को, राज्य-संचालित सिन्हुआ न्यूज एजेंसी का हवाला देते हुए, निक्केई एशिया ने बताया कि चार सरकारी एजेंसियों ने अलीबाबा संबद्ध Ant ग्रुप के साथ जॉइंट रेगुलेटरी बातचीत की थी.

चार सरकारी एजेंसियां कर रही पूछताछ

ये चार सरकारी एजेंसियां थीं- पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना, चाइना बैंकिंग एंड इंश्योरेंस रेग्युलेटरी कमीशन, चाइना सिक्योरिटीज रेगुलेटरी कमीशन और स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ फॉरेन एक्सचेंज. शिन्हुआ ने बताया कि सेंट्रल बैंक के डिप्टी गवर्नरों में से एक, पैन गोंगशेंग ने चारों विभागों की ओर से संवाददाताओं के सवालों के जवाब दिए. उन्होंने कहा कि वित्तीय अधिकारियों द्वारा एंट ग्रुप पर फिर से सवाल उठाने का कारण एकाधिकार को रोकना और पूंजी के गलत तरीके से विस्तार को रोकना था. निक्केई एशिया के मुताबिक, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी अक्टूबर के बाद से इसी तरह कारणों का हवाले देते हुए कार्रवाई कर रही है.

ये भी पढ़ें- SBI का हो जाएगा सिटी बैंक के क्रेडिट कार्ड का कारोबार? जानें ग्राहकों पर क्या होगा असर
क्या कहना है चीन सरकार का?

चीन सरकार का कहना है कि बाजार के एकाधिकार पर अंकुश लगाना और पूंजी के अव्यवस्थित विस्तार को रोकने के लिए ही इस तरह के कदम उठाए जा रहे हैं. रिपोर्ट में लिखा गया है कि इस तरह के नए बनाए गए नियमों का सहारा लेकर शी जिनपिंग राजनीतिक मकसद पूरा करने में लगे हैं. शी ने अपने इस विरोधी भ्रष्टाचार अभियान का इस्तेमाल निजी कंपनियों के खिलाफ किया.

रिपोर्ट में कहा गया कि चीन में जहां एक ही पार्टी के हाथ में सभी शक्तियां होती हैं, उसका किसी कंपनी के शीर्ष अधिकारियों से पूछताछ करने का मतलब कंपनी के लिए बुरे संकेत होते हैं, जबकि, अब से पहले दो बार पूछताछ हो चुकी है, तो फिर तीसरी बार पूछताछ क्यों?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज