होम /न्यूज /व्यवसाय /चीन ने दौड़ाई बिना बिजली-कोयले की सुपरफास्ट ट्रेन, यूरोप वाले दम लगाकर भी साइकिल से ज्यादा नहीं कर पाए स्पीड

चीन ने दौड़ाई बिना बिजली-कोयले की सुपरफास्ट ट्रेन, यूरोप वाले दम लगाकर भी साइकिल से ज्यादा नहीं कर पाए स्पीड

चीन में एशिया की पहली फास्ट हाइड्रोजन ट्रेन शुरू हो गई है. (फोटो साभार: CRRC)

चीन में एशिया की पहली फास्ट हाइड्रोजन ट्रेन शुरू हो गई है. (फोटो साभार: CRRC)

Fastest Hydrogen Train : चीन ने एक ऐसी ट्रैन बना ली है, जिसे चलने के लिए न बिजली की जरूरत और न ही तेल की जरूरत है. जी ह ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

यह ट्रेन एक बार में 373 मील यानी 600 किमी तक चल सकती है.
यह ट्रेन 5G टेक्नोलॉजी और एडवांस सेल्फ ड्राइविंग सिस्टम से लैस है.
भारत में ही ऐसी हाइड्रोजन ट्रेन बहुत जल्द पटरी पर उतर सकती है.

Fastest Hydrogen Train in the World: चीन ने एक ऐसी ट्रेन बना दी है, जिसे चलाने के लिए न तो तेल की जरूरत है, न बिजली की. यह पानी से चलेगी. इसे हाइड्रोजन ट्रेन कहा जाता है. हालांकि चीन से पहले भी कई देश हाइड्रोजन ट्रेन बना चुके हैं, मगर चीन ने इसकी स्पीड को लेकर जो काम किया है, वह अब तक नहीं हुआ था. बताया जा रहा है कि यह ट्रेन अधिकतम 100 मील प्रति घंटा यानी 160 किलामीटर की स्पीड से दौड़ सकेगी. इस हिसाब से यह दुनिया की सबसे तेज चलने वाली हाइड्रोजन ट्रेन है.

दुनिया के सबसे बड़े रेल निर्माता द्वारा बनाई गई यह ट्रेन हाइड्रोजन फ्यूल (Hydrogen Fuel) बैटरी से चलती है. इसका कार्बन उत्सर्जन जीरो है. इस ट्रेन को चीन की सरकारी कंपनी मोनोलिथ सीआरआरसी और चेंगदू रेल ट्रांजिट ने मिलकर विकसित किया है. यह चीन की पहली हाइड्रोजन से चलने वाली पैसेंजर ट्रेन भी है. यह एक बार में 373 मील यानी 600 किमी तक चल सकती है. मजेदार बात यह है कि इसके चलने पर प्रदूषण की जगह पानी बाहर आता है. यह ट्रेन 5G टेक्नोलॉजी, ऑटोमेटिक वेक-अप, स्टार्ट और सेल्फ ड्राइविंग सिस्टम से लैस है.

ये भी पढ़ें- आज भी रेलवे ने रद्द की 304 ट्रेनें, कौन सी गाड़ी हुई कैंसिल और किसका बदला रूट, चेक करें पूरी लिस्‍ट

जर्मनी की ट्रेन भी पीछे नहीं
जर्मनी इस तरह की हाइड्रोजन ट्रेन बनाने में आगे है. यहां पिछले साल से लगभग 14 हाइड्रोजन एल्सटॉम ट्रेनें पहले से ही चल रही हैं. चीन की हाइड्रोजन ट्रेन रफ्तार में जर्मन हाइड्रोजन ट्रेनों से आगे हैं. इनकी स्पीड सिर्फ 20 किमी प्रति घंटा है. हालांकि, रेंज के मामले में जर्मनी की ट्रेन बाजी मारती हैं. ट्रेन एक बार फ्यूल भरने पर 1,000 किमी तक चल सकती है.

ये भी पढ़ें-  5 स्टार होटल से कम नहीं रेलवे का ‘कोच सैलून’, AC फर्स्ट कोच भी इसके सामने फीका

चीन में सबसे ज्यादा हाइड्रोजन स्टेशन
दिलचस्प बात ये भी है कि जापान और कोरिया दुनिया के दो ऐसे देश हैं, जो परिवहन समाधान के रूप में ग्रीन हाइड्रोजन पर जोर ज्यादा जोर दे रहे हैं. नए आंकड़े बताते हैं कि दुनिया के सबसे ज्यादा हाइड्रोजन फ्यूल स्टेशन चीन में हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दुनिया में केवल 1,000 से अधिक हाइड्रोजन स्टेशन हैं और उनमें से लगभग एक-तिहाई चीन में हैं.

भारत में कब से चलेंगी हाइड्रोजन ट्रेन
चीन में एशिया की पहली हाइड्रोजन ट्रेन शुरू होने के बाद भारत में ही ऐसी ट्रेन जल्द ही पटरी पर उतर सकती है. हाल ही में रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने दोहराया कि भारतीय रेलवे दिसंबर 2023 तक स्वदेशी हाइड्रोजन ट्रेनों को चालू करेगा. इससे पहले भी कई बार मंत्री ने समयरेखा की पुष्टि की थी. पहली बार उन्होंने कहा कि हाइड्रोजन ट्रेन दिसंबर तक अपने नैरो गेज मार्गों पर चलेगी. इन ट्रेनों को चीन और जर्मनी की तर्ज पर बनाया जाएगा.

Tags: AC Trains, Ashwini Vaishnaw, Bullet train, Bullet Train Project, China, Indian railway, Indian Railway news, Indian Railways, Japan, New train, Train, Train ticket

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें