चीन ने भारत के साथ दोस्ती गहरी करने के लिए चली नई चाल! India को दिया इस प्रोजेक्ट में शामिल होने का ऑफर

चीन ने भारत के साथ दोस्ती गहरी करने के लिए चली नई चाल! India को दिया इस प्रोजेक्ट में शामिल होने का ऑफर
चीन ने भारत से दोस्ती करने के लिए चली नई चाल! India को दिया ये ऑफर

चीन ने लद्दाख सीमा पर भारत (India-China) से तनाव के बीच नई चाल चलते हुए भारत के सामने आर्थिक तरक्की के लिए चीन के बीआरआई प्रोजेक्ट में शामिल होने का ऑफर दिया है. उसका कहना है कि इससे भारत को आर्थिक रूप से फायदा होगा जबकि बीआरआई चीन का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट (BRI Project) है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. चीन ने लद्दाख सीमा पर भारत (India-China) से तनाव के बीच नई चाल चलते हुए भारत के सामने आर्थिक तरक्की के लिए चीन के बीआरआई प्रोजेक्ट में शामिल होने का ऑफर दिया है. उसका कहना है कि इससे भारत को आर्थिक रूप से फायदा होगा जबकि बीआरआई चीन का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट (BRI Project) है. चीन के लद्दाख सीमा पर हजारों सैनिकों को तैनात करने के बाद भारत के सैनिकों की तरफ से प्रतिरोध के बाद चीन ने इस तनाव को कम करने और भारत से संबंध सुधारने के लिए भारत को बीआरआई का प्रस्ताव दिया है. चीन का कहना है कि बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) भारत की आर्थिक तरक्की के लिए काफी अवसर उपलब्ध करायेगा.

चीन सरकार के ग्लोबल टाइ्म्स में छपे लेख के अनुसार चीन ने भारत को BRI का प्रस्ताव दिया गया है. उसमें कहा गया है कि चीन के प्रस्तावित BRI प्रोजेक्ट के कारण भारत को आर्थिक रूप से फायदा होगा. BRI प्रोजेक्ट का उद्देश्य देश और संबंधित क्षेत्रों का विकास करना है.

ये भी पढ़ें:- PM-Kisan के तहत अगर नहीं मिली 2000 रु की किस्त, तो क्या वापस आएगी पूरी रकम?










भारत में विदेशी निवेश बढ़ेगा: चीन 
लेख में आगे कहा गया है कि बुनियादी सुविधाओं में निवेश करने के बाद BRI प्रोजेक्ट से भारत को बड़े अवसर उपलब्ध होंगे और भारत में विदेशी निवेश बढ़ेगा. इसलिए भारत के औद्योगिक विकास के लिए ये निवेश काफी महत्वपूर्ण साबित होगा.

पिछले कुछ सालों से भारत की इकोनॉमी तेजी से बढ़ रही है: चीन
महाराष्ट्र टाइम्स में छपी खबर के मुताबिक चीन ने कहा है कि पिछले कुछ सालों से भारत की इकोनॉमी तेजी से बढ़ रही है. लेकिन बुनियादी सुविधाएं पर्याप्त रूप से विकसित नहीं होने के कारण उसकी तरक्की में अड़चन आ रही है. भारत ने 1991 से आर्थिक सुधार किये हैं परंतु आर्थिक संकट, व्यापार नुकसान, महंगाई का संकट भी है.

ये भी पढ़ें:- Monsoon Update: देश की अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करेगा मानसून! आज यहां हो सकती है तेज बारिश

भारत बीआरआई प्रोजेक्ट में निवेश करता है तो उसकी कई समस्याएं दूर हो जायेंगी
चीन ने आगे कहा कि यदि भारत बीआरआई प्रोजेक्ट में निवेश करता है तो बड़े पैमाने पर उसकी समस्याएं दूर हो जायेंगी. कोरोना संकट के बाद सभी देश आर्थिक विकास के लिए प्रयास करने वाले हैं. इसलिए हिंद महासागर और अगल-बगल का परिसर बीआरआई प्रोजेक्ट के लिए उपयुक्त है.

चीन ने पाकिस्तान के साथ मिल कर इकोनॉमिक कोरीडोर का प्रोजेक्ट शुरु किया
इस बीच भारत ने इसके पहले ही बीआरआई प्रोजेक्ट में सहभागी होने का प्रस्ताव अस्वीकार कर दिया था. भारत का कहना है कि चीन का ये प्रोजेक्ट भारत की संप्रभुता और सार्वभौमिकता के लिए खतरा है. चीन ने पाकिस्तान के साथ मिल कर इकोनॉमिक कोरीडोर का प्रोजेक्ट शुरु किया है जिसका भारत ने विरोध किया है. इस कोरीडोर का रास्ता पाक द्वारा कब्जा किये गये कश्मीर के गिलगिट-बाल्टिस्तान से होकर गुजरता है.

ये भी पढ़ें:- लाखों पेंशनर्स के लिए बड़ी खुशखबरी, EPFO ने जारी किए 868 करोड़ रुपये
First published: June 2, 2020, 2:53 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading