लाइव टीवी

चीन के जानलेवा कोरोना वायरस की वजह से भारत में सस्ता हो सकता हैं पेट्रोल, जानिए कैसे?

News18Hindi
Updated: January 22, 2020, 7:25 PM IST
चीन के जानलेवा कोरोना वायरस की वजह से भारत में सस्ता हो सकता हैं पेट्रोल, जानिए कैसे?
गोल्डमैन सैक्स की रिपोर्ट के मुताबिक, मौजूदा वायरस के चलते चीन में डिमांड गिर सकती हैं.

चीन में फैले कोरोना वायरस (जिसे वुहान वायरस भी कहा जा रहा है) की वजह से क्रूड की डिमांड घट सकती हैं. ऐसे में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चा तेल 3 डॉलर प्रति बैरल तक सस्ता हो सकता है. लिहाजा भारत में पेट्रोल-डीज़ल सस्ता होने की उम्मीद और बढ़ गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 22, 2020, 7:25 PM IST
  • Share this:
मुंबई. चीन में फैले कोरोना वायरस (जिसे वुहान वायरस भी कहा जा रहा है) की वजह से दुनियाभर के देश अलर्ट पर हैं. इस माहौल में चीन की ओर से क्रूड की डिमांड घट सकती हैं. ऐसे में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चा तेल 3 डॉलर प्रति बैरल तक सस्ता हो सकता है. कच्चा तेल सस्ता होने से भारत में पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों में गिरावट आने की उम्मीद है. बड़ी रेटिंग एजेंसी गोल्डमैन सैक्स ने क्रूड की कीमतों को लेकर अपनी ताजा रिपोर्ट जारी की है. इसी रिपोर्ट में उन्होंने इस बात का जिक्र किया है.

डिमांड घटने से क्रूड होगा सस्ता- भारत की तरह चीन भी अपनी जरूरत का 90 फीसदी क्रूड ऑयल यानी कच्चा तेल विदेशी बाजार से खरीदता है. आंकड़ों के मुताबिक, साल 2019 में चीन ने रिकॉर्ड 50.6 करोड़ टन कच्चा तेल खरीदा था. गोल्डमैन सैक्स की रिपोर्ट के मुताबिक, मौजूदा वायरस के चलते चीन में डिमांड गिर सकती हैं. लिहाजा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रूड के 3 डॉलर प्रति बैरल तक सस्ता होने की उम्मीद है. आपको बता दें कि जनवरी महीने में ब्रेंट क्रूड की कीमतें 70 डॉलर प्रति बैरल से गिरकर 64 डॉलर प्रति बैरल पर आ गई हैं. इस हिसाब से 1 जनवरी से 21 जनवरी तक कच्चा तेल 9 फीसदी तक सस्ता हो गया है.

एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर कच्चा तेल सस्ता होता है इसका सीधा फायदा भारत के कंज्यूमर को मिलेगा. घरेलू स्तर पर पेट्रोल के दाम 2 रुपये प्रति लीटर तक कम होने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें-PF के नियमों में हो सकता है बड़ा बदलाव! इन लोगों को होगा फायदा

कैसे तय होते हैं पेट्रोल-डीज़ल के दाम
जिस कीमत पर हम पेट्रोल पंप से पेट्रोल खरीदते हैं उसका करीब 48 फीसदी बेस प्राइस यानी आधार मूल्य होता है. इसके बाद बेस मूल्य पर करीब 35 फीसदी एक्साइज ड्यूटी, 15 फीसदी सेल्स टैक्स और दो फीसदी कस्टम ड्यूटी लगाई जाती है.

क्या है ईंधन का बेस प्राइस? तेल के बेस प्राइस में कच्चे तेल की कीमत (क्रूड), प्रोसेसिंग चार्ज और कच्चे तेल को रीफाइन करने वाली रिफाइनरियों का चार्ज शामिल होता है.

अब तक फ्यूल प्राइस को GST में शामिल नहीं किया गया है. इस वजह से इस पर एक्साइज ड्यूटी भी लगती है और वैट भी. केंद्र सरकार पेट्रोल की बिक्री पर एक्साइज ड्यूटी वसूलती है, जबकि राज्य सरकारें वैट वसूलती हैं.

भारत ने उठाएं कड़े कदम- देश की राजधानी दिल्ली समेत मुंबई, चेन्नई, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोच्चि और कोलकाता हवाईअड्डों पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है. चीन और हांगकांग से लौटे यात्रियों की थर्मल जांच की जाएगी.

यात्रियों को विमान में चढ़ने से पहले सेल्फ़ रिपोर्टिंग फॉर्म भरना होगा.नागरिक उड्डयन मंत्रालय की ओर से जारी निर्देशों के अनुसार देश के सात हवाई अड्डों पर सभी ज़रूरी व्यवस्थाएं की गई हैं. मंत्रालय का कहना है कि वे इन सभी हवाई अड्डों के संपर्क में हैं ताकि स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रक्रिया का पूरी तरह से पालन किया जा सके.

ऐसे पता करें अपने शहर में पेट्रोल-डीज़ल के दाम- अगर आप सुबह 6 बजे के बाद पेट्रोल-डीज़ल का रेट चेक करना चाहते हैं तो 92249 92249 नंबर पर sms भेजकर भी पेट्रोल-डीजल के भाव के बारे में पता कर सकते हैं.

इसके लिए आपको RSP<स्पेस> पेट्रोल पंप डीलर का कोड लिखकर 92249 92249 पर भेजना पड़ेगा. मतलब साफ है कि आप अगर दिल्ली में हैं और मैसेज के जरिये पेट्रोल-डीजल का भाव जानना चाहते हैं तो आपको RSP 102072 लिखकर 92249 92249 पर भेजना होगा.

ये भी पढ़ें-कैबिनेट का बड़ा फैसला, अब इन दो केंद्र शासित प्रदेशों में भी लागू होगा GST

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 6:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर