अपना शहर चुनें

States

TikTok पर भारत में हमेशा के लिए लगेगी पाबंदी! 58 दूसरे चीनी मोबाइल ऐप्‍स पर भी रहेगी स्‍थायी रोक

केंद्र सरकार टिकटॉक समेत दूसरी चीनी ऐप्‍स कंपनियों के स्‍पष्‍टीकरण से संतुष्‍ट नहीं है.
केंद्र सरकार टिकटॉक समेत दूसरी चीनी ऐप्‍स कंपनियों के स्‍पष्‍टीकरण से संतुष्‍ट नहीं है.

केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) चीन की मोबाइल ऐप्‍स (Chinese Mobile Apps) कंपनियों की ओर से दिए स्‍पष्‍टीकरण से संतुष्‍ट नहीं है. इसलिए टिकटॉक (TikTok) समेत कुल 59 चीनी ऐप्‍स पर भारत (Chinese Apps Ban in India) में हमेशा के लिए पाबंदी लगाने की तैयारी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 26, 2021, 12:24 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्रालय (Ministry of Electronics and Information Technology) ने टिकटॉक (TikTok) समेत चीन के 59 मोबाइल ऐप्‍स पर भारत में स्‍थायी प्रतिबंध (Chinese Apps Ban in India) लगाने का नोटिस जारी किया है. मामले से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार चीनी ऐप्‍स कंपनियों की ओर से दिए गए स्‍पष्‍टीकरण से संतुष्‍ट नहीं है. इसलिए इन 59 ऐप्‍स को भारत में हमेशा के लिए बंद करने (Permanent Ban) का फैसला लिया जा रहा है.

कंपनियों को स्‍थायी पाबंदी से पहले दिया अपना पक्ष रखने का मौका
चीनी ऐप्‍स पर स्‍थायी पाबंदी के मामले से जुड़े अधिकारी ने बताया कि नोटिस पिछले सप्‍ताह जारी कर दिया गया था. केंद्रीय सूचना व प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने जून 2020 में ही इन 59 ऐप्‍स पर पाबंदी लगा दी थी. इनमें अलीबाबा का यूसी ब्राउजर (UC Browser) और टेंसेंट का वीचैट (WeChat) ऐप भी शामिल था. केंद्र सरकार ने देश की संप्रभुता और अखंडता (Sovereignty & Integrity) के साथ ही सुरक्षा को खतरा बताते हुए इन ऐप्‍स पर पाबंदी लगाई थी. इसके बाद केंद्र सरकार ने स्‍थायी पाबंदी लगाने से पहले इन कंपनियों को अपना पक्ष रखने का एक मौका दिया था.

ये भी पढ़ें- 8 साल पुराने वाहनों के मालिकों को झटका! नितिन गडकरी ने Green Tax प्रस्‍ताव को दी मंजूरी, जानें कितना लगेगा चार्ज




कंपनियों को दी गई थीं सवालों की सूची, विस्‍तार से देना था जवाब
मंत्रालय ने सभी कंपनियों को कुछ सवालों की सूची भी भेजी थी, जिनका उन्‍हें विस्‍तार से जवाब देना था. केंद्र सरकार ने इंफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी एक्‍ट के सेक्‍शन-69A के तहत इन चीनी मोबाइल ऐप्‍स पर पाबंदी लगाई थी. इसके बाद पिछले 6 महीनों में सकरार ने 208 दूसरे चीनी ऐप्‍स पर भी पाबंदी लगाई. बता दें कि लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद शुरू हुए तनाव के बीच मोदी सरकार ने चीनी ऐप्‍स पर बैन लगाया था. इसके बाद दोनों के बीच राजनयिक और सैन्‍य स्‍तर की कई दौर की बातचीत हुई, लेकिन सीमा विवाद का कोई हल अब तक नहीं निकल पाया है.

ये भी पढ़ें- YES Bank के फाउंडर की मुश्किलें नहीं हो रही हैं कम, कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका, अभी जेल से नहीं छूटेंगे राणा कपूर

टिकटॉक ने कहा, हमने किया भारत सरकार के निर्देशों का पालन
टिकटॉक के एक प्रवक्‍ता ने कहा कि नोटिस को पढ़ने के बाद हम कोई जवाब दे पाएंगे. उन्‍होंने कहा कि टिकटॉक पहली कंपनी है, जिसने 29 जून 2020 को भारत सरकार की ओर से जारी किए गए निर्देशों का पालन किया. हम लगातार स्‍थानीय कानून और नियमों का पालन करने के लिए प्रतिबंद्ध रहते हैं. साथ ही सरकार की ओर से जताई गई किसी भी चिंता का तत्‍काल समाधान तलाशने को तैयार रहते हैं. यूजर्स की प्राइवेसी और डाटा की सुरक्षा हमारे शीर्ष प्राथमिकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज