होम /न्यूज /व्यवसाय /हेल्थ इंश्योरेंस में इस विकल्प का सावधानी से करें चयन, वरना क्लेम में आ सकती है बड़ी परेशानी, जानें कैसे

हेल्थ इंश्योरेंस में इस विकल्प का सावधानी से करें चयन, वरना क्लेम में आ सकती है बड़ी परेशानी, जानें कैसे

हेल्थ इंश्योरेंस में रूम रेंट सब लिमिट से जुड़ी शर्तों को ध्यान से पढ़ें और करें चयन (फाइल फोटो)

हेल्थ इंश्योरेंस में रूम रेंट सब लिमिट से जुड़ी शर्तों को ध्यान से पढ़ें और करें चयन (फाइल फोटो)

Health Insurance Claim Conditions: हेल्थ इंश्योरेंस में आपके अस्पताल बिलों के सभी खर्चों का भुगतान किया जाता है बशर्ते ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में हॉस्पिटल रूम से जुड़े खर्चों पर कैपिंग होती है, इसे रूम रेंट लिमिट कहते हैं
रूम रेंट सब लिमिट आमतौर पर सभी पॉलिसी में बीमाधन की 1-2 फीसदी तक होती है
बीमित व्यक्ति इस सब लिमिट से ज्यादा का रूम नहीं ले सकता है वरना शेष राशि खुद देनी होती है

नई दिल्ली: जब भी आप हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते हैं तो आप हमेशा यह उम्मीद करते हैं कि क्लेम आने पर कंपनी सभी बिलों का भुगतान करे. इनमें अस्पताल के बिल से लेकर अन्य सभी खर्चे शामिल हैं, जो पॉलिसी और बीमाधन के तहत कवर किए जाते हैं. लेकिन कुछ कारण ऐसे हैं जो आपको पूरी क्लेम राशि प्राप्त करने से रोकते हैं भले ही आपका क्लेम लिमिट के अंदर ही क्यों न हो. ऐसा ही एक कारण है हेल्थ इंश्योरेंस में हॉस्पिटल रूम रेंट सब लिमिट, जो कि आपके लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है. जानें कैसे….

आमतौर पर हेल्थ इंश्योरेंस में आपके अस्पताल बिलों के सभी खर्चों का भुगतान किया जाता है बशर्ते कि ये सभी खर्चे बीमित राशि की सीमा के अंदर हो. लेकिन कुछ हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी में हॉस्पिटल रूम से जुड़े खर्चों पर कैपिंग यानी एक सीमा होती है, इसे रूम रेंट लिमिट कहा जाता है. पॉलिसी खरीदते समय आप अस्पताल के रूम रेंट को लेकर उपलब्ध विकल्पों को चुन सकते हैं जो कि बीमाधन का 1-2 फीसदी होता है.

ये भी पढ़ें: 5 लाख का हेल्थ इंश्योरेंस कवर काफी है या 1 करोड़ का? जानिए क्या सुझाव देते हैं एक्सपर्ट्स

उदाहरण के लिए स्टैंडर्डराइज्ड आरोग्य संजीवनी पॉलिसी सभी बीमाधारकों को रूम रेंट के तौर पर बीमाधन का 2 फीसदी या 5 हजार रुपए प्रतिदिन ऑफर करता है. बीमा राशि के अनुसार यह रकम कम भी हो सकती है.

रूम रेंट सब लिमिट में निर्धारित होती है एक निश्चित राशि
रूम रेंट लिमिट के तहत आपको एक निश्चित राशि जो कि पॉलिसी में रूम रेंट के लिए निर्धारित की गई है, उसी के अनुसार आप अस्पताल में रूम ले सकते हैं. आप अपनी पसंद के कमरे का चयन करने के लिए स्वतंत्र नहीं हैं. मान लीजिये आपके पास 5 लाख रुपए बीमाधन की हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी है और आप अस्पताल में सिंगल रूम लेना चाहते हैं जिसका किराया रोजाना 6 हजार रुपए है लेकिन पॉलिसी में रूम रेंट के लिए सिर्फ बीमाधन के एक फीसदी की अनुमति है. इस स्थिति में आपको कम खर्च वाला रूम या शेयर्ड रूम सिलेक्ट करना होगा.

ये भी जानें: बेहतर हेल्थ इंश्योरेंस प्लान किस तरह चुनें, परिवार के लिए कौन-सा होगा परफेक्ट, 5 प्वाइंट में समझिए

हेल्थ पॉलिसी चुनते समय कुछ पॉलिसी फीचर्स नुकसानदेह साबित हो सकते हैं. इमें रूम-रेंट सब-लिमिट और को-पे रेश्यो दो ऐसे फैक्टर हैं जो आपके इंश्योरेंस कवर की उपयोगिता को प्रभावित कर सकते हैं वह भी तब जब आपको इसकी सबसे ज्यादा जरूरत होती है. ऐसे में हेल्थ पॉलिसी लेते समय रूम रेंट सब लिमिट का चयन और इससे जुड़ी शर्तों को ध्यान ने पढ़ना व समझना चाहिए.

Tags: Health Insurance, Insurance Policy

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें